पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Irrfan Khan's Wife Sutapa Mourn The Death Of A Relative Due To COVID, Says I Couldn't Get A Bed For Him Because He Was Not Chota Rajan

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इरफान खान की पत्नी की दर्द:कोरोना से हुई रिश्तेदार की मौत तो भड़कीं सुतापा, बोलीं- दिल्ली में उन्हें बेड नहीं मिल सका, क्योंकि वे छोटा राजन नहीं थे

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिवंगत अभिनेता इरफान खान की पत्नी सुतापा सिकदर ने कोविड-19 से अपने रिश्तेदार समीर बनर्जी के निधन पर दुख जताया है। साथ ही नाराजगी जाहिर करते हुए बताया कि समीर को दिल्ली के अस्पताल में ऑक्सीजन वाला बेड नहीं मिल सका था। उनका कहना है कि अगर समीर कोई ईमानदार इंसान न होकर छोटा राजन (गैंगस्टर) होते तो उनके लिए अस्पताल में बेड की व्यवस्था आसानी से हो जाती।

क्या लिखा सुतापा ने पोस्ट में?
सुतापा ने सोशल मीडिया पर लिखा है, "मैंने एक दिन पहले अपने रिश्तेदार समीर बनर्जी के लिए मदद मांगी थी। आज वे हमें छोड़ कर चले गए। हम देश की राजधानी दिल्ली में घर में आईसीयू सेटअप नहीं कर सकते थे। और हमें अस्पताल में बेड नहीं मिल सका। उन सभी कोविड वॉरियर्स को मेरा आभार, जिन्होंने मदद की। मैं आप सभी को नहीं भूल सकती। आप सबको जिंदगीभर दुआ दूंगी। मैं कभी समीर दा की मुस्कराहट नहीं भूल सकती। मैं उनके लिए आईसीयू में बेड इसलिए नहीं पा सकी, क्योंकि वे छोटा राजन नहीं थे। वे एक ईमानदार आदमी थे।"

'दिल्ली में हुई तबाही को कभी नहीं भूल सकती'
सुतापा ने आगे लिखा है, "मैं दिल्ली में हुई इस तबाही को कभी नहीं भूल सकती। आप भी यह नहीं भूलेंगे कि बनर्जी, शेख, दास, अदजानिया सभी को जाना है। वे हमारे साथ कुछ समय और रह सकते हैं, अगर हिंदू त्यौहार और मुस्लिम त्यौहार की बजाय देश में ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने पर केंद्रित करें।"

अंत में लिखा- छोटा राजन होना बेहतर है
सुतापा ने अपनी पोस्ट के साथ दिल्ली सरकार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और Better to be a chota rajan (छोटा राजन होना बेहतर है) को हैशटैग किया है। सुतापा और उनके बेटे बाबिल इन दिनों लगातार कोविड से जूझ रहे लोगों की मदद में लगे हुए हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

और पढ़ें