पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसानों के अपमान का मामला:कर्नाटक हाईकोर्ट का कंगना के खिलाफ जांच रोकने से इनकार, एक्ट्रेस बोली- कर लो जितने जुल्म करने हैं

2 महीने पहले
कंगना रनोट ने सितंबर 2020 में संसद से कृषि बिल पास होने के बाद इनका विरोध कर रहे लोगों को आतंकी कहा था।
  • क्याथसांद्रा पुलिस स्टेशन (तुमकुर, कर्नाटक) में दर्ज है कंगना रनोट के खिलाफ FIR
  • हाईकोर्ट के फैसले के बाद कंगना की प्रतिक्रिया- एक और दिन और एक और FIR

कर्नाटक हाईकोर्ट ने मंगलवार को कंगना रनोट के खिलाफ दर्ज राज्य के क्याथसांद्रा पुलिस स्टेशन में दर्ज केस में कार्रवाई पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। दरअसल, कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों की तुलना आतंकवादियों से करने के आरोप में तुमकुर (कर्नाटक) जिले के एक ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट फर्स्ट क्लास ने कंगना के खिलाफ FIR दर्ज कर जांच के आदेश दिए थे। एक्ट्रेस ने इस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

कंगना FIR रद्द कराना चाहती थीं

कंगना की ओर से उनके वकील रिजवान सिद्दीकी हाईकोर्ट में पेश हुए। उन्होंने अदालत से गुजारिश की कि कंगना के खिलाफ हुई FIR को रद्द कर कार्रवाई पर रोक लगाई जाए। जवाब में हाईकोर्ट ने कहा, "पहले आप ऑफिस ऑब्जेक्शन का पालन करिए, उसके बाद ही हम आपके सबमिशन पर विचार कर सकते हैं।" मामले की अगली सुनवाई 18 मार्च को होगी।

कोर्ट के फैसले पर कंगना का रिएक्शन

हाईकोर्ट के फैसले के बाद कंगना ने लिखा है, "एक और दिन और एक और FIR. कल जावेद चाचा ने महाराष्ट्र सरकार की मदद से मुझे नोटिस भेजा और अब किसान बिल के समर्थन पर एक और FIR. इस बीच जिन्होंने इस बिल और किसानों के नरसंहार के बारे में झूठ फैलाया और जिनके कारण दंगे भी हुए, उनका नहीं होता। शुक्रिया।"

बागी पैदा हुई थी, बागी ही रहूंगी: कंगना

कंगना ने अगली पोस्ट में लिखा है, "कितने भी ज़ुल्म कर लो, मेरा घर तोड़ दो या मुझे जेल भेज दो या झूठ फैलाकर मुझे बदनाम कर दो। मैं नहीं डरने वाली। मुझे सुधारने की कोशिश करने वालो में तुम्हें सुधारकर दम लूंगी। कर लो जितनी कोशिश करनी है मुझे अबला बेचारी बनाने की। मैं बागी पैदा हुई थी, बागी ही रहूंगी।"

क्या है इस केस से जुड़ा मामला

कृषि कानून संसद में पास होने के बाद 21 सितंबर को कंगना ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि जिन लोगों ने CAA पर गलत जानकारी और अफवाहें फैलाईं, जिनकी वजह से हिंसा हुई, वही लोग अब किसान बिल पर पर गलत जानकारी फैला रहे हैं, जिससे राष्ट्र में डर है। वे आतंकी हैं।

कंगना की इस पोस्ट पर आपत्ति जताते हुए क्याथासांद्रा के रहने वाले वकील एल. रमेश नाइक ने उनके खिलाफ क्रिमिनल केस किया था। नाइक ने कहा था कि अन्नदाताओं के लिए की गई इस पोस्ट से उन्हें बहुत ठेस पहुंची है, जिसके चलते उन्हें कंगना रनोट के खिलाफ केस फाइल करने पर मजबूर होना पड़ा।

नाइक की शिकायत के आधार पर ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट फर्स्ट क्लास ने क्याथासांद्रा थाने के इंस्पेक्टर को कंगना के खिलाफ FIR दर्ज करने के लिए कहा था। कोर्ट ने कहा था कि शिकायतकर्ता ने CRPC की धारा 155 (3) के तहत आवेदन देकर जांच की मांग की है।

तीन अन्य मामलों में सुप्रीम कोर्ट पहुंची कंगना

इधर सोशल मीडिया टिप्पणियों को लेकर मुंबई में दर्ज तीन आपराधिक केसों के खिलाफ कंगना और उनकी बहन रंगोली ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने गुजारिश की है कि ये तीनों केस हिमाचल प्रदेश ट्रांसफर कर दिए जाएं। हालांकि, अभी तक कोर्ट ने मामले में सुनवाई की तारीख तय नहीं की है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

और पढ़ें