एक्टिंग के लिए फेमस, रिश्तों में नाकाम ब्रैंडो:बदमिजाजी-अफेयर्स के कारण बदनाम रहे मार्लन ब्रैंडो, गॉडफादर से पहले 10 साल तक दी फ्लॉप फिल्में

5 महीने पहलेलेखक: ईफत कुरैशी

आप अगर हॉलीवुड फिल्मों के फैन हैं...तो ये चेहरा आपको बहुत अच्छे से याद होगा।

ये 1972 में आई हॉलीवुड फिल्म गॉडफादर है। ये सिर्फ फिल्म नहीं है, इसे एक्टिंग का इंस्टीट्यूट माना जाता है और इस इंस्टीट्यूट के प्रोफसर हैं मॉर्लन ब्रैंडो। जी हां, ब्रैंडो सिर्फ हॉलीवुड के नहीं दुनिया के सबसे बेहतरीन एक्टर माने जाते हैं। दुनिया में जहां-जहां भी अंडरवर्ल्ड पर फिल्में बनती हैं, वहां गॉडफादर का किरदार निभाने वाले मार्लन ब्रैंडो को ही कॉपी किया जाता है। बॉलीवुड में दिलीप कुमार से कमल हासन तक, सबने कभी ना कभी ब्रैंडो को कॉपी किया है।

तो, आज अनसुनी दास्तानें में बात इन्हीं मार्लन ब्रैंडो की। इन्होंने दुनिया को मैथड एक्टिंग सिखाई। पूरी दुनिया के फिल्म सितारे जिस एक्टर को फॉलो करते हैं, उसकी अपनी जिंदगी कभी इतनी आसान नहीं रही। बचपन शराबी माता-पिता से शुरू हुआ, इनके लिए एक ट्यूटर रखी गई जिसने 4 साल की उम्र में इनका सेक्शुअल हैरेसमेंट किया, एक्टिंग की दुनिया में आए तो करियर लगभग डूबने को था और कोई फिल्म मेकर इनको फिल्मों में लेना नहीं चाहता था। 3 शादियां, कई अफेयर, 11 बच्चे और तीन पुरुषों से होमोसेक्शुअल रिलेशन। हर तरह से विवादों से भरी जिंदगी।

पढ़िए, दुनिया के सबसे बेहतरीन एक्टर मार्लन ब्रैंडो की जिंदगी...परत-दर-परत।

4 साल में ट्यूटर ने किया था सेक्शुअली एब्यूज

3 अप्रैल 1924 को ओमाहा, नेब्रास्का में कैमिकल मैन्यूफैक्चरर मार्लन ब्रैंडो सीनियर और एक्ट्रेस डोरोथो जूलिया के घर मार्लन का जन्म हुआ। मार्लन कभी अपने बचपन को लेकर खुश नहीं रहे। मां शराबी थीं जिन्हें पिता अकसर नशे की हालत में बार से घर लेकर आते थे। अपनी ऑटोबायोग्राफी सॉन्ग्स माय मदर टॉट मी में मार्लन ने अपनी मां को याद करते हुए कहा, मेरी मां हमारा ख्याल रखने से ज्यादा शराब पीना पसंद करती थीं।

देखते-ही-देखते पिता भी शराबी हो गए। पिता रोज शराब के नशे पर मार्लन को बुरी तरह पीटा करते थे और खूब भद्दी बातें सुनाते थे। मां-बाप के बुरे बर्ताव का असर उनकी पढ़ाई पर पड़ने लगा। स्कूल में मार्लन बुरा बर्ताव करते और रोजाना उन्हें स्कूल में सजा मिलती। मार्लन के लिए घर में एक यंग ट्यूटर बुलाई जाने लगी।

मार्लन उसे पसंद करते थे, लेकिन महज 4 साल की उम्र में उसी ट्यूटर ने मार्लन का शारीरिक शोषण किया। घरवालों ने उस ट्यूटर को निकाल दिया तो मार्लन को ताउम्र उसके जाने का पछतावा रहा। 11 साल की उम्र में मां-बाप अलग हुए तो मां ने ही कुछ सालों तक अकेले परवरिश की और फिर दोनों की सुलह हो गई। 15 साल की उम्र में ही मार्लन शहर के इकलौते मूवी थिएटर की लाइब्रेरी में 1939-1941 बतौर सहायक शिक्षक काम करने लगे।

बचपन में दोस्तों की मिमिक्री करके खींच लेते थे ध्यान

मार्लन लोगों की नकल उतारने में माहिर थे। इस कला के चलते ये अपने साथियों की मिमिक्री करते और ड्रामेटिक अंदाज से लोगों को खूब हंसाते। मार्लन स्कूल के बदमाश बच्चों में से थे जो लिबर्टीविले हाई स्कूल के कॉरिडोर में साइकिल चलाने पर स्कूल से बाहर कर दिए गए थे। दूसरी बार उनका एडमिशन वहां करवाया गया जहां सालों पहले उनके पिता ने पढ़ाई की थी।

मार्लन थिएटर और स्कूल दोनों में बेहतरीन थे। 1943 में युद्ध काल के दौरान उन्हें एक मिलिट्री कर्नल के पास प्रोबेशन पर रखा गया। इससे बचने के लिए मार्लन ने खुद को अपने कमरे में कैद कर लिया। एक दिन मार्लन घर से निकले और उन्हें पकड़ लिया गया। बदमाशियों के चलते फिर टीचर्स ने इन्हें स्कूल से निकालने का फैसला किया, लेकिन स्टूडेंट्स की मदद से उन्हें रोक लिया गया। इसके बावजूद मार्लन ने स्कूल छोड़ दी। छुट्टियों में मार्लन ने खाई खोदने जैसी छोटी नौकरी की।

पहली बार मिली तारीफ, वजह थी एक्टिंग

स्कूल और आर्मी से रिजेक्ट होने के बाद मार्लन अपनी बहन के पास न्यूयॉर्क चले गए, जो वहां एक्टिंग स्कूल में पढ़ाई कर रही थीं। लोगों ने जैसे ही मार्लन की एक्टिंग देखी तो हैरान रह गए। ये पहली बार था जब मार्लन को किसी ने अपनाया था। एक्टिंग में मजा आने लगा तो वो दोस्त रॉय साम्लेयो के साथ रहने लगे। घर में जगह नहीं थी तो मार्लन ने सोफे पर सोकर ही गुजारा किया।

करियर की शुरुआत में कर चुके थे मेकर्स को परेशान

1945 में मार्लन ब्रांडो को एजेंट की मदद से पहली फिल्म द ईगल हैज टू हेड्स मिली। ऑडिशन में खराब प्रदर्शन करने के बावजूद डायरेक्टर तालूलाह बैंकहैड ने उन्हें साइन कर लिया, क्योंकि उन्होंने मार्लन की मेथड एक्टिंग के किस्से सुने थे।

मार्लन हमेशा से ही सेट पर मेकर्स को परेशान कर दिया करते थे। मार्लन किरदार में जाने तक डायरेक्टर के एक्शन कहने के बावजूद शॉट नहीं देते थे। एक्शन कहे जाने के बावजूद वो कैमरामैन और दूसरे प्रोडक्शन के लोगों से बात किया करते थे। उनका ये अनप्रोफेशनल रवैया हर किसी को परेशान करता, हालांकि बाद में लोगों ने खुद कहा कि ये उनका किरदार में जाने का तरीका था, जिसे आज दुनियाभर के नामी एक्टर फॉलो करते हैं।

पहले स्क्रीन रोल की तैयारी के लिए 1 महीने अस्पताल में भर्ती रहे मार्लन

मार्लन ब्रैंडो को फिल्म द मैन (1950) में पहली बार स्क्रीन रोल मिला। अपने किरदार की तैयारी करने के लिए मार्लन पूरे एक महीने तक बर्मिंघम के एक अस्पताल में भर्ती रहे। करियर की शुरुआत में ही मार्लन अपनी लाइन्स याद रखने से बचने के लिए क्यू कार्ड यूज करते थे, जिससे कई डायरेक्टर्स को आपत्ति थी।

नाक टूटी तो की जिद में किया इलाज से इनकार

स्ट्रीटकार नेम्ड डिजायर के एक एक्शन सीन के दौरान मार्लन की नाक टूट गई। उन्हें नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उन्होंने नाक के इलाज से इनकार कर दिया। आगे मार्लन ने वायवा जापाटा, जूलियस सीजर जैसी फिल्में कीं। कुछ फिल्मों में इनके अभिनय ने सबको हैरान किया, वहीं कुछ लोगों ने इन्हें बुरा एक्टर कहा।

खाने की लत से पड़ा हेल्थ पर असर

कम उम्र में भी मार्लन ब्रैंडो को ईटिंग डिसॉर्डर हुआ। ये दिन भर जंक और खाना खाते ही रहते। कई बार तो ये सेट से बिना किसी को बताए खाने निकल जाते। टीम के लोग इन्हें कैफे से उठाकर लाते और वो दोबारा खाने निकल जाते। सेट पर भले ही मार्लन ने लोगों को खूब परेशान किया, लेकिन जब उन्होंने शॉट दिया तो हर कोई उनकी बुरी आदतों को आसानी से नजरअंदाज कर गया।

डिजायर (1954), गाइज एंड डॉल्स (1955), द टीहाउस ऑफ द अगस्त मून (1956) जैसी फिल्मों से मार्लन हॉलीवुड स्टार बन गए। द टीहाउस ऑफ द अगस्त मून फिल्म में सकिनी का रोल प्ले करने के लिए मार्लन कई दिनों तक भूखे रहे। फिल्म को 3 ऑस्कर अवॉर्ड मिले।

पैसे कमाने की चाह में बिना स्क्रिप्ट पढ़े फिल्में साइन करने लगे थे मार्लन

1963 तक पर्सनल लाइफ की दिक्कतों के चलते मार्लन ने करियर पर ध्यान देना लगभग बंद कर दिया और इसे सिर्फ पैसे कमाने का जरिया समझने लगे। मार्लन ने ऑफर होने वाली सभी फिल्में की, जिससे उनके नाम कई फ्लॉप फिल्में आईं। फिल्म क्रिटिक ने उनके इस रवैये के खिलाफ काफी खुल कर लिखने और बोलने लगे थे।

पहले मार्लन स्क्रिप्ट पढ़कर फिल्में साइन करते थे, लेकिन एक समय ऐसा आया जब वो किसी भी प्रोडक्शन हाउस के साथ 5-6 फिल्मों का कॉन्ट्रैक्ट बिना स्क्रिप्ट देखे साइन करने लगे। इस दौरान उनकी द अग्ली अमेरिकन, बेडटाइम स्टोरीज, द अप्पालूसा, ए काउंटलेस फ्रॉम हॉन्ग कॉन्ग और द नाइट ऑफ द फॉलोविंग डे जैसी बैक-टु-बैक फिल्में फ्लॉप हुईं।

कंगाली की कगार पर पहुंचे, 3 शर्तों पर मिली फिल्म

मार्लन ब्रैंडो के खाते में 1958- 1971 तक एक भी हिट फिल्म नहीं थी। 1971 तक ब्रैंडो लगभग कंगाली की कगार पर आ चुके थे। मेकर्स को परेशान करने वाले रवैये के कारण लोगों ने उन्हें बड़ी फिल्मों में लेना बंद कर दिया। जब फिल्म गॉडफादर की कास्टिंग शुरू हुई तो प्रोडक्शन ने कई बड़े अभिनेताओं की लिस्ट बनाई, जिसमें मार्लन भी शामिल थे।

प्रोडक्शन हाउस पैरामाउंट पिक्चर के प्रेसिडेंट मार्लन के खिलाफ थे। जब कई लोगों ने उनके नाम पर हामी भरी तो प्रेसिडेंट ने उन्हें कास्ट करने की 3 बड़ी शर्ते रखीं।

पहली शर्त- मार्लन को मिनिमम फीस दी जाएगी।

दूसरी शर्त- अगर मार्लन के अनप्रोफेशनल रवैये से प्रोडक्शन में रुकावट आई तो इसके खर्च की भरपाई वो खुद करेंगे।

तीसर शर्त- उन्हें इस फिल्म से पहले ऑडिशन और स्क्रीन टेस्ट देना होगा।

ऑडिशन के लिए घंटों तक मुंह में रुई फंसाकर बोलते रहे डायलॉग

मार्लन ऑडिशन देने पहुंचे। लुक परफेक्ट हो तो उन्होंने खुद अपना मेकअप किया। उन्होंने चेहरे की बनावट तीखी करने के लिए मार्लन ने रुई की बॉल्स को मुंह के अंदर रखा। मार्लन के स्क्रीनटेस्ट ने प्रोडक्शन वालों को खूब इंप्रेस किया।

उन्हें तुरंत कास्ट कर लिया गया, हालांकि शर्त के अनुसार उन्हें फिल्म के लिए महज 50 हजार डॉलर फीस मिली और ग्रॉस प्रॉफिट में 1 प्रतिशत की हिस्सेदारी। ये वर्ल्ड सिनेमा की सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक है।

न्यूड सीन शूट करने पर डायरेक्टर से नहीं की 15 साल तक बात

इसी साल बेर्नार्डो बार्टोलूची के डायरेक्शन में बनी फिल्म द लास्ट टैंगो इन पेरिस रिलीज हुई। फिल्म सेक्शुअल कंटेंट, रेप सीन और आपत्तिजनक सीन से भरी पड़ी थी। फिल्म के लिए मार्लन ने इतने क्यू कार्ड इस्तेमाल किए कि डायरेक्टर को उन्हें सीन से हटाने के लिए खूब परेशानी उठानी पड़ी।

फिल्म में डायरेक्टर ने मार्लन के न्यूड सीन और उनके जेनिटल पार्ट्स के सीन शूट किए थे। इस पर मार्लन ने कहा- मैं 48 साल का था, लेकिन शूटिंग के दौरान लगा कि मेरा रेप हुआ हो। शूटिंग के बाद 15 साल तक मार्लन ने डायरेक्टर बेर्नार्डो से बात नहीं की।

सार्वजनिक रूप से कबूली थी होमोसेक्सुल होने की बात

मार्लन ब्रैंडो का फिल्म करियर खराब होने का बड़ा कारण उनकी पर्सनल लाइफ और अफेयर भी रहे। 1976 में फ्रेंच जर्नलिस्ट को दिए एक बयान में मार्लन ने साफ कहा कि उनके होमोसेक्शुअल रिलेशन रहे हैं और इसमें शर्मिंदगी की कोई बात नहीं है। इनका नाम पॉपुलर एक्टर जैक निकलसन और रिचर्ड प्रियोर से भी जुड़ा।

1950 के दशक में मार्लन का नाम डांसर रीको साटो से जुड़ा, लेकिन चंद महीनों में ही दोनों अलग हो गए। आगे इनका नाम एक्ट्रेस एरियाना पेट क्विन, एक्ट्रेस कैटी जुराडो जैसी कई लड़कियों से जुड़ा।

मार्लन ने बच्चा गिरवाया तो एक्ट्रेस ने की आत्महत्या की कोशिश

1954 में मार्लन का नाम रीटा मोरेनो से जुड़ा। रिलेशनशिप के दौरान रीटा प्रेग्नेंट हुईं तो मार्लन ने उनका अबॉर्शन करवा दिया। जब मार्लन का नाम फ्रेंच एक्ट्रेस तारीता तेरिपाई से जुड़ा तो रीटा ने मार्लन की स्लीपिंग पिल्स का ओवरडोज लेकर आत्महत्या करने की कोशिश की। रीटा को बचा लिया गया और दोनों अलग हो गए।

भारतीय मूल की गर्लफ्रेंड एना प्रेग्नेंट थी तो सगाई तोड़कर की शादी

पहली शादी- 30 साल के मार्लन का अफेयर 19 साल की फ्रेंच एक्ट्रेस जोसाने मारियानी से भी रहा। दोनों सगाई भी करने वाले थे, लेकिन जैसे ही मार्लन को पता चला कि उनकी दूसरी गर्लफ्रेंड एना काश्फी प्रेग्नेंट हैं, तो उन्होंने जोसाने को छोड़कर एना से 1957 में शादी कर ली। दोनों का 11 मई 1958 को एक बेटा क्रिस्टियन ब्रैंडो हुआ, लेकिन अगले ही साल दोनों ने तलाक ले लिया।

दूसरी शादी- 1960 में मार्लन ने मेक्सिकन एक्ट्रेस मोविटा कास्टानेडा से दूसरी शादी की। 8 साल बाद जैसे ही मार्लन को पता चला कि उनकी पत्नी ने पहली शादी से तलाक नहीं लिया है तो दोनों अलग हो गए। इस शादी से मार्लन के दो बच्चे मिको और रेबेका हुए।

तीसरी शादी- 1962 में ही दूसरी पत्नी के होते हुए भी मार्लन ने पूर्व गर्लफ्रेंड तारिटा तेरिपाइया से तीसरी शादी की। तारिटा मार्लन से 18 साल छोटी थीं। इस शादी से कपल को दो बच्चे सिमोन और शेयेन हुए। शादी के 10 साल बाद दोनों ने तलाक ले लिया। तलाक के बाद मार्लन ने तारिटा की बेटी मैमिटी और भतीजी राइआटुआ को गोद लिया।

4 नाजायज बच्चे और 3 को गोद लिया

तीसरी शादी टूटने के बाद मार्लन का एक्ट्रेस लिल बैनर से सालों तक अफेयर रहा, लेकिन जब ये रिश्ता भी खत्म हुआ तो मार्लन अपनी हाउस कीपर मारिया क्रिस्टीना रुइज के साथ रिलेशन में आ गए। इस रिलेशन से इनके तीन नाजायज बच्चे हुए। इसी समय मार्लन ने अपनी असिस्टेंट की बेटी पेट्रा को भी गोद लिया।

मार्लन की मौत के बाद उनकी बेडटाइम स्टोरी फिल्म की को-स्टार सिनथिया लिन की बेटी ने बताया कि फिल्म की शूटिंग के दौरान उनकी मां का मार्लन से अफेयर था। इस अफेयर से ही उनका जन्म हुआ था।

मर्लिन मुनरो से रहा अफेयर, रहस्यमयी मौत के चंद दिनों पहले हुई थी बात

मार्लन और सेक्स सिंबल कही जाने वाली मर्लिन मुनरो का रिलेशन भी काफी सुर्खियों में रहा। दोनों की मुलाकात एक पार्टी में हुई जहां मर्लिन अकेले कोने में बैठकर पियानो बजा रही थीं। जब मर्लिन, मार्लन के पास पहुंची तो गलती से मार्लन की कोहनी उनके चेहरे पर लगी। दोनों की माफी से बातचीत शुरू हुई और दोनों का रिलेशन सुर्खियों में आ गया।

कहा गया कि ये महज सेक्शुअल रिलेशनशिप था। मर्लिन ने मौत से महज 3-4 दिनों पहले मार्लन को कॉल करके मिलने की बात कही थी, लेकिन बिजी शेड्यूल के चलते वो मिल नहीं सके। मर्लिन की मौत के बाद मार्लन ने बताया कि उसके साथ कई लोगों ने बदसलूकी की थी, जिसका जिक्र वो अक्सर कॉल्स के दौरान करती थीं।

ऑस्कर ठुकराने वाले दुनिया के पहले एक्टर हैं मार्लन ब्रैंडो

साल 1972 में द गॉडफादर फिल्म के लिए मार्लन ब्रैंडो को बेस्ट एक्टर का ऑस्कर अवॉर्ड मिला था, हालांकि उन्होंने ये अवॉर्ड लेने से इनकार कर दिया। सेरेमनी में जब उनके नाम की घोषणा हुई तो हॉलीवुड एक्ट्रेस साचीन क्रूज 12 पन्नों के साथ स्टेज पर पहुंचीं। स्टेज पर उन्होंने बताया कि मार्लन इसलिए अवॉर्ड नहीं लेंगे क्योंकि हॉलीवुड फिल्मों में अमेरिकन्स की इमेज खराब की जा रही है।

डिप्रेशन, ईटिंग डिसऑर्डर और आखिरी दिन

फिल्मों में काम करना लगभग बंद करने के बाद 1970 से मार्लन का वजन अचानक बढ़ गया। दरअसल उन्हें हमेशा से ही डिप्रेशन में ज्यादा खाने की बीमारी थी। 1990 के बीच मार्लन का वजन 140 किलोग्राम हो गया और इससे शरीर कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ गया। उन्हें टाइप 2 डायबिटीज थी।

2001 में उन्होंने आखिरी बार फिल्म में काम किया। 2004 तक ये चंद छोटी-मोटी डबिंग और टूर का हिस्सा भी रहे। आखिरी समय में मार्लन सिर्फ करीबी दोस्त माइकल जैक्सन से मिलने जाते थे। देखते ही देखते उन्हें लिवर कैंसर भी हो गया। आखिरकार 1 जुलाई 2004 में मार्लन का निधन हो गया। उनके लॉयर ने प्राइवेसी का हवाला देते हुए मौत का असल कारण उजागर नहीं किया।

जॉनी डेप से लेकर दिलीप कुमार ने किया कॉपी

दुनियाभर की कोई इंडस्ट्री ऐसी नहीं रही होगी जिसके टॉप स्टार ने मार्लन का स्टाइल कॉपी नहीं किया हो। जॉनी डेप, अमरीश पुरी, अनुपम खेर, दिलीप कुमार, कमाल हासन जैसे तमाम सितारों ने इनकी नकल करके खूब कामयाबी हासिल की।

खबरें और भी हैं...