'पापा रंजीत' का दर्द:रंजीत ने कहा- महिलाओं के छोटे कपड़ों ने मेरा करियर खत्म कर दिया, अब खींचने के लिए कुछ नहीं बचा

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बॉलीवुड एक्टर रंजीत ने करियर में खूब फिल्में की हैं और उनके निभाए किरदार लोगों को आज भी याद हैं। एक इंटरव्यू में, रंजीत ने बताया कि कैसे उन्होंने 70 के दशक में बॉलीवुड में 'रेपिस्ट' की छवि हासिल की और अपने करियर के असफल होने के पीछे का कारण बताए। बता दें, फिल्मों में उनके किरदार के चलते उन्हें 'रेप स्पेशिलिस्ट' कहा जाता था। लेकिन उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि उनकी सभी महिला सह-कलाकार उनके साथ सहज हों।

अपने करियर के लिए कभी कोई प्लानिंग नहीं की
इंटरव्यू में रंजीत बताते हैं कि,“उन दिनों में, कोई भी फिल्म साइन करने से पहले कहानी नहीं सुनता था। यहां तक ​​कि मेन हीरो को भी एक लाइन ही बता दी जाती थी। मेरे जैसे एक्टर्स ने यह मान लिया था कि अगर कोई फिल्म मेकर उनके पास आ रहा है, तो वह उस रोल के लिए फिट हैं। मैंने कभी किसी की स्क्रिप्ट में दखल नहीं दिया और न ही मुझे इसकी जरूरत महसूस हुई। मुझे विलेन की भूमिका निभाने में कोई दिक्कत नहीं हुई। बेशक, शुरूआत में मुझे दिक्कते हुईं मेरा परिवार परेशान था लेकिन आखिरकार उन्हें एहसास हुआ कि यह मेरा काम है। मैंने कभी अपने करियर के लिए कभी कोई प्लानिंग नहीं की जो कुछ रोल ऑफर हूए , उसमें बस खुद को ढाला।”

इंडस्ट्री मे लोग मुझे रेप स्पेशलिस्ट के नाम से पहचानते थे
रंजीत ने कई फिल्मों में रेपिस्ट के किरदार निभाए हैं। हालांकि रंजीत को इससे कोई शिकायत नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि, 'उस समय फिल्मों में रेप सीन वल्गर नहीं होते थे। मैं हमेशा सीन के पहले हिरोइन को कम्फर्टेबल फील करता था। इन रोल्स के चलते इंडस्ट्री मे लोग मुझे रेप स्पेशलिस्ट के नाम से पहचानने लगे। उस समय लव मेकिंग सीन नहीं हुआ करते थे। ऐसा ही करना है तो अश्लील फिल्में बना लो?' रंजीत ने मजाक करते हुए कहा, 'मैं हमेशा मजाक में कहता था कि फैशन ने मेरा करियर बर्बाद कर दिया। लड़कियों ने इतने छोटे कपड़े पहनने शुरू कर दिए कि खींचने के लिए कुछ बचा ही नहीं।'

खबरें और भी हैं...