52 के हुए आर. माधवन:एक्टर ही नहीं बेहतरीन स्पीकर, 7 भाषाओं के जानकार, पर्सनैलिटी डेवलपमेंट की दुनिया का जाना माना नाम

4 महीने पहले

मैडी यानी आर.माधवन आज अपना 52वा बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। माधवन हिंदी के साथ तमिल फिल्मों के भी सुपरस्टार हैं। उन्होंने अपने करियर में रहना है तेरे दिल में, तनु वेड्स मनु, 3 इडियट्स जैसी कई बेहतरीन फिल्में की हैं लेकिन क्या आप जानते हैं माधवन एक्टर के साथ ही बेहतरीन लेक्चरार भी हैं। माधवन का सपना पहले आर्मी में जाना था। वो 22 साल की उम्र में लंदन जाकर ब्रिटिश आर्मी 'द रॉयल नेवी' और 'द रॉयल फोर्स' के साथ ट्रेनिंग कर चुके हैं। उन्हें क्यूटेस्ट वेजिटेरियन मेल के टाइटल से भी नवाजा जा चुका है। आर.माधवन को 7 भाषाएं आती हैं। माधवन एक बेहतरीन एक्टर होने के साथ ही शानदार स्पोकपर्सन भी हैं वो पब्लिक स्पिकिंग और पर्नैलिटी डेवलपमेंट की दुनिया का जानामाना नाम हैं। 2017 में माधवन हार्वर्ड विश्वविद्यालय की एनुअल कॉन्फ्रेंस का हिस्सा भी रह चुके हैं। तो अब तक तो आप जान ही गए हैं कि जिस माधवन को आप जानते हैं वो सिर्फ एक्टर नहीं हैं तो चलिए आज उनके बर्थडे पर हम बात करते हैं उनका 52 सालों का सफर।

कनाडा में कॉलेज को किया रिप्रजेंट

1 जून 1970 को जमशेदपुर में जन्में माधवन के पिता रंगनाथन लैंगर टाटा स्टिल में मैनेजमेंट एक्जिक्यूटिव हैं और उनकी मां सरोज बैंक ऑफ इंडिया में मैनेजर हैं। उनकी एक छोटी बहन भी है जो यूके में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। माधवन स्कूली शिक्षा भी जमशेदपुर में ही हुई जिसके बाद उन्होंने मुंबई में रहते हुए पब्लिक स्पीकिंग में पोस्ट ग्रेजुएशन किया। माधवन को इसी दौरान अपने कॉलेज से कल्चरल एंबेसडर के तौर पर अपने देश को कनाडा में रिप्रजेंट करने का मौका भी मिला। माधवन ने इलेक्ट्रानिक्स में बीएससी की है।

महाराष्ट्र के बेस्ट कैडेट बने

कॉलेज के दौरान माधवन NCC में भी काफी एक्टिव रहते थे। उन्हें एनसीस कैडेट के तौर पर इंग्लैंड जाने का मौका भी मिला है। वहां उन्होंने ब्रिटिश आर्मी, रॉयल नेवी और रॉयल एयरफोर्स से ट्रेनिंग ली। पढ़ाई में अच्छे होने के साथ माधवन अनिय चीजों में भी दिलचस्पी लेते थे इसके चलते उन्हें कई बार विदेश जाने का मौका भी मिला है। इसके बाद माधवन का मन आर्मी में जाने का था पर जब माधवन को ये मौका मिला तब वो आर्मी के लिए एलिजिबल नहीं निकले जिस वजह से उन्हें आर्मी में नहीं लिया गया।

टीवी सीरियल से शुरू हुआ एक्टिंग का सफर

आर.माधवन अब फिल्मों में करियर बनाने का मन बना चुके थे। माधवन ने सबसे पहले चंदन पाउडर के एक ऐड में काम किया। इस ऐड के संतोष सिवान ने माधवन को डायरेक्टर मणिरत्नम की फिल्म इरुवर के लिए लीड रोल के लिए टेस्ट देने को कहा। पर मणिरत्नम ने माधवन को ये कहकर रिजेक्ट कर दिया कि इस रोल के लिए फिट नहीं बैठते। फिर माधवन ने अपने एक्टिंग करियर को आगे बढ़ाने के लिए छोटे पर्दे का सहारा लिया। उन्होंने टीवी सीरियल बनेगी अपनी बात से शुरुआत की और घर जमाई, साया, आरोहण, ये कहां आ गए हम में काम किया। जिसके बाद उन्हें इस रात की सुबह नहीं फिल्म में काम मिला पर इस फिल्म में उनका रोल काफी छोटा था जिस वजह से उन्हें फिल्म में क्रेडिट भी नहीं दिया गया।

इंग्लिश फिल्म में किया काम

माधवन को फिल्म इन्फर्नों में एक पुलिस ऑफिसर का रोल मिला। इस फिल्म में भी उनका रोल ज्यादा बड़ा नहीं था इसलिए माधवन को जिस मौके और पॉपुलैरिटी की तलाश थी वो नहीं मिल पा रहा था। जिसके बाद उन्होंने कन्नड़ फिल्मों का रुख कर लिया। उनकी पहली कन्नड़ फिल्म शांति, शांति, शांति थी जो 1998 में रिलीज हुई थी पर ये फिल्म कुछ ज्यादा कमाल नहीं कर पाई और माधवन फिर चुक गए। लेकिन फिल्म में माधवन की एक्टिंग को सराहा गया जिसके चलते उन्हें डायरेक्टर मणिरत्नम ने अपनी फिल्म अलईपायथे में कास्ट किया। ये फिल्म सन् 2000 में रिलीज हुई और कमाल कर गई। इस फिल्म से माधवन एक एक्टर के तौर पर कन्नड़ सिनेमा में पहचाने जाने लगे। जिसके बाद माधवन ने कई कन्नड़ और तेलुगु फिल्मों में काम किया।

'रहना है तेरे दिल में' ने बदली किस्मत

माधवन को अब भी जिस फैम की तलाश थी वो नहीं मिल रहा था। लेकिन साल 2001 में उन्हें फिल्म मिली रहना है तेरे दिल में। इस फिल्म में माधवन को मैडी का रोल मिला था। इस फिल्म को उस समय ज्यादा पसंद नहीं किया गया लेकिन फिल्म ने बाद में कमाल कर दिया और फिल्म के म्यूजिक और मैडी का जादू लोगों पर चल निकला। इस फिल्म में दिया मिर्जा और सैफ अली खान के साथ आर.माधवन थे। लेकिन एक बेबाक लड़के के रोल में माधवन सबको पसंद आए और उनका ये रोल आज भी लोग याद करते हैं। इस फिल्म के लिए माधवन को स्क्रीन अवॉर्ड से नवाजा गया और इस फिल्म के बाद माधवन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

अपनी स्टूडेंट से हुआ प्यार

फिल्मों में आने से पहले आर.माधवन बच्चों को स्कूल में पढ़ा भी चुके हैं। आर.माधवन की पत्नी सरिता उनकी ही क्लास में पढ़ती थी। पर्सनैलिटी डेवलपमेंट की क्लॉस के बाद सरिता एक एयरहोस्टेस बन गईं जिसके बाद आर.माधवन को उन्होंने अपनी पार्टी में बुलाया बस फिर क्या था दोनों की मुलाकातों का सिलसिला चल पड़ा और इस दौरान आर.माधवन अपनी ही स्टूडेंट को दिल दे बैठे। बाद में साल 1999 में उन्होंने सरिता से शादी रचा कर ली थी। फिलहाल दोनों का एक बेटा है वेदांत जिसने हाल ही में भारत को डेनिश ओपन में पुरुषों की 800 मीटर रेस में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया है। माधवन ने खुद इस मूवमेंट को ट्विटर पर शेयर किया था।

क्यूटेस्ट वेजिटेरियन मेल

आर.माधवन बॉलीवुड के शुद्ध शाकाहारी अभिनेताओं में से एक हैं। वेजिटेरियन होने के नाते आर.माधवन PETA के भी मेंबर हैं। उन्हें जानवरों के साथ समय बीताना बहुत पसंद है। वो अक्सर अपने डॉगी के साथ मस्ती करते नजर आ जाते हैं। इतना ही नहीं आर.माधवन 'क्यूटेस्ट वेजिटेरियन मेल' का टाइटल भी जीत चुके हैं।

गोल्फ खेलने में माहिर

क्या आप जानते हैं कि आर.माधवन एक शानदार गोल्फ प्लेयर भी हैं। आर.माधवन कई बार चैरेटी के लिए गोल्फ खेलते हैं। आर.माधवन गोल्फ की मुंबई मर्सिडीज ट्रॉफी मैच में हिस्सा ले चुके हैं। 2017 में तो आर.माधवन इस ट्रॉफी के फाइनल तक पहुंच गए थे।

7 भाषा जानते हैं माधवन

आर.माधवन 7 भाषा जानते हैं। ऐसे में आर.माधवन बॉलीवुड के उन गिने चुने सितारों में से एक हैं जिन्होंने अपने करियर में 7 भाषा की फिल्मों में काम किया है।

पब्लिक स्पीकिंग पर्सनैलिटी डेवलपमेंट की दुनिया का जाना माना नाम

एक शानदार एक्टर होने के साथ साथ आर.माधवन एक अच्छे वक्ता भी हैं। इतना ही नहीं आर.माधवन पब्लिक स्पीकिंग और पर्सनैलिटी डवलपमेंट की दुनिया का जानामाना नाम है। साल 1992 में आर.माधवन 'यंग बिजनेसमैन कॉन्फ्रेंस टोकियो' जापान में इंडिया को रिप्रजेंट कर चुके हैं। साथ ही आर.माधवन हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एनुअल कॉन्फ्रेंस का भी हिस्सा रह चुके हैं यहां आर.माधवन की स्पिच ने लोगों का दिल जीत लिया था।

103 करोड़ है नेटवर्थ

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आर.माधवन की नेटवर्थ 103 करोड़ रुपए है। माधवन लग्जरी लाइफ जीते हैं और उन्हें बाइक का खासा शौक है। उनके बाइक कलेक्शन में BMW K1600 GLA, डुकाटी डिआवल और यामाहा V-मैक्स जैसी शानदार बाइक्स शामिल हैं।