55 की हुईं धकधक गर्ल:3 साल की उम्र में सीखा कथक, खूबसूरती देख फ्री में काम करने के लिए तैयार हो गए थे शेखर सुमन

13 दिन पहले

आज माधुरी दीक्षित 55 साल की हो चुकी हैं। माधुरी अपनी खुबसूरती, बेहतरीन अदाकारी, डांस स्किल्स से हमेशा लोगों को अपना दीवाना बनाए रखती हैं। माधुरी ने अबतक 70 फिल्मों में काम किया है। उनके एक्टिंग करियर की शुरुआत फिल्म अबोध से हुई थी। तो चलिए आज जानते हैं धकधक गर्ल का कैसा रहा फिल्मी करियर और कैसे हुई थी फिल्मों में एंट्री....

3 साल की उम्र से सिखा कथक

माधुरी दीक्षित का जन्म 15 मई 1967 को मुंबई में एक मराठी ब्राह्मण फैमिली में हुआ था। उनके माता-पिता शंकर और स्नेहलता दीक्षित के चार बच्चे थे। शुरू से ही माधुरी को डांस में रुची थी तो उनके पिता ने उन्हें 3 साल की उम्र से ही कथक क्लास में प्रवेश दिलवा दिया। 8 साल की होने तक माधुरी एक ट्रेंड कथक डांसर बन चुकी थीं। जब माधुरी 8 साल की थीं तब उन्होंने गुरु पूर्णिमा पर आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। इस मौके पर माधुरी का डांस इतना अच्छा था कि वहां मौजूद एक जर्नलिस्ट ने इस प्रोग्राम पर एक आर्टिकल लिखा जिसमें हेडलाइन थी, 'इस छोटी बच्ची ने कार्यक्रम को चुरा लिया'। जिसके कुछ समय बाद 9 साल की उम्र में माधुरी को कथक के लिए स्कॉलरशिप दी गई।

एक्टिंग के लिए छोड़ी पढ़ाई

माधुरी स्कूलिंग के दौरान भी एक्टिंग में काफी एक्टिव रहती थीं। स्कूल में हो रहे हर ड्रामा में माधुरी भाग लेती थीं। कॉलेज में पहुंचकर माधुरी ने B.Sc. की पढ़ाई की। लेकिन उनका मन पढ़ाई में कम और एक्टिंग में ज्यादा लगता था इसलिए उन्होंने पढ़ाई को बीच में ही छोड़कर फिल्मों में काम करने का मन बना लिया।

शुरुआती 4 साल फिल्में हुईं फ्लॉप

माधुरी की पहली फिल्म 1984 में आई फिल्म 'अबोध' थी। जो बुरी तरह फ्लॉप रही। लेकिन इस फिल्म में माधुरी की परफार्मेंस को क्रिटीक्स को खूब प्यार मिला। जिसके बाद 1985 में आई फिल्म 'आवारा बाप' भी बहुत बुरी तरह फ्लॉप रही। इसी बीच एक फोटोग्राफर ने उनकी फोटो खींच ली जो उस वक्त की पॉपुलर मैग्जीन डेबोनियर में कवर पर छपी। ये फोटो इतनी अच्छी थी कि 1986 में माधुरी को कवर गर्ल के फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजा गया। लेकिन अब तक माधुरी को फिल्मों में वो पहचान नहीं मिली थी जिसकी उन्हें तलाश थी।

पहली हिट थी तेजाब

अब तक माधुरी की सभी फिल्में फ्लॉप साबित हो रहीं थीं लेकिन हर फिल्म में उनकी एक्टिंग और मेहनत ने उन्हें एक हिट फिल्म दिलाई वो थी 'तेजाब'। 1988 में अनील कपूर के साथ लिडिंग रोल में नजर आईं माधुरी को इस फिल्म ने रातोंरात स्टार बना दिया था। ये फिल्म उस वक्त की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में से एक थी। फिल्म तेजाब के बाद माधुरी हिंदी सिनेमा का एक जाना माना नाम बन गईं। जिन्हें हर डायरेक्टर अपनी फिल्म में कास्ट करना चाहता था।

हम आपके हैं कौन के लिए ली थी सलमान से ज्यादा फीस

माधुरी एक ऐसी एक्ट्रेस हैं जिन्होंने अपने करियर में लगभग बॉलीवुड के सभी सुपरस्टार के साथ काम किया है। उन्होंने तीनों खान के साथ न सिर्फ काम किया है बल्कि कुछ फिल्मों में उनसे ज्यादा फीस भी ली है। बॉलीवुड की सक्सेलफुल फिल्म हम आपके हैं कौन में माधुरी ने सलमान खान से ज्यादा फीस ली थी। इस फिल्म के लिए उन्हें 2.7 करोड़ दिए गए थे। माधुरी अपने जमाने की हाईएस्ट पेड एक्ट्रेसेस में से एक हैं।

माधुरी की खूबसूरती देख फ्री में काम करने के लिए तैयार हो गए थे शेखर सुमन

शेखर सुमन को एक बार निर्देशक सुदर्शन रतन का फोन आया। उन्होंने शेखर से कहा- फिल्म प्लान कर रहा हूं, नाम 'मानव हत्या' है। हीरोइन के बारे में बताया कि नई लड़की है। उसने राजश्री के साथ एक फिल्म 'अबोध' की है। शेखर ने मेहनताने के बारे में पूछा, तब सुदर्शन ने कहा कि पैसे नहीं दे पाऊंगा। शेखर ने कहा- पैसे देंगे नहीं, हीरोइन भी जमी जमाई नहीं है, तब कैसे करूंगा! खैर, उनकी रिक्वेस्ट पर शेखर तैयार हो गए। वो शेखर को मुंबई के जेबी नगर में मौजूद एक छोटे-से घर में ले गए। सुदर्शन ने शेखर से कहा 'हीरोइन अभी दो मिनट में आती है। अंदर से माधुरी निकली।' इसके बाद सुदर्शन ने शेखर से पूछा 'काम करोगे?' शेखर ने कहा- 'खूबसूरत है, दौड़ते हुए काम करूंगा।'

इस फिल्म के बाद शेखर और माधुरी की अच्छी दोस्ती हो गई थी। माधुरी के पास सेट पर जाने के लिए कोई साधन नहीं था और वो बस से सेट पर जाया करतीं थीं। लेकिन दोनों की दोस्ती के बाद शेखर अपने स्कूटर से माधुरी को सेट पर ले जाया करते थे।

संजय दत्त के साथ सुर्खियों में रहा रिश्ता

90 के दशक में संजय और माधुरी बॉलीवुड की हिट फिल्मों की ग्यारंटी माने जाते थे। दोनों ने थानेदार, खतरों के खिलाड़ी, महानता जैसी फिल्मों में साथ काम किया था। इन फिल्मों के दौरान दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई थी लेकिन 1991 में आई फिल्म साजन के दौरान दोनों के बीत नजदीकियां बढ़ गईं। जिसके बाद फिल्म खलनायक की शूटिंग के दौरान दोनों को एक-दूसरे से प्यार हो गया। हालांकि उस समय संजय दत्त शादीशुदा थे और इस शादी से उनकी एक बेटी भी थी। जब इस रिश्ते के बारे में माधुरी के घरवालों को पता चला तो उन्होंने माधुरी को संजय से मिलने से मना कर दिया लेकिन माधुरी संजय दत्त के लिए अपने घरवालों से बगावत करने को भी तैयार थीं। दोनों एक दूसरे से शादी करने की तैयारी भी कर चुके थे। लेकिन 1994 में हुए बम ब्लास्ट में संजय दत्त का नाम आने से इस दोनों का रिश्ता खत्म हो गया। इसके बाद संजय को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। इस ब्लास्ट में कई लोगों की जान चली गई थी। जिसके बाद माधुरी ने संजय की ओर कभी मुड़कर नहीं देखा और उनसे सारे रिश्ते खत्म कर लिए। संजय ने माधुरी से कई बार कॉन्टेक्ट करने की कोशिश भी की लेकिन माधुरी ने कभी उनसे बात नहीं की। हालांकि दोनों की जोड़ी 26 साल बाद 2019 में आई फिल्म कलंक में साथ नजर आई थी। फिल्म तो फ्लॉप रही पर दोनों के फैंस के लिए संजय और माधुरी को एकसाथ देखना काफी अच्छा था।

संजय दत्त से रिश्ता टूटने के बाद की शादी

संजय दत्त से दूर होने के बाद माधुरी पूरी तरह टूट चुकीं थीं। ऐसे में वो अपने करियर में किसी भी तरह आगे बढ़ना चाहती थीं। इसलिए परिवार की पसंद से जब उनका फिल्मी करियर कामयाबी पर था तब उन्होंने अमेरिका में रह रहे कॉर्डियोवसक्युलर सर्जन डॉ श्रीराम नेने से 1999 में शादी कर ली। शादी के बाद माधुरी अमेरिका में जाकर रहने लगीं थीं। श्रीराम नेने से माधुरी के दो बच्चे हैं। हालांकि 10 सालों तक अपने देश से दूर रहने के बाद 2011 में माधुरी ने अपने परिवार के साथ भारत में शिफ्ट हो गईं।

एम एफ हुसैन ने माधुरी के लिए हम आपके हैं कौन 67 बार देखी

माधुरी कई दिलों पर राज करतीं हैं लेकिन उनके सबसे बड़े फैन होने का दावा मशहूर पैंटर एमएफ हुसैन किया करते थे। एम एफ हुसैन माधुरी की खूबसूरती के दीवाने थे। उन्होंने माधुरी की कई पेंटीग्स भी बनाई थी। यहां तक की उन्होंने एक बार बताया था कि उन्होंने माधु्री स्टारर फिल्म 'हम आपके हैं कौन' 67 बार देखी है। एमएफ हुसैन माधुरी के इतने कायल थे कि उनकी हर फिल्म थिएटर में देखने जाते थे।

पाकिस्तानियों ने माधुरी के लिए कश्मीर छोड़ने की कही बात

माधुरी के देश के साथ विदेशों में भी काफी फैन फॉलोइंग है। पाकिस्तान में भी माधुरी की कम दीवानगी नहीं है। Radiomirchi.com की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कारगिल युद्ध के दौरान, पाकिस्तान ने ताना मारा था, "अगर भारतीय उन्हें माधुरी दीक्षित देते हैं तो हम कश्मीर छोड़ देंगे।" इसके जवाब में भारतीय सेना ने ताना मारते हुए कहा, "क्या तुम्हें माधुरी से प्यार है!!”

सबसे ज्यादा फिल्मफेयर नॉमिनेशन पाने वाली एक्ट्रेस

माधुरी को अब तक 6 फिल्मफेयर अवॉर्ड दिए जा चुके हैं। साथ ही माधुरी का नाम सबसे ज्यादा बार फिल्मफेयर के नॉमिनेशन में रखा गया है। माधुरी के नाम 13 बार फिल्मफेयर नॉमिनेशन का रिकॉर्ड है। वहीं भारत सरकार द्वारा 2008 में माधुरी को पद्मश्री से भी सम्मानित किया जा चुका है।