75वां कान्स फिल्म फेस्टिवल:भारत के शौनक सेन की 'आल दैट ब्रीद' ने कान्स में बेस्ट डॉक्यूमेंट्री का 'गोल्डन आई अवॉर्ड' जीता

अजित राय4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

75वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में स्वीडन के डायरेक्टर रूबेन ओसलुंड को उनकी फिल्म 'ट्रांएगल ऑफ सैडनेस' के लिए बेस्ट फिल्म का पाम डि ओर अवॉर्ड दिया गया है। रूबेन ओसलुंड ने इससे पहले साल 2017 में हुए 70वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में भी उनकी फिल्म 'द स्क्वेयर' के लिए बेस्ट फिल्म का पाम डि ओर अवॉर्ड जीता था। जबकि, भारत के शौनक सेन की डाक्यूमेंट्री 'आल दैट ब्रीद' को कान्स में गोल्डन आई अवॉर्ड मिला है। इसके अलावा उन्हें सनडांस फिल्म फेस्टिवल में ग्रैंड जूरी जैसे कई दूसरे पुरस्कार भी मिले हैं।

अविनाश को 'लोरी' के लिए शॉर्ट फिल्म सेगमेंट में स्पेशल मेंशन का अवॉर्ड मिला
वहीं फेस्टिवल में नेपाल के अविनाश विक्रम शाह को उनकी फिल्म 'लोरी' के लिए शॉर्ट फिल्म सेगमेंट में स्पेशल मेंशन का अवॉर्ड मिला है। कान्स फिल्म समारोह के इतिहास में पहली बार कोई पाकिस्तानी फिल्म ऑफिशियल सेलेक्शन में शामिल हुई है। यह फिल्म सैम सादिक की है, जिसका नाम 'ज्वाय लैंड' है। इस फिल्म को अन सर्टेन रिगार्ड में जूरी प्राइज से नवाजा गया।

'क्लोज' ने जीता 'ग्रैंड प्रिक्स' अवॉर्ड
फेस्टिवल का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण पुरस्कार 'ग्रैंड प्रिक्स' बेल्जियम के लुकास धोंट की फिल्म 'क्लोज' और फ्रांस के क्लेयर डेनिस की फिल्म 'स्टार्स ऐट नून' को संयुक्त रूप से मिला। बेस्ट डायरेक्टर का अवॉर्ड साउथ कोरिया के पार्क चान वुक को उनकी थ्रीलर फिल्म 'डिसीजन टु लीव' के लिए प्रदान किया गया। बेस्ट स्क्रिप्ट का अवॉर्ड इजिप्ट मूल के स्वीडिश फिल्ममेकर तारिक सालेह को उनकी फिल्म 'ब्वॉय फ्रॉम हेवन' के लिए मिला है। 'जूरी प्राइज' बेल्जियम के फेलिक्स वान गोएनिंजेन और शरलोट वांडेरमियर को उनकी फिल्म 'दि एट माउंटेन' और पोलैंड के जेर्जी स्कोलिमोवस्की की फिल्म 'ईओ' को दिया गया।

सोंग कांग हो ने 'ब्रोकर' के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड जीता
कान्स फिल्म फेस्टिवल की 75वीं एनिवर्सरी पर 'प्रिक्स 75' का स्पेशल अवॉर्ड भी बेल्जियम के ज्यां पियरे डारडेन और लुक डारडेन बंधुओं को उनकी फिल्म 'टोरी एंड लोकिता' के लिए मिला है। ईरानी मूल के डेनिश फिल्ममेकर अली अब्बासी की 'होली स्पाइडर' में यादगार भूमिका के लिए जार अमीर इब्राहिमी को बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड दिया गया। वहीं जापानी फिल्ममेकर कोरे ईडा हिरोकाजू की साउथ कोरियाई फिल्म 'ब्रोकर' में बेस्ट एक्टिंग के लिए सोंग कांग हो ने बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड जीता। इस फेस्टिवल की क्लोजिंग सेरेमनी में फ्रेंच एक्टर विंसेंट लिंडो (प्रेसिडेंट), ईरानी डायरेक्टर असगर फरहादी, इंडियन एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण समेत कई जूरी मेंबर्स ने इन अवॉर्ड्स की अनाउंसमेंट की थी। फेस्टिवल में इस बार 147 बेहतरीन फिल्मों को दिखाया गया था। यह फेस्टिवल 17 मई से शुरू हुआ था, जो 28 मई तक चला।

सबसे ज्यादा इंडियंस इस बार फेस्टिवल में शामिल हुए
कोरोना के बाद यह सबसे बड़ा ऐसा फिल्म फेस्टिवल था, जिसमें स्वास्थ्य संबंधी कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया। इस साल भारत की आजादी की भी 75वीं जयंती है और सबसे ज्यादा इंडियन इस बार फेस्टिवल में शामिल हुए थे। ऑफिशियल सिलेक्शन में टोटल चार भारतीय फिल्में थीं, जो हाउसफुल गईं और जिन्हें विदेशी दर्शकों ने खूब पसंद किया। कान्स क्लासिक में इंडियन नेशनल फिल्म आर्काइव (पुणे) द्वारा संरक्षित सत्यजीत राय की बांग्ला फिल्म 'प्रतिद्वंद्वी' (1970) और शिवेंद्र सिंह डूंगरपुर द्वारा संरक्षित जी अरविंदम की मलयालम फिल्म 'थम्प, द सर्कस टेंट (1978) दिखाई गई।

स्पेशल स्क्रीनिंग में दिल्ली के शौनक सेन की फीचर डाक्यूमेंट्री 'आल दैट ब्रीद' और प्रथम खुराना की शॉर्ट फिल्म 'नौहा' को काफी पसंद किया गया। कान्स फिल्म फेस्टिवल में भले ही भारत को 'कंट्री ऑफ ऑनर' का दर्जा दिया गया हो, या दीपिका पादुकोण को मुख्य जूरी में लिया गया हो, पूरे समारोह में भारत की उपस्थिति मुख्य थी। भारत की उपस्थिति इंटरनेशनल विलेज के इंडियन पैविलियन तक सीमित थी, जहां हर समय भारी भीड़ लगी रही थी।

फेस्टिवल पर रूस-यूक्रेन युद्ध की छाया रही
फेस्टिवल पर रूस-यूक्रेन युद्ध की छाया जरूर रही, पर इसका कोई खास असर नहीं देखा गया। सिर्फ ओपनिंग सेरेमनी में यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदोमिर जेलेंस्की केा वीडियो भाषण चर्चा में था। यूक्रेनी फिल्ममेकर सर्जेई लोजनित्स (द नेचुरल हिस्ट्री ऑफ डिस्ट्रैक्शन) और रूसी सेना द्वारा अप्रैल में मारे गए लिथुआनियाई फिल्ममेकर मोंटास क्वेदाराविशियस (मारियोपोल -2) की फिल्मों को दिखाया गया था, जिन्हें दर्शकों ने नकार दिया।

फिल्म 'टोकियो 2020- साइड ए' को काफी पसंद किया गया
जापानी की नाओमी कवासे की टोकियो ओलंपिक पर बनाई गई ऑफिशियल फिल्म 'टोकियो 2020- साइड ए' को काफी पसंद किया गया। यह फिल्म एथलीटों के नजरिए से विश्व के सबसे बड़े खेल कुंभ की राजनीति को दिखाने की कोशिश करती है। सवाल है कि जो खिलाड़ी अपने देशों से दर बदर हैं और शरणार्थी हैं, वे किस देश की ओर से ओलंपिक खेलों में भाग लेंगे। क्या शरणार्थियों के एक अलग देश के लिए मान्यता मिलेगी?

टॉम क्रूज को 'आनरेरी पाम डि ओर' से सम्मानित किया गया
यूरोपीय सिनेमा के वर्चस्व के बावजूद फेस्टिवल में हॉलीवुड का आकर्षण चरम पर है। इसीलिए मशहूर एक्टर टॉम क्रूज को 'आनरेरी पाम डि ओर' से सम्मानित किया गया। यही सम्मान एक दूसरे अमेरिकी अश्वेत एक्टर फोरेस्ट ह्विटकर को भी दिया गया। टॉम क्रूज की मुख्य भूमिका वाली फिल्म 'टॉप गन मेवरिक', जोसेफ कोसिंस्की-विग्गो मोरटेंसेन की लीड रोल वाली डेविड क्रोनेनबर्ग की 'क्राइम आफ द फ्यूचर', राक एंड रोल और पाप म्यूजिक के हीरो रहे एल्विस प्रेस्ली के जीवन पर बज लुहरमान की फिल्म 'एल्विस' जैसी हॉलीवुड की फिल्मों के प्रति फेस्टिवल में जबरदस्त क्रेज देखने को मिला।

खबरें और भी हैं...