• Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Interview: Vivek Vaswani Reacted To Starkids Being Embroiled In Controversies, Said – Aryan Is Facing The Brunt Of Shahrukh's Success

भास्कर इंटरव्यू:विवादों में घिर रहे स्टारकिड्स पर विवेक वासवानी ने दिया रिएक्शन, बोले- 'आर्यन को शाहरुख की सफलताओं का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है'

मुंबईएक वर्ष पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक

शाहरुख खान इन दिनों बेटे आर्यन खान के ड्रग केस में फंसने के बाद से ही ट्रोलिंग का शिकार हो गए हैं। इसी बीच उनके साथ जोश, राजू बन गया जेंटलमैन और किंग अंकल जैसी फिल्मों में काम कर चुके विवेक वासवानी उनके बचाव में आए आए हैं। विवेक ने भास्कर से बातचीत के दौरान स्टारकिड्स कॉन्सेप्ट, आउटसाइडर्स और शाहरुख खान के मौजूदा विवाद पर अपना रिएक्शन दिया है-

जिस तरह एक रेस्टोरेंट खोलने के लिए आपको न केवल खाना बनाना आना चाहिए, इसी तरह स्टार बनने के लिए, आपको केवल यह जानने की जरूरत नहीं है कि कैसे अभिनय करना है, आपको उद्योग में कैसे टिके रहना है इसकी भी जरूरत है। इंडस्ट्री में रहने के लिए आपको नंबर, वितरण, प्रदर्शनी, मार्केटिंग जानने की जरूरत है, जो स्टार किड्स जानते हैं और न्यूकमर्स नहीं। इसलिए नेपोटिज्म का रिश्तों से कोई लेना-देना नहीं है और इस तथ्य से भी कि स्टार किड्स प्रोफेशनल बच्चे हैं न कि शौकिया।

आइए समझते हैं कि एक स्टार किड का कॉन्सेप्ट क्या है। कोई है जिसके पैरेंट्स बॉलीवुड का अभिन्न अंग हैं तो वह किसी अभिनेता या निर्माता या निर्देशक आदि की संतान होगा। जैसे एक डॉक्टर का बेटा अपने पिता के दोस्तों को घर के अंदर और बाहर आते और दवा पर चर्चा करते हुए देखता है, एक के रूप में क्रमबद्ध करें स्टार किड अपने माता-पिता के दोस्तों को घर के अंदर और बाहर आते और व्यापार और सिनेमा और संख्या और वितरण पर बात करते हुए देखता है। इसलिए जब तक कोई स्टॉक लॉन्च होने के लिए तैयार होता है, तब तक वो पहले से ही हर चीज के लिए तैयार होता है और न्यूकमर्स से रैंक में ऊपर होता है।

ये सिर्फ बिजनेस में एंट्री के बारे में है, कुछ सफल होते हैं कुछ नहीं, और हां ज्यादातर स्टार किड्स को कभी न कभी माता-पिता की सफलताओं और असफलताओं का खामियाजा भुगतना पड़ता है, लेकिन यह कॉर्पोरेट बच्चों के राजनेताओं बच्चों और उद्योगपतियों के बच्चों पर भी लागू होता है। बॉलीवुड के बच्चे ही नहीं। बच्चों को अपने माता-पिता के जीवन और काम के लिए यही कीमत चुकानी पड़ती है

बेशक ईर्ष्या हमेशा रहेगी, माता-पिता जितने सफल रहेंगें, बच्चों को उतनी ही ज्यादा ईर्ष्या का सामना करना पड़ेगा। यह मानव स्वभाव है और इसका केवल बॉलीवुड से ही नहीं बल्कि हर दूसरे सफल व्यक्ति से लेना-देना है, जिसके बच्चे हैं।

क्या कोई स्टार किड माता-पिता से बड़ा हो सकता है?

सलमान खान को देखिए, ऋतिक रोशन और कई अन्य लोगों को देखिए। अधिकांश स्टार किड्स ने अपने माता-पिता को पीछे छोड़ दिया है, लेकिन दुर्भाग्य से कुछ ने ऐसा नहीं किया। उदाहरण के लिए अभिषेक बच्चन से लोगों की उम्मीदें बहुत ज्यादा थीं और की तरह से अभिषेक बच्चन ने काफी सफलता हासिल की है लेकिन अमिताभ बच्चन की तुलना में वो हमेशा से ही कम रहेंगे।

हां स्टार किड्स इस बात के लिए तैयार हैं कि किसी समय वे और उनके माता-पिता विवादों के बीच में होंगे और यही वह कीमत है जो वे जीवन शैली और पैसे और प्रसिद्धि और ग्लैमर के लिए चुकाते हैं। नए बच्चे आश्चर्यजनक रूप से इसके बारे में बहुत ही कैजुअल हैं कि यदि वे सोशल मीडिया पर बॉलीवुड और हॉलीवुड में दूसरों के बारे में पढ़ सकते हैं तो वो खुद के बारे में भी पढ़े जाने के लिए तैयार हैं।

एक स्टार किड को सबसे अच्छा घर, सबसे अच्छा खाना, सबसे अच्छे कपड़े, सबसे अच्छी विदेशी छुट्टियां, सबसे अच्छी कार और बेहतरीन लाइफस्टाइल मिलती है, अगर कोई विवाद है तो वे भी खराब प्रचार या बदतर होंगे। और यही वो चीज हैं जिसकी कीमत एक स्टारकिड को चुकानी पड़ती है।

शाहरुख खान एक बाहरी व्यक्ति थे लेकिन वह देश के सबसे बड़े स्टार बन गए और निश्चित रूप से आर्यन खान को अपने पिता की सफलता का खामियाजा भुगतना पड़ेगा, इसलिए चाहे वह स्टार बाहरी हो या अंदरूनी, विवाद बच्चे को समान रूप से प्रभावित करेगा।

लब्बोलुआब यह है कि हमें किसी भी बच्चे को कीमत चुकाने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। पाप कोई दाग नहीं है, यह एक घाव है और हमें इसे ठीक होने देना है ताकि यह गल न जाए और बढ़े न।

खबरें और भी हैं...