मदद का हाथ:रजत बेदी कार एक्सीडेंट में मारे गए शख्स के परिवार की कर रहे हैं आर्थिक मदद, बोले-मैं उनकी बेटियों के लिए FD करवाऊंगा

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक्टर रजत बेदी इन दिनों एक कार एक्सीडेंट के कारण चर्चा में बने हुए हैं। कुछ दिन पहले रजत की कार से हुए इस एक्सीडेंट में राजेश बौध नाम के एक शख्स की मौत हो गई थी। अब हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में रजत बेदी ने बताया है कि राजेश बौध की मौत के बाद वे उनकी फैमिली को आर्थिक मदद पहुंचाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

रजत बेदी का मानना है कि इस एक्सीडेंट में भले ही उनकी कोई गलती नहीं थी। लेकिन, वे इस सब के लिए खुद को दोषी मानते हैं और उन्होंने पीड़ित परिवार की हर संभव मदद करने का फैसला किया है। राजेश बेदी ने इस बारे में बात करते हुए इंटरव्यू में कहा, "इस एक्सीडेंट ने मुझे पूरी तरह से तोड़ दिया है। भले ही यह मेरी गलती नहीं थी। मैं टूट हो गया हूं, यह सोचकर कि मेरे साथ ऐसा हुआ है। मैंने उसकी जान बचाने की पूरी कोशिश की थी।"

मैं उनके परिवार को आर्थिक मदद देना जारी रखूंगा
रजत बेदी ने आगे कहा, "मैंने राजेश बौध के परिवार के सभी खर्चों का ख्याल रखा। यहां तक कि मैंने राजेश के अंतिम संस्कार का खर्चा भी खुद ही उठाया था। मैं उनके परिवार को आर्थिक मदद देना जारी रखूंगा। मैं बस पुलिस का काम पूरा होने का इंतजार कर रहा हूं। और फिर मैं उनकी बेटियों की देखभाल भी करूंगा। उनके लिए कुछ एफडी (FD) करवाऊंगा। मैंने उनकी पत्नी को भी एक स्थिर नौकरी दिलवा दी है, ताकि कम से कम परिवार की आमदनी अच्छी हो।"

इस पूरे मामले में मेरी कोई गलती नहीं थी
इस कार एक्सीडेंट को याद करते हुए रजत बेदी ने कहा, "एक्सीडेंट के बाद मैं तुरंत कार से बाहर निकला। राजेश बौध को उठाया और कूपर अस्पताल ले गया। इस दौरान वहां मौजूद सभी लोग कह रहे थे-'अरे एक्टर है एक्टर'। गनीमत रही कि हादसा रात में नहीं हुआ। यह एक्सिडेंट शाम 6:30 बजे अंधेरी के डीएन नगर मेट्रो के पास सीतला देवी मंदिर के सामने हुआ था, नहीं तो लोगों कहते कि मैं पीकर गाड़ी चला रहा था। एक्सिडेंट के बाद जब मैं उन्हें हॉस्पिटल ले गया तो प्रॉब्लम खत्म नहीं हुई। बल्कि चेकअप में काफी देरी हो गई। मैंने अस्पताल का पूरा खर्चा अपने ऊपर ले लिया था। लेकिन, तब भी ठीक से चेकपअ नहीं हुआ। सुबह 3 बजे मैंने ब्लड का इंतजाम भी किया था। लेकिन, उन्हें बचा नहीं पाए। कुछ समय बाद मुझे अपनी डेब्यू तेलुगू फिल्म की शूटिंग के लिए निकलना पड़ा था।" रजत ने बताया है कि इस पूरे मामले में उनकी गलती नहीं थी। उन्होंने कहा कि वे वास्तव में धीमी गति से गाड़ी चला रहे थे, राजेश अचानक उनकी कार के सामने आ गया था।

एक्सीडेंट के बाद मैंने खुद पुलिस को इस घटना की जानकारी दी थी
रजत बेदी इस बात से काफी ज्यादा दुखी हैं कि लोग बिना कुछ समझे और जाने निर्णय पर पहुंच जाते हैं। या झूठी अफवाहें उड़ाने लगते हैं कि जैसे मैं घायल को अस्पताल में भर्ती करवाकर भाग गया था। इस बारे में रजन ने कहा, "ऐसी खबर सुनकर मेरे दिमाग में बस यही ख्याल आया कि ये मेरे साथ क्या हो गया है। कुछ लोग चाहते थे कि मैं इस पूरे मामले पर कुछ कहूं। मीडिया के कुछ लोगों ने मुझे धमकी तक दी थी कि अगर आप कुछ नहीं कहेंगे तो हम आपके बारे में हम कुछ भी लिख देंगे। किसी ने कहा कि मेरी कार को जब्त कर लिया गया था, ऐसा कुछ नहीं हुआ था। बल्कि, एक्सीडेंट के बाद मैंने खुद पुलिस को इस घटना की जानकारी दी थी।" इस घटना में राजेश बौध की मौत के बाद रजत बेदी के खिलाफ पुलिस ने IPC की धारा 304-A के तहत केस दर्ज किया गया था और मामले की जांच की जा रही है। पुलिस के अनुसार, इस घटना में पैदल यात्री नशे की हालत में था, वह अचानक सड़क के बीच में आ गया और रजत बेदी के ब्रेक लगाने से पहले ही उसकी कार से टकरा गया था। मजदूर राजेश बौद्ध को अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया। जहां उसका इलाज चल रहा था।

रजत बेदी ने 1998 में किया था एक्टिंग डेब्यू
रजत बेदी ने अपने करियर की शुरुआत बतौर मॉडल की थी। उन्होंने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत साल 1998 में हिंदी फिल्म '2001' से की थी। इस फिल्म में मुख्य भूमिका में जैकी श्रॉफ, डिम्पल कपाडिया और तब्बू थीं। रजत बेदी ने हिंदी सिनेमा में बतौर एक्टर नहीं बल्कि एक खलनायक के रूप में अपनी पहचान बनाई है, जिसे दर्शकों और आलोचकों द्वारा भी काफी सराहा गया। रजत इसके अलावा फिल्म 'कोई मिल गया', 'इंटरनेशनल खिलाड़ी' जैसी फिल्मों का हिस्सा भी रह चुके हैं। हालांकि, पिछले कई दिनों से वे फिल्मों से दूर हैं। रजत बेदी फिलहाल विदेश में बिजनेस करते हैं।