कहां है 'लाल दुप्पटे' वाली एक्ट्रेस?:अब इतनी ग्लैमरस हो गई हैं रितु शिवपुरी, 29 साल पहले फिल्म 'आंखें' में आई थीं नजर, इस वजह से छोड़ दिया था बॉलीवुड!

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

22 जनवरी 1975 को मुंबई में जन्मी रितु शिवपुरी हिंदी और कन्नड़ सिनेमा में काम कर चुकी हैं। वह एक्टर ओम और सुधा शिवपुरी की बेटी हैं। 1993 में आई फिल्म 'आंखें' में गोविंदा की हीरोइन बनी थीं जो काफी हिट हुई थी। टीवी सीरियल 'इस प्यार को क्या नाम दूं' सीजन 3 में वह मां का रोल भी निभा चुकी हैं।

'आंखें' को रिलीज हुए 29 साल बीत चुके हैं लेकिन वक्त के साथ रितु की खूबसूरती पहले से और ज्यादा बढ़ गई है। वह खुद को फिट रखने के लिए स्विमिंग और योग करती हैं और अक्सर अपने वीडियो इंस्टाग्राम पर शेयर करती रहती हैं। जानिए, 47 साल की रितु शिवपुरी से जुड़ी कुछ रोचक बातें...

फिल्म 'आंखें' में गोविंदा के साथ रितु।
फिल्म 'आंखें' में गोविंदा के साथ रितु।

इस वजह से एक्ट्रेस को फिल्मों से बनानी पड़ी थी दूरी

एक इंटरव्यू में रितु ने कहा था,'इंडस्ट्री मेरे लिए घर की तरह है, क्योंकि मेरे पिता ओम शिवपुरी और मां सुधा पहले से ही फिल्मों में काम कर चुके थे। लेकिन फिल्म में मेरा आना एक इत्तेफाक था। मैं मॉडलिंग कर रही थी, तभी पहलाज निहलानी अंकल ने मुझे देखा और 'आंखें' फिल्म में रोल ऑफर किया। उस समय मेरी उम्र 17 साल थी। मैंने ऑफर एक्सेप्ट किया और धीरे-धीरे मुझे मजा आने लगा। इंडस्ट्री में काम बहुत मुश्किल है, जिसके बारे में मैं ज्यादा बात नहीं करना चाहती। हालांकि, मेरे साथ कभी भी कास्ट‍िंग काउच जैसा कुछ नहीं हुआ। लेकिन मुझे फिल्मों में ऑफर के लिए फोन किया जाता था और कहा जाता था कि आज कहां मिलें। यह मुझे बिल्कुल पसंद नहीं था। यही वजह थी कि मैंने फिल्मों से दूरी बना ली।'

पिता ओम और मां सुधा शिवपुरी के साथ रितु।
पिता ओम और मां सुधा शिवपुरी के साथ रितु।

रितु ने आगे कहा, '2006 में मैंने एक टीवी शो में काम किया, जिसके लिए मुझे 18-20 घंटे शूटिंग करनी पड़ती थी। जब मैं शूटिंग से वापस आती, तो हसबैंड सो चुके होते थे। तब मुझे अहसास हुआ कि मैं अपने परिवार के साथ ठीक नहीं कर रही और मैंने एक्टिंग छोड़ दी।'

15 साल की उम्र में पापा ने दी थी सलाह

रितु कहती हैं, "जब पापा की डेथ हुई, उस समय मैं 16 साल की थी। मैं उनसे बहुत क्लोज थी। मां अक्सर पापा से कहती थी कि इतना दुलार करोगे तो ये बिगड़ जाएगी। लेकिन फिर भी पापा और मैं एक दोस्त की तरह थे। मैं 15 साल की थी तो पापा ने मुझे पहली बार शराब पीने के लिए दी। साथ ही, कहा कि कभी मेरे बार के पास जाकर शराब मत उठाना। जो करना है मेरे सामने करना, भरोसा मत तोड़ना।

बचपन का एक किस्सा याद करते हुए रितु ने कहा था, मैं जेबी पेटिट स्कूल में पढ़ती थी। मेरे पास एक पेंसिल हुआ करती थी, जिसे पापा लंदन से मंगाते थे। वो मेरे लिए मुसीबत बन गई थी। मेरे क्लासमेट कहते थे कि तुम फिल्म स्टार की लड़की हो, तभी इतना इम्पोर्टेड सामान यूज करती हो। आख‍िरकार, परेशान होकर मैंने वो पेंसिल स्कूल ले जाना बंद कर दिया।"

फ्लॉप रहा फिल्मी करियर

'आंखें' के बाद रितु 'आर या पार', 'रॉक डांसर', 'ग्लैमर गर्ल', 'हद कर दी आपने' जैसी फिल्मों में नज़र आईं लेकिन कुछ खास सक्सेस ना मिलने की वजह से उन्होंने फिल्मों में काम करना बंद कर दिया। इसके बाद रितु ने जूलरी डिजाइनिंग भी की। मुंबई में रहने वाली 47 साल की रितु सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं और अक्सर यहां अपनी जूलरी की डिज़ाइन शोकेस करती रहती हैं।

खबरें और भी हैं...