पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुशांत की मौत का एक महीना:दिल बेचारा के डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा हुए इमोशनल, बोले-'अब तो कभी फोन भी नहीं आएगा तेरा'

10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सुशांत सिंह राजपूत की मौत को 14 जुलाई को एक महीना पूरा हो गया। उन्हें याद कर उनके करीबी इमोशनल हो रहे हैं। मुकेश छाबड़ा भी इनमें से एक हैं। उन्होंने इंस्टाग्राम पर सुशांत को याद कर एक इमोशनल पोस्ट शेयर की।

उन्होंने सुशांत स्टारर आखिरी फिल्म दिल बेचारा की मेकिंग के दौरान की कुछ फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा, 'एक महीना हो गया है आज, अब तो कभी फोन भी नहीं आएगा तेरा'।

इससे पहले 9 जुलाई को भी मुकेश ने सुशांत को याद करते हुए एक इमोशनल पोस्ट शेयर की थी।  उन्होंने ट्विटर पर लिखा था, ‘9 जुलाई को पूरे दो साल पहले आज ही के दिन जमशेदपुर में फिल्म दिल बेचारा की शूटिंग शुरू हुई थी। सब बदल गया।’ 

दिल बेचारा के डायरेक्टर हैं मुकेश: मुकेश बॉलीवुड के जाने-माने कास्टिंग डायरेक्टर हैं। वह दिल बेचारा से अपना डायरेक्टोरियल डेब्यू करने जा रहे हैं जो कि 24 जुलाई को ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज हो रही है। इस फिल्म में सुशांत के साथ संजना सांघी मुख्य भूमिका में नजर आएंगी। 

मुकेश सुशांत के करीबी दोस्तों में से एक थे। वह सुशांत की मौत की खबर सुनकर सबसे पहले उनके घर पहुंचे थे। सुशांत की मौत के बाद उन्हें याद करते हुए मुकेश ने सोशल मीडिया पर लिखा था,'सुशांत मेरे लिए भाई जैसा था। जो भी हुआ वो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है जिसे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता।'   

मुकेश ने आगे लिखा था, 'सुशांत इंट्रोवर्ट थे लेकिन वह बेहद होशियार और टैलेंटेड थे। इंडस्ट्री ने ऐसा रत्न खो दिया है जिसकी कमी कभी पूरी नहीं की जा सकेगी। मैं बेहद शॉक में हूं। अब तक यकीन नहीं कर पा रहा। हमारी कभी न खत्म होने वाली बातें हमेशा के लिए बंद हो गईं। मैं उम्मीद करता हूं कि तुम अब बेहतर जगह पर होगे मेरे भाई, तुम्हें हमेशा मिस करूंगा, लव यू। मेरा भाई।' 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें