पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर इंटरव्यू:20 साल से बॉलीवुड एक्टिव रणवीर शौरी बोले- उतार-चढ़ाव में संभलना पड़ता है, पिछले साल कुछ नहीं संभल पाए तो जिंदगी से हाथ धो बैठे

3 महीने पहलेलेखक: अंकिता तिवारी

अभिनेता रणवीर शौरी वेब सीरीज 'मेट्रो पार्क सीजन 2' में नजर आ रहे हैं। इस फैमिली कॉमेडी ड्रामा में रणवीर कल्पेश पटेल नाम का किरदार निभा रहे हैं, स्थानीय राजनीति में सक्रिय है और पैसे बनाने के शॉर्टकट के लिए देसी जुगाड़ों का इस्तेमाल करता है। दैनिक भास्कर से खास बातचीत में रणवीर ने अपनी जिंदगी के अनछुए पहलुओं पर बात की।
Q. आपकी वेब सीरीज 'मेट्रो पार्क सीजन 2' में क्या नया है?
A. नया तो मैं नहीं कहूंगा। पिछली सीरीज से स्टोरी आगे बढ़ती है। इस सीजन में और भी नए कैरेक्टर्स को दिखाया गया है। फैमिली की कहानी में मजा और क्रेजीनेस दोनों बढ़ रहे है। मुझे लगता है लोगों को यह पसंद आएगी।

Q. आप बॉलीवुड में करीब 20 साल पूरे कर चुके हैं। इस जर्नी के दौरान उतार-चढ़ाव में खुद को कैसे संभाला?
A. देखिए, खुद को संभालना तो पड़ता है। पिछले साल हमने देखा कैसे कुछ लोग खुद को संभाल नहीं पाए और जिंदगी से हाथ धो बैठे। ये हम सभी एक्टर्स की जिम्मेदारी है कि हम मुश्किल दिनों में खुद को संभालें। अपनी फैमिली के लिए संभालें, करीबी दोस्तों के लिए संभालें।

Q. जिंदगी में आगे बढ़ने की प्रेरणा किससे ली?
A. मेरा मानना है कि जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए छोटी-छोटी चीजों से प्रेरणा लेनी चाहिए। अगर आप बड़ी-बड़ी चीजों से प्रेरणा लेंगे तो आपके मायूस होने के चांस ज्यादा रहेंगे। छोटी चीजें जो मुझे करियर में आगे बढ़ने की हिम्मत देती हैं, जैसे कि सोशल मीडिया पर फैन ने मुझे मैसेज किया और बताया कि उन्हें मेरा काम पसंद आया। या वे मुझे और काम करते हुआ देखना चाहते हैं। बस इतनी सी बात ही मुझे प्रेरित कर देती है। कई बार सड़क पर लोग आते हैं, मिलते हैं, हाथ मिलाते हैं और तारीफ के चंद शब्द कह जाते हैं। एक कलाकार के लिए तारीफ से ज्यादा प्रेरणा की बात क्या होगी? अगर मैं बड़ी-बड़ी चीजों या अवॉर्ड्स के लिए बैठूं या यह सोचूं कि मुझे बड़ी फिल्में नहीं मिल हैं तो कहीं न कहीं आगे जाकर निराशा ही हाथ लगेगी। अपनी बाल्टी छोटी-छोटी बूंदों से भरना बेहतर है, न कि जिंदगी को वाटरफॉल की तलाश में गुजार देना।

Q. शूट के दौरान पुरानी कास्ट से दोबारा जुड़ने का अनुभव कैसा था?
A. पुरानी कास्ट से जुड़ने का अनुभव बहुत सुखद था। जब आप पहले शूटिंग कर चुके होते हैं तो आपस में बॉन्डिंग हो जाती है। काम करने में मजा भी आता है और सहूलियत भी होती है। यूनिट के क्रू से लेकर इसके डायरेक्टर और राइटर सभी के साथ काम करने में मजा आया। सेट पर हम सीन शूट करते वक्त अचानक हंस पड़ते थे, क्योंकि यह बहुत फनी और इंप्रेसिव थी।

Q. एक अंतराल के बाद जब एक कैरेक्टर को दोबारा स्क्रीन पर निभाना होता है तो उसमें फिर से उतरना आसान होता है या मुश्किल?
A. मैं तो यही कहूंगा कि एक्टिंग रेल की पटरी बिछाने जैसी होती है। एक नए कैरेक्टर को एक बार बनाने में मुश्किल होती है, क्योंकि हमारे पास कोई रेफरेंस पॉइंट नहीं होता। लेकिन जब हमें उस पर दोबारा काम करना होता है तो हमारे पास पहले से ही रेफरेंस पॉइंट मौजूद होता है, इसलिए ज्यादा मुश्किलात नहीं होती। नए कैरेक्टर को एक्सप्लोर करना मुश्किल होता है।

Q. लॉकडॉउन में आपके 6 प्रोजेक्ट रिलीज हुए। इतने कम अंतराल में प्रोजेक्ट रिलीज होना कितना फायदेमंद है?
A. दरसअल ये सभी प्रोजेक्ट मैने 2019 में शूट किए थे। वे सभी लॉकडॉउन के दौरान ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुए। यानी 6 महीनों में 6 रिलीज। मैं नहीं चाहता कि मैं अपने फैंस को पका दूं। मैं यही मानता हूं कि कभी भी ओवरड्यू नहीं करना चाहिए, क्योंकि अगर ऑडियंस आप से बोर हो गई या उनका इंटरेस्ट आपमें खत्म हो गया तो समझ लीजिए कि आपका करियर भी खत्म हो गया। कोशिश हमेशा यही रहती है कि कभी ओवरड्यू न करूं।

Q. ओटीटी प्लेटफार्म ने कई एक्टर्स के लिए मौके के दरवाजे खोल दिए हैं। यह आपके करियर में कितना महत्वपूर्ण रोल निभाता है?
A. ओटीटी हम सभी के लिए एक वरदान है। मैं तो ओटीटी प्लेटफार्म का भक्त हूं। क्योंकि सिर्फ थिएटर रिलीज से सबका काम नहीं चल पा रहा था, घर बैठना पड़ रहा था। पिक्चरें नहीं लग रही थीं। ओटीटी प्लेटफार्म ने न सिर्फ एक्टर्स या डायरेक्टर को चांस दिया है, बल्कि यहां आ रहे अलग-अलग तरह के शो और कंटेंट ने दर्शकों का टेस्ट बदल दिया है। कहीं न कहीं दर्शकों के बदलते टेस्ट की वजह से फिल्मेकर्स को भी यह चैलेंज मिल रहा है कि वह नया कंटेंट बनाएं। अलग तरह की फिल्में बनाएं। पुराने कंटेंट के साथ तो फिल्में चलाना मुश्किल है।

Q. अपने फ्यूचर प्रोजेक्ट्स के बारे में कुछ बताइए?
A. फरवरी में एक फिल्म शुरू करने वाला हूं, जिसकी कास्ट बहुत इंटरेस्टिंग है। इसमें विजय सेतुपति, सचिन खेडेकर, संजय मिश्रा जैसे दिग्गज कलाकार हैं।

Q. अगर एक फिल्म और वेब सीरीज दोनों एक ही समय पर ऑफर हों तो इसे प्रथमिकता देंगे?
A. देखिए, सबसे पहले तो मैं उस प्रोजेक्ट को प्राथमिकता दूंगा, जिसकी स्टोरी तगड़ी है, बेहतर है। इसके अलावा फिल्मों में जहां हमारे पास अपने कैरेक्टर के साथ 2 या 3 घंटे होते हैं, वहीं एक वेब सीरीज में अपने कैरेक्टर को और गहराई से एक्सप्लोर करने का मौका मिलता है। उसके साथ एक्सपेरिमेंट करने का मौका मिलता है, जो हर एक्टर को पसंद होता है। अगर ऐसी कोई सिचुएशन आती है तो मैं वेब सीरीज को ज्यादा प्राथमिकता दूंगा।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

और पढ़ें