फिल्म हम दो हमारे बारह की कॉन्ट्रोवर्सी पर डायरेक्टर बोले:हमारी कहानी जनसंख्या के मुद्दे पर बेस्ड है, यह मुस्लिमों को टारगेट नहीं करती

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक

अन्नू कपूर की अपकमिंग फिल्म ‘हम दो हमारे बारह’ अनाउंस हुई है। इसमें वो एक ऐसे मुस्लिम शख्स की भूमिका निभा रहें हैं, जिनके बारह बच्चे हैं। फिल्म के डायरेक्टर कमल चंद्रा हैं। उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि फिल्म में जनसंख्या का मुद्दा है, मगर यह मुस्लिमों को टारगेट नहीं करती।

दैनिक भास्कर से बातचीत में कमल बताते हैं, ‘इसकी कहानी राजन अग्रवाल की है। राजन बरसों से अनीस बज्मी के साथ जुड़े रहें हैं। उन्होंने इसका आयडिया हमारे प्रोड्यूसर्स के साथ शेयर किया, तो वह सबको बेहद पसंद आई। फिल्म में जनसंख्या वृद्धि के साइड इफेक्ट्स पर कहानी गढ़ी गई है। हमारे निर्माताओं को भी लगा कि यह रिलेवेंट मुद्दा है। हमारी फिल्म सिर्फ पॉपुलेशन एक्सप्लोजन पर बेस्ड नहीं है।’

राशिद खान हमारी फिल्म का म्यूजिक दे रहे हैं
फिल्म का टॉपिक बेहद जरूरी मुद्दा है। तभी अन्नू कपूर से लेकर मनोज जोशी, अश्विनी कालसेकर और बाकी कलाकार एक बार में राजी हो गए। कमल बताते हैं, ‘हमें यह टाइटल भी आसानी से मिल गया था। हम नए साल जनवरी में शूट पर जा रहें हैं। हम ओल्ड लखनऊ या पुराने भोपाल में शूट करेंगे। राशिद खान हमारी फिल्म का म्यूजिक दे रहे हैं। इससे पहले उनहोंने ‘शादी में जरूर आना’ और ‘नौटंकी साला’ में म्यूजिक दिया है। इस फिल्म के प्रोड्यूसर भी वही हैं, जिन्होंने ‘बूंदी रायता’ बनाई थी।’

हमने किसी की भावनाओं का मजाक नहीं उड़ाया है
कमल जोर देकर बताते हैं कि हम किसी धर्म को टारगेट नहीं कर रहे। अगर हमने मुस्लिमों की बजाय हिंदू, सिख या इसाई धर्म से जुड़े लोगों को पोस्टर पर रखते तो लोग कहते कि हम तो उस धर्म के विरोधी हैं। हम किसी धर्म के विरोधी नहीं हैं। हम अपनी फिल्म से एक कहानी बयान कर रहें हैं, जो सोशल मैसेज देगी। हमने किसी की भावनाओं का मजाक नहीं उड़ाया है।

खबरें और भी हैं...