पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंटरव्यू:हुमा कुरैशी ने बताया-'महारानी' से मेरे किरदार की फोटो खींचकर जब मम्मी को भेजी, तब उसे देखकर जोर-जोर से हंसने लगीं

मुंबई4 महीने पहलेलेखक: उमेश कुमार उपाध्याय
  • कॉपी लिंक

एक्ट्रेस हुमा कुरैशी की हॉलीवुड फिल्म 'आर्मी ऑफ द डेड' हाल ही में रिलीज हुई है। वहीं उनकी OTT प्लेटफॉर्म 'सोनी लिव' पर वेब सीरीज 'महारानी' भी आने वाली है। इसके अलावा वे तमिल फिल्म भी कर रही हैं। उनका मानना है कि अलग-अलग इंडस्ट्री में काम करने में मजा आता है और बतौर एक्टर ग्रो भी करते हैं। हुमा ने हाल ही में दैनिक भास्कर से खास बातचीत में अपने रोल, उसकी तैयारी, हॉलीवुड में काम पाने आदि के बारे में बताया।

Q. महारानी में अपने किरदार रानी भारती और उसके लिए खास तैयारी करने के बारे में बताइए?
A. रानी भारती अनपढ़ और बिहार के गांव में रहने वाली औरत है। वह अपने गांव से बाहर कहीं गई नहीं है। उसने पटना शहर तक नहीं देखा है। घर की चारदीवारी में रहकर खाना बनाना, गाय, भैंस, बकरी की देखभाल करना, यही उसका जीवन है। अगर ऐसी औरत को इस तरह कुछ बना दें, तब वह बेचारी कैसे हैंडल करेगी। इस फिक्शन कहानी के थ्रू हमने बहुत सारे इंपोर्टेंट मुद्दों के बारे में बात की है। जैसे-वूमन लिटरेसी, सरकार में औरतों का रीप्रजेंटेशन हो गया, हमारे शहरों की बड़ी समस्याएं हैं। इन्हें कैसे अनपढ़ औरत हैंडल करती है, उसका नजरिया क्या है, यह उसकी कहानी है। इसे निभाना मुश्किल था, पर हमारे राइटर, डायरेक्टर ने बड़ी मदद की, इसलिए मैं कर पाई। वह कैसे साड़ी पहनती है, उठती-बैठती है, बिछिया, नथनी, बिंदी, सिंदूर, पायल आदि सुहागन के सारे सिंगार करके रखती है। इन सबको वह कैसे कैरी करती है, उसके लिए काफी वर्कशॉप किया। एक बार कैरेक्टर में ढल गई, तब काम करने में बहुत मजा आया।

Q. ट्रेलर देखकर लोगों का कैसा फीडबैक रहा?
A. टीजर और ट्रेलर देखकर लोगों का सबसे अच्छा रिएक्शन यह मिला कि हमने तो आपको पहचाना ही नहीं। किसी रेड कारपेट या फिल्म के लिए अलग तरीके से साड़ी पहनकर जाती हूं, लेकिन यहां डिफरेंट तरीके-से पहननी थी। मुझे याद है, वर्कशॉप कर रही थी, तब अपने कॉस्ट्यूम डिजाइनर को फोन करके बोला कि वर्कशॉप के लिए जा रही हूं। लेकिन, सबको डाउट है कि यह कैरेक्टर में ठीक लग पाऊंगी कि नहीं। उन्होंने साड़ी भेजकर बताया, तब उस तरीके से पहनकर रानी भारती के वर्कशॉप के लिए गई। वहां मुझे देखकर लोग अचंभित हो गए थे।

Q. मांग में सिंदूर, बिंदी, बिछिया, साड़ी पहनकर जब आईने में खुद को देखा होगा, तब अपना ही रिएक्शन क्या रहा?
A. मैं तो शॉक्ड थी, लेकिन मुझसे ज्यादा मेरे घरवाले शॉक्ड में थे। रानी भारती के लुक में फोटो खींचकर जब मम्मी को भेजा, तब देखकर जोर-जोर से हंसने लगीं। मुझसे पूछने लगीं- यह कौन है? मैंने बताया- मैं हूं। वे कहने लगीं-यह हमारी बेटी नहीं है। मैंने कहा कि अगर गांव में पैदा हुई होती, तब शायद ऐसे ही दिखती। यह सबके लिए काफी सरप्राइजिंग रहा।

Q. आप ठहरीं पढ़ी-लिखी, फिर अनपढ़ का किरदार निभाना कितना मुश्किल रहा?
A. मेरी लाइफ का यह रोल करना सबसे मुश्किल और कठिन रहा। मैं दिल्ली में पैदा हुई, मुंबई में रहती हूं, कभी छोटे शहर में गई नहीं। आपको जो नहीं पता है, उसे दिखाना मेरे लिए मुश्किल भरा काम था। दरअसल, रानी भारती अनपढ़ है, पर वह बेवकूफ नहीं है। वह समझदार महिला है। एक बेवकूफ का रोल भी प्ले करना आसान होता है। लेकिन समझदार का रोल प्ले करना कठिन होता है। इसके लिए सबसे ज्यादा राइटर सुभाष कपूर और डायरेक्टर करण शर्मा ने कैरेक्टर को समझने में मेरी बड़ी मदद की।

Q. क्या सीन करते समय लैंग्वेज को लेकर कोई फनी बात भी हुई?
A. मैं लैंग्वेज को लेकर काफी कॉन्फिडेंट थी। कोई ऐसी बात होती थी, तब सेट पर मौजूद राइटर, डायरेक्टर से पूछती थी। क्या और कैसे बोलना चाहिए। हां, इसमें मेरा एक पर्सनल एडिशनल है, जो टीजर में मैं किसी बंदे को चिरांदू बोलती हूं। अब मुझे पता नहीं कि यह रियल चीज है या मैं बनाई, पर मैंने कहीं से सुनी है।

Q. समय के पाबंद अक्षय कुमार के साथ बेल बॉटम में काम करने का अनुभव कैसा रहा?
A. उनके साथ काम करके बहुत मजा आया। उनकी वजह से हम पांच-छह बजे तक शूटिंग खत्म कर लेते थे। उनके साथ काम करके डिसिप्लिन में आ जाते हैं, क्योंकि वे टाइम से उठते हैं, एक्सरसाइज और काम करके टाइम से सो जाते हैं।

Q. हॉलीवुड प्रोजेक्ट आपको कैसे मिला? हॉलीवुड और बॉलीवुड में काम करने का तौर-तरीका कितना अलग है?
A. एलए में कास्टिंग डायरेक्टर से मिली तो उनके थ्रू यह प्रोजेक्ट मुझे मिला। हॉलीवुड में काम करके बहुत मजा आया, क्योंकि मुझे डिसिप्लिन में काम करना अच्छा लगता है। वे टाइम से काम शुरू करते हैं और टाइम पर खत्म करते हैं। लोगों के टाइम की और अपने टाइम की भी बहुत इज्जत करते हैं। ऐसे काम करने में मुझे बहुत मजा आता है।

Q. आगे की व्यस्तता क्या है?
A. मेरे लिए यह मई का महीना बहुत बिजी महीना है। अभी हॉलीवुड की फिल्म 'आर्मी ऑफ द डेड' रिलीज हुई है। लोगों से बहुत सारी बधाइयां, शुभकामनाएं मिल रही हैं। मैं सभी के फीडबैक की अभारी हूं। बहुत ज्यादा खुश हूं। अब महारानी रिलीज पर है। इसके अलावा दिल्ली में 100 बेड का कोविड-19 हॉस्पिटल खोल रहे हैं। इन्हीं चीजों में मशगूल हूं।

खबरें और भी हैं...