पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुशांत केस और ड्रग कंपनी:एनसीबी ने कहा- धर्मा प्रोडक्शन के पूर्व स्टाफर क्षितिज ने कुबूला है तीन महीने में 12 बार गांजा खरीदा था

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग कनेक्शन की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने धर्मा प्रोडक्शन में काम कर चुके क्षितिज प्रसाद को गिरफ्तार किया है। क्षितिज से पूछताछ में एनसीबी को पता चला है कि उसने मई से जुलाई 2020 के बीच 12 बार गांजा खरीदा था। एक रिपोर्ट में एनसीबी के सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि क्षितिज को करमजीत ने गांजा सप्लाई किया था।

एनसीबी के सूत्रों ने बताया कि क्षितिज को उसके अंधेरी वेस्ट स्थित घर के बाहर कई बार गांजा डिलीवर किया गया। हर बार जब उसे गांजा सप्लाई किया जाता था, तब क्षितिज 50 ग्राम गांजा देने के लिए साढ़े तीन हजार रुपए देता था। यह पेमेंट वह करमजीत नाम के शख्स को गांजा सप्लाई किए जाने पर करता था।

एक और सप्लायर की गिरफ्तारी

इसी दौरान एनसीबी ने क्षितिज के घर से पिए हुए गांजे का सबूत बरामद किया है। पूछताछ के दौरान ड्रग पैडलर अनुष्का अनरेजा, जिसे 12 सितंबर को अरेस्ट किया गया था। उसने बताया कि क्षितिज को ड्रग सप्लाई करने वाले का नाम संकेत हनुमान चंद पटेल है। इसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया। पूछताछ के दौरान संकेत हनुमान ने यह कुबूल किया है कि उसने करमजीत के कहने पर अनुष्का अनरेजा को गांजा की सप्लाई की थी।

3 दिन और पुलिस कस्टडी में रहेगा क्षितिज

क्षितिज 3 अक्टूबर तक ज्यूडिशियल कस्टडी में है। सुशांत केस के ड्रग एंगल में अब तक एनसीबी ने 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। एनसीबी ने सुशांत की गर्लफ्रैंड रही रिया चक्रवर्ती, उसके भाई शोविक और दो स्टाफ मेंबर्स से पूछताछ की है। इसके अलावा एनसीबी दीपिका पादुकोण, सारा अली खान, रकुलप्रीत सिंह और श्रद्धा कपूर से भी पूछताछ कर चुकी है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser