पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रॉपर्टी विवाद:दिवगंत वाजिद की पत्नी पहुंची बॉम्बे हाई कोर्ट, भाई साजिद बोले- हमें प्रॉपर्टी में कोई दिलचस्पी नहीं, कमलरुख की नीयत बिगड़ गई

14 दिन पहलेलेखक: किरण जैन
  • कॉपी लिंक

दिवंगत म्यूजिक कंपोजर वाजिद खान की पत्नी कमलरुख ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। कमलरुख में मुताबिक वाजिद ने 2012 में एक वसीयतनामा बनाया था, जिसमें वे और उनके बच्चों के नाम प्रॉपर्टी थी। वे नहीं चाहती की इस प्रॉपर्टी में उनके अलावा वाजिद के भाई साजिद खान या उनकी मां को इस प्रॉपर्टी का हिस्सा बनाया जाए। इस मामले की सुनवाई 23 अप्रैल को होगी और इसी बीच अब साजिद ने अपना पक्ष रखा।

दैनिक भास्कर से एक्सक्लूसिव बातचीत के दौरान, साजिद खान ने बताया कि उन्हें और उनकी मां को वाजिद की किसी भी प्रॉपर्टी में दिलचस्पी नहीं है। कमलरुख का ये बर्ताव उनकी नीयत पर अपने आप में एक सवाल है।

जब मेरा भाई जिंदा था तब ये बातें याद नहीं आईं थी
साजिद खान बताते है, "देखिए, अब ये मामला कोर्ट में है और लीगली अब इस बारे में कई बातें सामने नहीं ला सकता। यकीन मानिए मैं और मेरे परिवार का इससे कोई लेना देना नहीं है। जब मेरा भाई जिंदा था तब कमलरुख को ये सब बातें याद नहीं आईं थी। यदि मेरे भाई से उन्हें किसी भी तरह की परेशानी थी, तब उसके जिंदा रहते ये बातें बाहर क्यों नहीं लाईं। अब वाजिद के जाने के बाद उन्हें महसूस हो रहा है कि उनके साथ उन्होंने गलत किया था।

उसे पता है कि मरने के बाद तो वाजिद अपनी सफाई में बोल नहीं सकता, तब वो इस मौके का फायदा उठाने के लिए उतर गईं। वे अब हमारे ऊपर इल्जाम लगा रही हैं क्योंकि हमें सच्चाई पता है। कमलरुख के बारे में हमें कई बातें पता हैं, वाजिद ने हमसे हर बात शेयर की थी, यहां तक कि उनके मैसेज भी हैं। हालांकि हम अपने घर की इज्जत को बाहर उछालना नहीं चाहते थे और इसी वजह से हम चुप बैठे थे।"

कमलरुख की नीयत अब बिगड़ गई है
वे आगे बताते हैं, "अपने आपको सही बताने के लिए अब जरूरी हो गया है उसे गलत साबित करना। वाजिद अपने बच्चों पर जान छिड़कता था, मैं नहीं चाहता कि किसी भी तरह का बुरा असर पड़े। हमें पता है हमारे घर की हकीकत क्या है। यदि हम गलत होते तो हमसे जुड़ी ऐसी बातें बहुत पहले बाहर आ चुकी होतीं। मेरे और वाजिद के लिए हमारे परिवार से बढ़कर कुछ नहीं था। कमलरुख की नीयत अब बिगड़ गई है, उनका लालच अब और बढ़ गया है।

वाजिद ने अपना घर उनके नाम किया और मुझे या मेरी मां को उसमें कोई दिलचस्पी नहीं है। मेरे पास एक घर है और मेरा काम भी अच्छा चल रहा है। मेरे पास किसी भी चीज की कमी नहीं है। मुझे मेरे भाई की प्रॉपर्टी में कोई लालच नहीं। मेरी मां, 75 साल की हैं और इस उम्र में वो वाजिद का घर क्यों मांगेंगी? हम अपनी मां को पैसे देते हैं और वो उन पैसों को हम पर ही खर्च करती हैं। कमलरुख और बच्चों को हमने कई साल तक देखा नहीं, उसे हम कैसे परेशान कर सकते है? मेरी मां तड़प रही है वाजिद के बच्चों को देखने के लिए।"

वाजिद के रहते कभी धर्म परिवर्तन की बात सामने क्यों नहीं लाई?
पिछले साल वाजिद खान किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे। इसी बीच वे कोरोना संक्रमित हो गए जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई। मौत के कुछ महीने बाद, कमलरुख ने वाजिद पर धर्म परिवर्तन का आरोप लगाया था। इस बारे में साजिद बताते हैं, "मेरे घर में मंदिर है, हम भगवान गणेश से लेकर भगवान शिवजी तक, हर किसी के गाने गाते हैं। कई भक्ति संध्या का हिस्सा रह चुके हैं। इतना ही नहीं ना जाने कितनी गरीब लड़कियों की शादी करवाई है बिना किसी जात-धर्म को बीच में लाए। भला अपने परिवार के सदस्य को धर्म परिवर्तन के लिए कैसे बोल सकते हैं।

वाजिद के रहते कभी धर्म परिवर्तन की बात सामने क्यों नहीं लाई? और रही बात तलाक की, तो कमलरुख ने अपने डाइवोर्स पेपर्स में ऐसी-ऐसी शर्तें रखी थीं, जिससे कोई भी आदमी कांप जाए। वाजिद ने तो फिर भी उसकी कई बात मानी थी, मेरा भाई गलत नहीं था। कमलरुख की असलियत उनके पड़ोसी और बिल्डिंग के सिक्योरिटी वाले बहुत अच्छे से जानते हैं। वो किस किस्म की औरत है, उनसे बेहतर कोई नहीं बता सकता।

प्रॉपर्टी के मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट ने साजिद और उनकी मां के नाम एक नोटिस भेजकर 21 अप्रैल तक जवाब मांगा है। इस मामले पर अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें