पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

72 के हुए राकेश:एक्सटॉर्शन मनी ना देनें पर अंडरवर्ल्ड के लोगों ने चलवा दी थीं राकेश रोशन पर गोलियां, कैंसर को भी दे चुके हैं मात

21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

6 सितम्बर 1949 में जन्में राकेश रोशन आज अपना 72वां जन्मदिन मना रहे हैं। राकेश ने सालों तक बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर काम करने के बाद साल 1970 में कहानी घर-घर की फिल्म से एक्टिंग डेब्यू किया था। इसके बाद एक्टर ने मन मंदिर, आंखों-आंखों में, बुनियाद, खूबसूरत जैसी फिल्मों में काम किया। राकेश का एक्टिंग करियर कभी कामयाब नहीं रहा, जिसके बाद उन्होंने निर्देशन में अपनी बेहतरीन पहचान बनाई। आज राकेश के जन्मदिन के खास मौके पर आइए जानते हैं उनकी जिंदगी से जुड़ी कुछ बातें-

राकेश ने साल 1987 में आई फिल्म खुदगर्ज से डायरेक्टोरियल डेब्यू किया। इसके बाद उन्होंने खून भरी मांग, किशन कन्हैया, करण अर्जुन, कोयला जैसी हिट फिल्में डायरेक्ट कीं। साल 2000 में राकेश ने अपने बेटे ऋतिक रोशन को कहो ना प्यार है से लॉन्च किया था जो एक जबरदस्त हिट साबित हुई थी, जिसका नाम सबसे ज्यादा अवॉर्ड हासिल करने वाली फिल्म के लिए लिमका बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था। 10 करोड़ रुपए के बजट में तैयार हुई ऋतिक रोशन और अमीषा पटेल स्टारर इस फिल्म ने 62 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया था, जिसके मुनाफे में अंडरवर्ल्ड के लोगों द्वारा हिस्सा मांगा गया था।

राकेश पर हुआ था जानलेवा हमला

एक्सटॉर्शन मनी मांगने वालों को राकेश रोशन ने साफ इनकार कर दिया। इस बात से अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम इतने नाराज हुए कि उन्होंने अपना दबदबा दिखाने के लिए राकेश पर जानलेवा हमला करवा दिया। राकेश पर उनके सांताक्रूज ऑफिस के बाहर दो लोगों द्वारा 6 गोलियां चलाई गई थीं, जिनमें से दो गोलियां उन्हें लग गई थीं। इस दौरान राकेश के ड्राइवर उन्हें अस्पताल लेकर पहुंचे थे, जहां उनकी जद्दोजहद से जान बच सकी। हमले के कुछ दिनों बाद ही दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था, जिनमें से एक अबू सलेम का शार्प शूटर था।

राकेश से पहले ही गुलशन कुमार की एक्टॉर्शन मनी ना देने पर अंडरवर्ल्ड के लोगों द्वारा हत्या कर दी गई थी। गिरफ्तार हुए हमलावर ने पुलिस को बताया था कि उन्होंने दलेर मेहंदी को भी धमकी भरे कॉल किए थे।

साल 2018 में आई थीं कैंसर होने की खबरें

राकेश रोशन को साल 2018 में गले का कैंसर हुआ था। एक्टर ने एक पुराने इंटरव्यू में बताया, मुझे याद है कि वो 15 दिसम्बर 2018 का दिन था। मेरे पास कॉल आया था जिसमें मुझे बताया गया कि मेरी बायोप्सी रिपोर्ट पॉजिटिव है। डॉक्टर ने कहा कि जुबान के नीचे आई गिठान को काटना पड़ेगा, जिससे मैं काफी डर गया था, लेकिन मैंने हार नहीं मानी। इलाज के दौरान मेरा 10 किलो वजन कम हो गया था, लेकिन मैंने सबसे बेहतरीन डॉक्टरों से इलाज करवाकर इससे जीत हासिल कर ली। मैं अब रोजाना डेढ़ घंटे जिम में बिताता हूं।

खबरें और भी हैं...