भास्कर इंटरव्यू:परिणीति चोपड़ा बोलीं- स्क्रीन पर जैसी दिखती हूं, वैसी नहीं हूं; मेरी रियल पर्सनालिटी काफी अलग है, जिसे लोग टीवी शो के जरिए देखेंगे

4 महीने पहलेलेखक: किरण जैन
  • कॉपी लिंक

बॉलीवुड एक्ट्रेस परिणीति चोपड़ा रियलिटी शो 'हुनरबाज-देश की शान' से टेलीविजन में अपना डेब्यू करने वाली हैं। एक्ट्रेस मिथुन चक्रवर्ती और करन जौहर संग बतौर जज नजर आएंगी। हाल ही में दैनिक भास्कर से खास बातचीत के दौरान परिणीति ने अपने प्रोफेशनल लाइफ से जुड़ी कुछ खास बातें शेयर की। बातों-ही-बातों में परिणीति ने बताया की आने वाले दिनों में वे बतौर प्रोडूसर रिजेक्ट किये गए अच्छे कंटेंट को सपोर्ट करना चाहती हैं। पढ़िए बातचीत का अंश:

टीवी करना कोई आसान नहीं है
अपने टीवी डेब्यू पर परिणीति कहती है, "मैं पिछले कई सालों से टेलीविज़न डेब्यू करना चाहती थी। मैं हमारे देश के कोने-कोने से आए टैलेंट से मिलने के लिए काफी इच्छुक थी, हमेशा से ही एक मल्टी टैलेंट शो से अपना टीवी डेब्यू करने की ख्वाहिश रखती थी और आखिरकार अब जाकर सपना पूरा हुआ। इस बात से वाकिफ थी की टीवी शो साइन करने के बाद मेरा शेड्यूल ऊपर-नीचे होगा और बहुत मेहनत करनी होंगी। टीवी करना कोई आसान नहीं है।

मेरी नींद कम हो गई है, खाने का वक्त नहीं मिलता (हँसते हुए) हालांकि यकीन मानिए, ये सब चीजों के लिए मैं तैयार थी। फिलहाल मेरी फिल्म 'ऊंचाई' की शूटिंग चल रही हैं। वहीं 'एनिमल' की शूटिंग जल्द ही शुरू होंगी और इसी बीच ये टीवी शो। मेरे लिए ये तीनों ही बड़े प्रोजेक्ट हैं और मेहनत करने में कहीं भी कमी नहीं होने वाली हैं।"

रियलिटी शो में आप एक्टिंग नहीं कर सकते, यहां कुछ भी फेक नहीं:
अपने अनुभव साझा करते हुए अभिनेत्री कहती है, "रियलिटी शो में आप एक्टिंग नहीं कर सकते, यहाँ पर कुछ भी फेक नहीं है। आप जैसे हो, वैसे ही ऑडियंस के सामने आता हैं। सच कहूं तो मैं चाहती हूँ की दुनिया भर के लोग हैं मेरी असली पर्सनालिटी को देखे। किसी भी एक्टर के साथ ये प्रॉब्लम हो सकता हैं की वे जिस तरह का किरदार स्क्रीन पर करते है, माना जाता हैं की वो असल ज़िंदगी में भी वैसे ही हैं। लेकिन ऐसा नहीं होता है क्योंकि हम किसी और के लिखे हुए शब्द बोल रहे हैं, किस और का लिखा हुआ किरदार स्क्रीन पर निभा रहे हैं। रियल पर्सनालिटी तो कभी बाहर आता ही नहीं है।"

रियल लाइफ में परिणीति एक शांत, भावुक, बहुत सोचने वाली लड़की हैं:
आगे बताया, "मेरे बारे में लोग सोचते हैं की मैं एक बब्बी इंसान हूं, टिपिकल पंजाबी लड़की हूं जो हमेशा खुश रहती है। लेकिन इसमें बिल्कुल सच्चाई नहीं है। मेरी पर्सनालिटी इसके विपरीत है। रियल लाइफ में परिणीति एक शांत, भावुक, बहुत सोचने वाली लड़की है।

शो में 12-14 घंटे बिताने के बाद, जाहिर हैं रियल पर्सनालिटी बाहर आएंगी ही। चाहती हूं की ऑडियंस इस बात को समझे कि वे जैसे मुझे स्क्रीन पर देखते हैं मैं वैसी बिलकुल नहीं हूँ, मेरी रियल पर्सनालिटी काफी अलग हैं।"

टीआरपी लाने की मेरे ऊपर एक बड़ी ज़िम्मेदारी हैं
टीवी की दुनिया में टीआरपी बहुत मायने रखता हैं। वही शो की सफलता और असफलता तय करती है। मेरे लिए यह बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट है। अब ये शो मेरा शो भी है, मैं सिर्फ एक गेस्ट बनकर नहीं आई। प्रोडूसर और मेरा बस एक ही मिशन है की हम शो को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं। यदि उसका नापतोल टीआरपी से होना है तो उसे बढ़ाने के लिए जी-जान लगा दूंगी। ये मेरे ऊपर एक बड़ी ज़िम्मेदारी हैं जिसे मैं ईमानदारी से निभाऊंगी।"

ऐसे कंटेंट प्रोड्यूस करना चाहूंगी जो अच्छा होने के बावजूद रिजेक्ट हो जाता हैं
बॉलीवुड में अपने 10 साल की जर्नी पर परिणीति कहती है, "इन 10 सालों में मैंने अपने करियर में सफलता और असफलता दोनों देखी है। कभी बहुत ऊंचाई थी तो कभी खुद को प्रूव करने के लिए कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा। हालांकि, इसके बावजूद मुझे लगता है कि मेरी जर्नी तो अभी शुरू हुई है। जिस तरह के ऑफर्स अब मेरे पास आ रहे हैं वो वाकई में काफी संतुष्टि भरा होता हैं।

मैं अपने आपको एक्सप्रेस कर पा रही हूं। 'साइना', 'द गर्ल ऑन द ट्रेन' और 'संदीप और पिंकी फरार' जैसी फिल्मों से एक अलग पहचान मिली है। आने वाले दिनों में कुछ ऐसे कंटेंट प्रोड्यूस करना चाहूंगी, जो अच्छा होने के बावजूद रिजेक्ट हो जाता है। बजट की वजह से प्रोड्यूस नहीं हो पाता, मैं उस तरह के प्रोजेक्ट्स को सपोर्ट करना चाहूंगी।"

स्क्रीन पर ज्यादा कॉमेडी करना चाहती हूं
स्क्रीन पर कॉमेडी करने की ख्वाहिश जताते हुए, परिणीति कहती हैं, "पिछले कुछ सालों से बहुत ही इंटेंस रोल कर रही हूं, अब कॉमेडी करना चाहती हूं। मैंने ड्रामा, कमर्शियल, टिपिकल लव स्टोरी काफी किया है, बस 1-2 फिल्मों में ही कॉमेडी की है। लड़कियों के लिए जो कॉमेडी किरदार होते हैं, मैं वो एक्स्प्लोर करना चाहती हूं। हमारे इंडस्ट्री में एक्ट्रेस-कॉमेडियन थोड़े कम हैं, मैं चाहती हूं की राइटर्स और डायरेक्टर्स कुछ और ऐसा कंटेंट लिखे और कॉमेडी बेस्ड फिल्में बनाए।"

खबरें और भी हैं...