पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Ravi Kishan; Gorakhpur BJP MP Interview To Dainik Bhaskar, Speaks On His Upcoming Film Based On Osho Rajneesh Life And Kisan Andolan

भास्कर इंटरव्यू:रवि किशन बोले- ओशो के गेटअप में आया तो लोग रोने लगे थे, कृषि कानूनों पर कहा-  इनसे किसानों को फायदा ही होगा

7 महीने पहलेलेखक: किरण जैन

भोजपुरी सुपरस्टार और राजनेता रवि किशन अपकमिंग फिल्म 'सीक्रेट्स ऑफ लव' में आध्यात्मिक गुरु ओशो रजनीश के किरदार में नजर आएंगे। हाल ही में मुंबई के एक स्टूडियो में उन्होंने अपनी इस फिल्म की शूटिंग की, जहां वे ओशो के गेटअप में नजर आए। ब्रेक के दौरान दैनिक भास्कर से बातचीत में उन्होंने अपनी इस फिल्म, पॉलिटिकल करियर और देश में चल रहे किसान आंदोलन पर बात की। उन्होंने जो कहा, पढ़िए उन्हीं की जुबानी:-

'रियल लाइफ में आध्यात्मिक हूं'
रियल लाइफ में मैं आध्यात्मिक व्यक्ति हूं। भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त हूं और इसीलिए यह किरदार निभाने में मुझे ज्यादा कठिनाई नहीं हुई। फिल्म के निर्माता वेलजी भाई गाला ओशो के बहुत बड़े भक्त हैं। उन्हें मेरी आंखें ओशो की तरह लगीं। दुनियाभर में ओशो के फॉलोवर्स की संख्या काफी बड़ी है। इसीलिए, मैं उन्हें मना नहीं कर पाया।

'ओशो बन आया तो लोग रो रहे थे'
जब सेट पर ओशो के गेटअप में आया तो वहां मौजूद सभी लोग रो रहे थे। उस वक्त लगा कि मैं इस किरदार को न्याय दे पाया हूं। मुझे ओशो के बारे में पूरी तरह से नहीं पता। हालांकि, स्क्रीन पर उनका किरदार निभाने का मौका मिला, जिसके लिए उनकी बॉडी लैंग्वेज से लेकर आंखों के एक्सप्रेशन तक अपना बेस्ट देने की कोशिश की है। साथ ही लॉकडाउन की वजह से इस फिल्म की शूटिंग में भी देरी हो गई थी। इसे जल्दी पूरी करने की जिम्मेदारी थी। मुझे उम्मीद है कि मेकर्स जब मुझे स्क्रीन पर देखेंगे तो उन्हें अपनी कास्टिंग पर संतुष्टि होगी।

'राजनीति अलग जिम्मेदारी लाती है'
पॉलिटिकल और फिल्मी करियर को बैलेंस करने में काफी तकलीफ होती है। एक तरफ जहां गोरखपुर से पार्लियामेंट में शामिल होना है। वहीं कुछ वेब सीरीज की शूटिंग भी चल रही है। राजनीति समय बहुत लेती है। उत्तर प्रदेश में अब तक नं. 1 सांसद रहा हूं। राजनीति अपने आप में एक अलग जिम्मेदारी लेकर आती है। अब जब भी प्रोजेक्ट चुनता हूं तो पहले देश का ख्याल रखता हूं। किसी भी तरह अपनी इमेज खराब नहीं कर सकता। ईमानदारी के साथ राजनीति करनी है।

आलोचनाएं पॉजिटिवली लेता हूं'
मैं आलोचनाओं के लिए पूरी तरह तैयार हूं। क्योंकि यह एक मानवीय प्रकृति है। अब सोशल मीडिया का जमाना है। इसीलिए यहां बढ़-चढ़कर आलोचनाएं होती हैं। हालांकि, पहले से मैं इससे वाकिफ हूं। कभी को-स्टार्स पीठ पीछे बोलते हैं तो कभी प्रतिद्वंदी ऐसा करते है। ये सदियों से चलती आ रही हैं, जिससे मैं बिल्कुल प्रभावित नहीं होता। मैं आलोचनाओं को बहुत ही पॉजिटिव तरीके से हैंडल करता हूं। कौन मेरे बारे में क्या बोलता है, इससे मुझे फर्क नहीं पड़ता है। मेरे हिसाब से ये रिएक्शन कुछ दिनों तक ही चलता है, फिर लोग अपने आप शांत हो जाते हैं।

'मैं भी किसान का बेटा हूं'
किसान के लिए बने तीनों कानूनों के पास होने के दौरान मैं संसद में था। मैंने कानून पढ़े हैं और मैं यकीन के साथ कह सकता हूं कि इनसे किसानों को फायदा ही होगा। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा किसानों के विकास के बारे में सोचते हैं। मैं भी किसान का बेटा हूं। मुझे पता है कि जिनकी जमीन कम है, उनके लिए ये कानून कितने फायदेमंद हैं। इस एक्ट के जरिए किसान अब कहीं भी अपना सामान बेच सकता है। पंजाब के अलावा पूरे देश के किसान इस बात को समझ चुके हैं और मुझे यकीन है कि पंजाब के किसान भी समझ जाएंगे। सरकार और किसानों के बीच चल रही बातचीत का निष्कर्ष जरूर निकलेगा। सबको पता चल जाएगा कि प्रधानमंत्री ने उनके अच्छे के लिए ही यह कदम उठाया है।

फोटो और वीडियो : अजीत रेडेकर।

खबरें और भी हैं...