खास बातचीत:मिनिषा लांबा कहती हैं- मैं ऐसी फिल्म करना चाहूंगी जिसे करने में मुझे प्राउड फील हो

मुंबई9 महीने पहलेलेखक: ज्योति शर्मा

मिनिषा लांबा जल्द ही फिल्म 'कुतुब मीनार' में नजर आने वाली हैं। मिनिषा साल 2007 में फिल्म "भूमि" में नजर आईं थीं। अब 4 साल बाद एक बहुत ही खास विषय पर बनी फिल्म में दिखेंगी। जिसके बारे में मिनिषा ने दैनिक भास्कर के साथ खास बातचीत की:

फिल्म कुतुबमीनार के बारे में बताए ?
इस फिल्म को जिस सब्जेक्ट को लेकर बनाया गया है। ना तो मैंने अब तक ऐसी बॉलीवुड फिल्में देखी है, और ना ही कोई हॉलीवुड फिल्म। जो कुतुब मीनार से मिलते-जुलते सब्जेक्ट पर बनाई गई हो। यह कहानी ऐसी औरत की है। जिसे एक बीमारी है। जिसके चलते उसे लोग अपने से दूर रखते हैं। भेदभाव करते हैं। उसके बारे में गलत कहते हैं। यह सभी चीजें एक छोटे से गांव में हो रही हैं। इसमें जो मैं किरदार निभा रही हूं। उसमें मैं एक शादीशुदा महिला हूं। जिसकी जिंदगी में पूरी तरह से उथल-पुथल मचा हुआ है। यह बहुत ही सीरियस कहानी है। इसमें आपको थोड़ी कॉमेडी देखने मिलेगी। हल्के-फुल्के कैरेक्टर देखने मिलेंगे। परिवार के ऐसे किरदार देखने मिलेंगे। जिन्हें देखकर लोगों की हंसी छूट जाती है।

फिल्म को कहां पर शूट किया गया है और आपके साथ और कौन-कौन से एक्टर है जो हमें इस फिल्म में दिखेंगे?
फिल्म को उत्तराखंड में शूट किया गया है। एक बहुत ही छोटी सी जगह थी। जहां पर उसका पूरा सेट अप किया गया था। वहां पर सिर्फ यूनिट के लोग ही थे। सबसे खास बात यह थी कि वहां पर फोन का नेटवर्क नहीं था। जिसकी वजह से इंटरनेट नहीं चलता था। इसी कारण एक सोशल मीडिया से और फोन से थोड़ी दूरी बनी थी। हम इंसानों के करीब आए थे। जहां पर हम अपने फोन में बिजी नहीं रहते थे। हम सभी आपस में बात किया करते थे, मस्ती करते थे। इस तरह हम समय बिताते थे। इस फिल्म में मेरे अलावा करणवीर बोहरा, संजय मिश्रा, त्रिधा चौधरी देखने मिलेंगे।

बॉलीवुड फिल्मों और आपके बीच दूरी की कोई खास वजह?
जब मेरे करियर की शुरुआत हुई थी। उस समय जो फिल्में मुझे ऑफर हो रही थी, और जो मैं कर रही थी। मगर मैं ऐसी कोई भी फिल्म नहीं करना चाहती हूं, जिसे करने के बाद मुझे खुद यह लगे कि मैंने यह फिल्म क्यों साइन की। इसके लिए मैं यह चाहूंगी कि जितनी कम ऑडियंस इस फिल्म को देखें उतना बेहतर। क्योंकि मैं ऐसी फिल्में करना चाहती हूं जिसे शूट करते वक्त मुझे प्राउड महसूस हो। मैं जो फिल्म कर रही हूं मुझे मजा आ रहा है, और लोगों को भी पसंद आएगी। जब तक ये नही लगता मैं कोई भी फिल्म सिर्फ करने के लिए नही करूंगी। जब फिल्म रिलीज होगी ऑडियंस का क्या फैसला होगा? लोगों को पसंद आएगी या नहीं आएगी! ये एक अलग बात है। लेकिन मुझे जब तक यह नहीं लगता कि यह एक अच्छी फिल्म हैं। तब तक मैं उसे नहीं कर सकती।

अपकमिंग प्रोजेक्ट के बारे में बताएं?
मैं एक शो कर रही हूं। जिसका नाम है "कोल्ड मेस्स"। जो रिलेशनशिप को लेकर होगा, किस तरह रिलेशनशिप में बहुत सारे उतार-चढ़ाव आते हैं। वह किस तरह से मेस होते हैं। जो बहुत ही हल्का-फुल्का, हल्की कॉमेडी वाला होने वाला है।