• Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • On Comparison With Shweta Tiwari, Daughter Palak Tiwari Said– I Cannot Consider Myself Better Than My Mother, I Am Working Hard To Prove Myself

बातचीत:श्वेता तिवारी से तुलना पर बेटी पलक तिवारी बोलीं- मैं खुद को अपनी मां से बेहतर नहीं मान सकती, खुद को साबित करने के लिए काफी मेहनत कर रही हूं

9 महीने पहलेलेखक: किरण जैन
  • कॉपी लिंक

एक्ट्रेस श्वेता तिवारी की बेटी पलक तिवारी जल्द ही बॉलीवुड में अपना डेब्यू करने को तैयार हैं। 20 साल की पलक फिल्म 'रोजी: द सैफरन चैप्टर' में नजर आएंगी जो सच्ची घटनाओं से प्रेरित है। हाल ही में दैनिक भास्कर से खास बातचीत के दौरान, पलक ने अपने प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ से जुड़ी कुछ खास बातें शेयर की हैं। बातों ही बातों में पलक ने कहा कि वो कभी भी अपनी मां श्वेता तिवारी से अपनी तुलना नहीं कर सकती हैं।

पलक, मधुबाला को मानती हैं अपना आइकन

पलक कहती हैं, "मैं बचपन से ही एक्टर बनना चाहती थी, यकीन मानिये इसके अलावा मैंने कभी कुछ और करने का सोचा ही नहीं। जब आप एक एस्पाइरिंग एक्टर होते हैं और आपको आपकी पहली फिल्म मिलती है, उससे ज्यादा खुशी की बात कुछ हो ही नहीं सकती है। मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। जब मैं फिल्म 'रोजी' के लिए फाइनल हुई, तब मैं खुशी से झूम उठी थी। ये फिल्म 2000 की सच्ची घटना पर आधारित है। फिल्म में मैं एक रूह का किरदार निभा रही हूं, जिसके लिए मैंने कई पुरानी फिल्में देखी। मैंने अभिनेत्री मधुबाला की फिल्म 'महल' देखी जिसमें वो एक आत्मा बनी थीं। इतना ही नहीं मैंने मधुबाला के हर काम को देखा क्योंकि मुझे एरा को दिखाना था। मैं मधुबाला जी को अपना आइकन मानती हूं, उनके काम से बहुत प्रोत्साहित हूं।"

शूटिंग के समय पलक को लगता था डर

पलक आगे कहती हैं, "ये फिल्म गुरुग्राम में हुए एक हादसे पर आधारित हैं। हमारी फिल्म भी उसी लोकेशन पर शूट होने वाली थी जहां रोजी रियल लाइफ में रहती थी। हालांकि, लगातार कोरोना के बढ़ते मामले की वजह से वो प्लान कैंसिल हो गया। सच कहूं तो मैं बहुत खुश हो गई थी मैं नहीं चाहती थी कि रोजी की रूह मेरे आस पास भटके। हमने पुणे के पुराने हॉस्टल में शूट किया, फिर मुंबई में इंडोर शूट किए और कुछ पोरशन लखनऊ में शूट किए। शूटिंग के दौरान, कई बार एहसास होता था कि रोजी हमारे आसपास ही है। डर जरूर लगता था, लेकिन कभी इसकी वजह से मैंने काम करना बंद नहीं किया।"

पलक ने अपने किरदार के लिए एक्सरसाइज छोड़ दी थी

पलक ने कहा, "मुझे पर्सनली एक्सरसाइज करना बहुत पसंद है, लेकिन रोजी के किरदार के लिए मुझे एक्सरसाइज से कुछ दिनों के लिए ब्रेक लेना पड़ा था। रोजी एक आत्मा है, तो जाहिर है उसे हम ज्यादा ग्लैमरस नहीं दिखा सकते। इसी वजह से मैंने एक्सरसाइज छोड़ी ताकि मेरा शरीर स्क्रीन पर थोड़ा और दुबला नजर आए। फिर जैसे ही शूट खत्म हुआ, मैं फिर से अपने रूटीन पर लौट आई।"

छोटे भाई के लिए उदाहरण बनना चाहती हैं पलक

पलक ने आगे कहा, "मैं हमेशा से एक्टिंग ही करना चाहती थी, लेकिन जिंदगी में एक ऐसा मोड़ भी आता है जब आपको लगता है कि पढ़ाई पर ध्यान देना भी बहुत जरूरी है। मेरा एक छोटा भाई भी है, मैं उसके लिए भी एक अच्छा उदाहरण बनना चाहती थी। मैं 10वीं में थी जब मेरे पहले डेब्यू की बात चल रही थी। उस वक्त मैंने एक्टिंग से ध्यान हठाकर अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने का फैसला किया था। मैंने एक्टिंग में करियर बनाने से पहले डिग्री हासिल करना चाहा और अब मुझे लगता है कि मैं तैयार हूं एक्टिंग में अपनी किस्मत आजमाने के लिए।"

पलक अपने आप को कभी नहीं मान सकती हैं अपनी मां से बेहतर

पलक ने बताया, "इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि लोग मेरी तुलना मेरी मां श्वेता तिवारी से करेंगे। मुझे इस बात का बिलकुल डर नहीं है क्योंकि मैं ऐसा कुछ साबित नहीं करना चाहती। मैं एक अलग पर्सनालिटी हूं और चाहती हूं कि लोग मुझे और मेरे काम को समझें और पसंद करें। मैं अपने आप को कभी भी अपनी मां से बेहतर मान ही नहीं सकती हूं। ख्वाहिश है कि मैं अपनी एक अलग पहचान बनाउं जिसके लिए मैं काफी मेहनत कर रही हूं।"

पलक को नहीं पड़ता है किसी भी बातों का फर्क

पलक ने आगे बताया, "जब पर्सनल लाइफ के बारे में लोग बातें करते हैं तो मुझे उससे बिलकुल फर्क नहीं पड़ता है। मेरी मां भी ऐसी ही हैं। हमें पता है कि हमने कोई गलत काम नहीं किया है, तो हम भला डरे क्यों? लोगों को मेरी पर्सनल लाइफ के बारे में सही बात पता ही नहीं, वो तो सिर्फ अज्यूम करते हैं। ऐसे में मैं हर किसी को जवाब तो नहीं दे सकती हूं ना। सोशल मीडिया का जमाना है, लोग कमेंट भी करते हैं। शुरूआती में मैं उन्हें पढ़ती थी, लेकिन अब वो भी नहीं करती। मेरे लिए खुद का सही होना बहुत जरूरी है, ये बिलकुल मायने नहीं रखता कि लोग क्या कहते हैं।"

खबरें और भी हैं...