• Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Raj Kundra Porn Film Case Raj Earned Rs 1.36 Crore From Google Apple In The Account Of His Brother in law Pradeep Baksh Got It, Earning 9 Lakhs From App Stores Every Month

राज कुंद्रा पोर्न फिल्म केस:राज ने अपने जीजा प्रदीप बक्शी के खाते में गूगल-एपल से कमाए 1.36 करोड़ रु. डलवाए, हर महीने ऐप स्टोर्स से 9 लाख की कमाई

मुंबई2 महीने पहलेलेखक: हिरेन अंतानी
  • पुलिस चार्जशीट में जीजा-साले के बिजनेस वाले रिश्ते की कहानी

जीजा-साले का रिश्ता अक्सर दोस्ती का होता है। यह दोस्ती बिजनेस की साझेदारी में भी बदल जाती है, लेकिन राज कुंद्रा के केस में पोर्न फिल्म जैसे बिजनेस में साले और जीजा के बीच पूरी साझेदारी का आरोप पुलिस ने माना है। राज कुंद्रा को गिरफ्तारी के दो महीने बाद मुंबई सेशंस कोर्ट से जमानत मिल गई है। मगर, जीजा प्रदीप बक्शी तक पुलिस नहीं पहुंच पाई है, क्योंकि वह लंदन में महफूज है।

पुलिस चार्जशीट के अनुसार राज ने ‘हॉटशॉट्स’ ऐप से हुई कमाई सीधे लंदन में अपने जीजा प्रदीप बक्शी के खाते में डलवाई थी। इतना ही नहीं, जब ऐप बनाने वाली कंपनी छोड़ी तो अपने निवेश के बदले में ऐप का सारा डेटा भी प्रदीप को ही दिलवाया था।

चार्जशीट के अनुसार राज कुंद्रा ने आर्म्स प्राइम कंपनी में निवेश किया, तत्काल ‘हॉटशॉट्स’ ऐप बनवाया और जब मतलब निकल गया तो सात महीने बाद डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया। राज के तत्कालीन पार्टनर सौरभ कुशवाहा को बाद में पुलिस ने बताया है कि राज ने ऐप बनवाने के लिए उसकी टेक्निकल जानकारी का सिर्फ उपयोग किया था। राज ने ऐसी स्थिति बनाई कि ऐप की बिक्री प्रदीप बक्शी को कर देनी पड़ी। हालांकि, इस सेल एग्रीमेंट के बदले में कोई पेमेंट की एंट्री कंपनी के बैंक अकाउंट में नहीं की गई।

ये भी पढ़ें- राज की जमानत पर शिल्पा का रिएक्शन:एक्ट्रेस ने कहा-बुरे तूफान के बाद भी खूबसूरत चीजें हो सकती हैं, राज ने अदालत में कहा-मुझे बलि का बकरा बनाया जा रहा

ऐप के लिए कंपनी बनी
चार्जशीट में बताया गया है कि 5 फरवरी 2019 को राज ने सौरभ कुशवाहा के साथ मिलकर ‘आर्म्स प्राइम’ कंपनी बनाई थी।

इस कंपनी में राज का 35% हिस्सा था, सौरभ का 36% हिस्सा था। राज इस कंपनी में डायरेक्टर थे, तभी जून 2019 में हॉटशॉट्स ऐप बनवाया गया। राज ने पहले से ही यह व्यवस्था बनवाई थी कि ‘हॉटशॉट्स’ की आमदनी बहनोई प्रदीप की कंपनी में जमा हो।

राज इस कंपनी में 9 महीने तक डायरेक्टर रहे। 26 नवंबर 2019 को राज ने मेल किया और बताया कि कंपनी मेरे हिसाब से नहीं चल रही है, इसलिए मैं डायरेक्टर पद छोड़ना चाहता हूं, राज ने अपने 87 लाख के निवेश के बदले में हॉटशॉट्स का पूरा सर्वर मांगा या पूरी रकम लौटने को कहा था।

12 दिसंबर 2019 से 6 जनवरी 2020 के बीच एक माह तक राज और सौरभ कुशवाहा के बीच राज के कंपनी छोड़ने के पहलुओं पर बात होती रही।

राज ने कंपनी छोड़ी, प्रदीप को मिला सारा डेटा
राज ने क्लेम किया कि कंपनी में उसका 87 लाख रु. का निवेश है। यह रकम उसे लौटाई जाए या हॉटशॉट्स ऐप का सर्वर डेटा समेत सारा डेटा प्रदीप बक्शी के अधिकार में सौंपा जाए।

आर्म्स प्राइम की तरफ से 25,000 डॉलर में प्रदीप बक्शी की कैनरिन कंपनी को ‘हॉटशॉट्स’ ऐप बेचा गया है, ऐसा सेल एग्रीमेंट बना है लेकिन पुलिस को इस अकाउंट की कोई एंट्री आर्म्स प्राइम के बैंक खाते में नहीं मिली है।

राज के पार्टनर ने कहा- मेरा यूज किया गया
पुलिस ने चार्जशीट में आर्म्स प्राइम लिमिटेड में राज के तत्कालीन पार्टनर सौरभ कुशवाहा के स्टेटमेंट का जिक्र किया है। सौरभ कुशवाहा को इस केस में गवाह बनाया गया है।

सौरभ ने पुलिस को बताया कि यह कंपनी कैसे बनाई गई और राज ने कैसे उनसे ऐप बनवाया था और शुरुआत से ही प्रदीप बक्शी भी इसमें शामिल था। सौरभ ने पुलिस को बताया है कि राज ने उनकी टेक्निकल जानकारी का यूज कर लिया। डायरेक्टर बनाया फिर ऐप बनवाया और कुछ ही महीनों में कंपनी से इस्तीफा भी दे दिया, लेकिन इस्तीफा देने के साथ-साथ ऐप के सारे डेटा का मालिकाना हक बहनोई प्रदीप बक्शी की कंपनी को ट्रांसफर करवा दिए।

पुलिस ने इन सारे आर्थिक लेनदेन के डेटा और स्टेटमेंट से यह नतीजा निकाला है कि राज की निगरानी में ही ऐप बनाया गया, उस पर सारे कंटेंट अपलोड किए गए, उसकी रेवेन्यू प्रदीप की कंपनी के खातों में ट्रांसफर की गई थी।

खबरें और भी हैं...