आजादी पर कंगना Vs वरुण गांधी:एक्ट्रेस ने कहा- भारत को असली आजादी 2014 में मिली; वरुण गांधी बोले- इस सोच को देशद्रोह कहूं या पागलपन

एक वर्ष पहले

कंगना रनोट ने एक समिट में कहा कि भारत को सच्ची आजादी 2014 में मिली है। उनके इस बयान पर BJP सांसद वरुण गांधी ने गुरुवार को कहा कि मैं इस सोच को 'पागलपन' कहूं या फिर 'देशद्रोह'। बता दें वरुण गांधी कुछ समय से अपनी ही पार्टी के खिलाफ मुखर हो गए हैं। वहीं कंगना के बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, क्योंकि कई सेलेब्स ने कंगना की बातों की कड़ी आलोचना की है।

दरअसल एक राष्ट्रीय मीडिया नेटवर्क के वार्षिक शिखर समिट में कंगना गेस्ट स्पीकर थीं। इस दौरान उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम के बारे में सावरकर, लक्ष्मीबाई और नेताजी बोस को याद करते हुए कहा … ये लोग जानते थे कि खून बहेगा, लेकिन यह हिंदुस्तानी खून नहीं होना चाहिए। वे इसे जानते थे। बेशक, उन्हें एक पुरस्कार दिया जाना चाहिए। वह आजादी नहीं थी, वो भिक्षा थी। हमें 2014 में असली आजादी मिली है।

वरुण ने की आलोचना
बीजेपी सांसद वरुण ने कंगना के वायरल वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, कभी महात्मा गांधी के बलिदान और तपस्या का अपमान, उनके हत्यारे के प्रति सम्मान और अब मंगल पांडे से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, नेताजी और अन्य लाखों स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान के लिए यह तिरस्कार। मैं इस सोच को पागलपन कहूं या फिर देशद्रोह?

KRK ने किया पोस्ट
वहीं फिल्म इंडस्ट्री से कमाल राशिद खान ने अपनी पोस्ट पर लिखा, बेवकूफ कंगना रनोट ने कहा कि भारत को आजादी 1947 में नहीं मिली थी! वो वाली आजादी तो भीख थी। दरअसल भारत को 2014 में आजादी मिली थी। आज भगत सिंह, उधम सिंह आदि जैसे सभी स्वतंत्रता सेनानी यह सुनकर स्वर्ग में रो रहे होंगे।

खबरें और भी हैं...