पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • International Film That Are Banned In India: From '50 Shades Of Gray' To 'No Fire Zone', Censor Board Banned These Films In India For Violent And Bold Scenes

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुनियाभर की विवादित फिल्में:'50 शेड्स ऑफ ग्रे' से लेकर 'नो फायर जोन' तक, हिंसक और बोल्ड सीन होने पर सेंसर बोर्ड ने भारत में बैन की ये फिल्में

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तांडव, मिर्जापुर जैसी वेब सीरिज के कंटेंट को लेकर लगातार विवाद चल रहे हैं। कई फिल्मों पर भी इस तरह के आरोप लगते रहे हैं। भारत के अलावा भी कई इंटरनेशनल फिल्में ऐसी हैं, जिन्हें भारत में रिलीज करने की इजाजत नहीं मिल सकी। कभी बहुत ज्यादा बोल्ड सीन तो कभी हद से ज्यादा हिंसा के कारण इन फिल्मों को भारत में बैन किया गया। आइए, जानते हैं भारत में बैन विदेशी फिल्में कौन सी हैं-

डर्टी ग्रैंडपा -2016

साल 2016 की फिल्म डर्टी ग्रैंडपा जैसन कैली और उनके ग्रैंडपा डिक कैली पर आधारित है। फिल्म में ग्रैंडपा का रोल करने वाले रॉबर्ट डिनेरो का बेहद बोल्ड और फनी अवतार दिखाया गया है। सेंसर बोर्ड द्वारा इस फिल्म को असभ्य बताते हुए बैन कर दिया है।

50 शेड्स ऑफ ग्रे- 2015

साल 2015 में रिलीज हुई फिल्म 50 शेड्स ऑफ ग्रे में डकोटा जॉनसन और जैमी डोर्नन ने लीड रोल निभाया था। ये एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म है, जिसमें कई सेक्स सीन दिखाए गए हैं। भारतीय दर्शकों के लिए फिल्म आपत्तिजनक होने पर सेंसर बोर्ड ने कई सीन पर कैंची चलवाई थी, जिस पर फिल्म के मेकर्स ने अमल किया था। हालांकि, सीन कट करवाए जाने के बावजूद सेंसर बोर्ड को सर्टिफिकेशन देना ठीक नहीं लगा और फिल्म को बैन कर दिया गया।

मैजिक माइक XXL- 2015

ये फिल्म मेल स्ट्रिपर की जिंदगी पर बनाई गई है। जिसमें बेहद आपत्तिजनक सीन हैं। सेंसर बोर्ड के अनुसार ये फिल्म भारतीय सभ्यता के खिलाफ है, इसलिए फिल्म को भारत में बैन कर दिया गया।

गेट हार्ड -2015

ये फिल्म भारत में रिलीज होने के महज एक दिन पहले ही बैन कर दी गई थी। सेंसर बोर्ड ने फिल्म के कुछ बोल्ड सीन काटने के बाद अनुमति देने की बात कही थी। लेकिन, मेकर्स ने इससे इनकार कर दिया था।

नो फायर जोन- 2014

नो फायर जोन श्रीलंका की सिविल वॉर डॉक्यूमेंट्री है, जिसमें कई हिंसक सीन दिखाए गए हैं। कैलम मक्री के निर्देशन में बनी इस फिल्म को भारत में स्क्रीनिंग करने की परमिशन नहीं मिल सकी। भारत में बैन होने के बाद फिल्म को इंटरनेट के जरिए रिलीज कर दिया गया।

ब्लू जैस्मिन- 2013

साल 2013 में रिलीज हुई फिल्म ब्लू जैस्मिन में कई जगह धूम्रपान करने वाले सीन दिखाए गए हैं। सेंसर बोर्ड का सुझाव था कि फिल्म रिलीज से पहले धूम्रपान वाले सभी सीन में संवैधानिक सूचना दी जाए, लेकिन फिल्म के डायरेक्टर वूडी एलन ने ऐसा करने के साफ इनकार कर दिया। ये फिल्म महज डिस्क्लेमर ना देने के चलते भारत में बैन कर दी गई।

ए गर्ल विद द ड्रैगन टैटू- 2011

डेविड फिंचर के निर्देशन में बनी फिल्म ए गर्ल विद द ड्रैगन टैटू साल 2011 में रिलीज हुई थी। ये एक मिस्ट्री थ्रिलर फिल्म है, जिसमें कई आपत्तिजनक रेप सीन दिखाए गए हैं। फिल्म के कुछ टॉर्चर वाले सीन भी सेंसर बोर्ड के अनुसार ठीक नहीं थे। बोर्ड ने फिल्म के डायरेक्टर से कुछ सीन काटने को कहा था। हालांकि, उन्होंने इससे साफ इनकार कर दिया लिहाजा फिल्म भारत में बैन हो गई।

द ह्यूमन सेंटीपीड- 2009

ये फिल्म एक टॉर्चर थ्रिलर है, जिसमें जर्मन सर्जन की कहानी दिखाई गई है। फिल्म में सर्जन द्वारा तीन टूरिस्ट को किडनैप कर उनके साथ अमानवीय और हिंसक व्यवहार किया जाता है। फिल्म के आपत्तिजनक और हिंसक दृष्यों के चलते इसे भारत, यूके और ऑस्ट्रेलिया में बैन किया गया है।

द डा विंची कोड- 2006

फिल्म की रिलीज से पहले ही भारत के कई राज्यों के क्रिश्चन ने इसे बैन करने की मांग की थी। उनका कहना था कि फिल्म में एंटी क्रिश्चन मैसेज दिया जा रहा है। आखिरकार, फिल्म को पंजाब, गोवा, नागालैंड, मेघालय, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश में बैन कर दिया गया था।

इंडियाना जोन्स एंड द टेंपल ऑफ डूम- 1984

इस फिल्म में भारतीय सभ्यता और हिंदुओं की छवि को नेगेटिव दिखाया गया है, जिसके चलते सेंसर बोर्ड ने इसे इंडिया में रिलीज होने की परमिशन नहीं दी। इस फिल्म में बॉलीवुड के सबसे पॉपुलर विलेन अमरीश पुरी ने नेगेटिव किरदार निभाया था। कुछ समय बाद फिल्म से बैन हटा दिया गया था।

केनीबल फेरॉक्स- 1981

साल 1981 में रिलीज हुई इस फिल्म को अब तक की सबसे हिंसक फिल्म माना जाता है। फिल्म में इंसानों और जानवरों के साथ बेहद हिंसक सीन हैं, जिसके चलते सेंसर बोर्ड ने इसे भारत में रिलीज होने की इजाजत नहीं दी। अंबर्टो लेंजी की इस फिल्म को भारत समेत 31 देशों में बैन किया गया है।

केनीबल हॉलोकोस्ट- 1980

फिल्म में महिलाओं और कई लोगों के साथ टॉर्चर करते हुए दिखाया गया है, जो सेंसर बोर्ड के लिए असहनीय था। आपत्तिजनक और हिंसक सीन होने के चलते भारत समेत कई देशों ने इस फिल्म को बैन कर दिया।

आई स्प्लिट ऑन योर ग्रैव- 1978

ये फिल्म रेप और उसके बदले की कहानी है। फिल्म में कई आपत्तिजनक रेप सीन दिखाए गए हैं। टॉर्चर और हिंसक कहानी होने के चलते सेंसर बोर्ड ने इसे बैन कर दिया। सिर्फ भारत ही नहीं इस फिल्म को दुनियाभर के कई देशो में बैन किया गया है।

सालो- 1975

ये एक इटालियन-फ्रेंच फिल्म है, जिसमें मुक्ति देने वाले चार लोगों की कहानी दिखाई गई है। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे 9 लड़के- लड़कियों को बंदी बनाकर 120 दिनों तक फिजिकली, मेंटली और सेक्सुअली टॉर्चर किया जाता है। फिल्म की कहानी हिंसक होने के चलते इसे यूरोपियन देशों समेत भारत में भी बैन कर दिया गया था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

    और पढ़ें