पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कंगना रनोट की फटकार:सदगुरु को ट्रोल करने वालों पर भड़कीं कंगना, बोलीं- शिवरात्रि करीब आते ही कीड़े-मकोड़े पागल हो रहे हैं

7 महीने पहले

सदगुरु के नाम से मशहूर मोटिवेशनल स्पीकर जग्गी वासुदेव को ट्रोल करने वालों को कंगना रनोट ने लताड़ लगाई है। उन्होंने ऐसे लोगों की तुलना कीड़े-मकोड़ों से की है। एक्ट्रेस ने अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा है, "जिन इडियट्स को चूहों का आईक्यू और कीड़ों को अस्तित्व मिला है, वे स्त्री को एक लिंग नहीं बल्कि आयाम बताने पर सदगुरु को निशाना बना रहे हैं। वे यह जानकार हैरान रह जाएंगे कि उनके पास सूर्य और चंद्रमा हैं, उनकी मां और पिता, मर्द और स्त्री दोनों उनमें हैं। बेवकूफ अपने आपकों शर्मिंदा करना बंद करें।"

शिवरात्रि आते ही कीड़े-मकोड़े पागल हो रहे हैं: कंगना

कंगना यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने सदगुरु की पोस्ट पर आए कमेंट्स के स्क्रीनशॉट्स साझा करते हुए अगली पोस्ट में लिखा है, "यह किसी एक व्यक्ति का उत्पीड़न नहीं है। बल्कि यह एक संस्था, सम्पूर्ण संस्कृति, धर्म और इस देश का उत्पीड़न है। क्योंकि सदगुरु भारत के प्राचीन ज्ञान का प्रतिनिधित्व करते हैं और शिवरात्रि करीब आते ही कीड़े-मकोड़े पागल हो रहे हैं। क्योंकि यह उनका पसंदीदा दिन है, वे शिव को मनाएंगे।"

सोशल मीडिया यूजर्स ने कंगना को निशाने पर लिया

सदगुरु का बचाव करने वाली पोस्ट को लेकर सोशल मीडिया यूजर्स ने कंगना को ट्रोल किया है। एक यूजर ने लिखा, "लक्षित उत्पीड़न। दीदी आप प्रवचन में बिल्कुल नया आयाम जोड़ रही हैं।" एक अन्य यूजर ने लिखा है, "क्या कहा? सदगुरु एक संस्था, सम्पूर्ण संस्कृति, धर्म और राष्ट्र हैं? कंगना क्या तुम उस नशे से बाहर हो सकती हो, जो तुम फूंक रही हो। मैं तुम्हारा आभारी रहूंगा।" एक यूजर ने लिखा, " तो तुम नया आयाम शुरू कर रही हो?"

सदगुरु ने 8 मार्च को लिखी थी पोस्ट

सदगुरु ने 8 मार्च को महिला दिवस के मौके पर सोशल मीडिया पर लिखा था, "स्त्रीलिंग एक लिंग नहीं, बल्कि एक आयाम है।" इसे लेकर कई सोशल मीडिया यूजर्स ने उन्हें निशाने पर लिया था। एक यूजर ने तंज कसते हुए लिखा था, "टमाटर सब्जी नहीं है, यह एक फल है।" एक अन्य यूजर ने लिखा था, "बिना आयाम के इस फ्रॉड के लिए यह चीज आयाम है।"

खबरें और भी हैं...