पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हेल्थ अपडेट:सायरा बानो बोलीं- 'साहब की हालत स्थिर है और वे 2-3 दिन में घर वापस आ जाएंगे'

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिग्गज एक्टर दिलीप कुमार को रविवार (6 जून) को मुंबई के पीडी हिंदुजा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वह डॉक्टरों की देखरेख में हैं और अब उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है। इस बीच सोशल मीडिया पर उनके निधन की अफवाह भी फैलाई जा रही है। इन अफवाह पर उनकी पत्नी सायरा बानो ने एक पोस्ट शेयर कर खुद दिलीप कुमार की हेल्थ को लेकर अपडेट दिया है। उन्होंने बताया कि दिलीप कुमार की हालत स्थिर और वे 2-3 दिन में घर वापस लौट आएंगे।

फॉरवर्ड किए जा रहे मैसेज पर विश्वास न करें
सायरा बानो ने पोस्ट शेयर कर लिखा, “सोशल मीडिया पर फॉरवर्ड किए जा रहे मैसेज पर विश्वास न करें। साहब की हालत स्थिर है। आपकी हार्दिक दुआओं और प्रार्थनाओं के लिए धन्यवाद। डॉक्टरों के अनुसार, वे 2-3 दिन में घर वापस आ जाएंगे। इंशाअल्लाह।"

इससे पहले भी सायरा बानो ने दिलीप कुमार के सोशल मीडिया अकाउंट से एक पोस्ट किया था। उन्होंने लिखा था, "दिलीप साहब को रुटीन टेस्ट और जांच के लिए नॉन कोविड पीडी हिंदुजा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। डॉ. नितिन गोखले की अगुवाई वाली हेल्थकेयर टीम उन्हें देख रही है। प्लीज दिलीप साहब के लिए दुआ कीजिए और सुरक्षित रहिए।"

दिलीप कुमार के फेफड़ों में भर गया है पानी: डॉक्टर
वहीं दैनिक भास्कर से बातचीत में अस्पताल के डॉ. जलील पारकर ने कहा था, "उनके फेफड़ों में कुछ पानी जमा हो गया है। इसलिए उन्हें भर्ती किया गया है। उनका ऑक्सीजन लेवल फ्लक्चुएट हो रहा है। लेकिन वे न वेंटिलेटर पर हैं और न ही उन्हें ICU में रखा गया है।"

जब पारकर से पूछा गया कि क्या सबकुछ कंट्रोल में है तो उन्होंने कहा, "अभी तो सब ठीक है। लेकिन उम्र को देखते हुए आप ज्यादा कुछ नहीं कह सकते। उनका कोविड टेस्ट करने की जरूरत नहीं पड़ी। फेफड़ों में पानी भरना उम्र संबंधी दिक्कत है। फिलहाल यह नहीं कहा जा सकता कि उन्हें कब तक अस्पताल में रखना पड़ेगा।"

सेलेब्स और फैंस कर रहे दुआ
सायरा बानो की पोस्ट के बाद से सिलेब्रिटीज और दिलीप साहब के फैंस उनकी तेजी से रिकवरी की दुआ कर रहे हैं। अभिनेता मनोज बाजपेयी ने लिखा, "दिलीप साहब की तेजी से रिकवरी की प्रार्थना करता हूं।" एक यूजर ने लिखा, "सर आप कितनी बार साल में भर्ती होते हैं और हर बार चकमा देकर डिस्चार्ज हो जाते हैं। आप भीष्म पितामह से आशीर्वाद लेकर आए हैं क्या? तेजी से रिकवरी की प्रार्थना है।" एक यूजर ने लिखा, "मेरी अल्लाह से दुआ कि वे दिलीप सर को अच्छी सेहत और लंबी उम्र दे। आमीन।"

पिछले महीने भी हुए अस्पताल में भर्ती
पिछले महीने भी दिलीप साहब इसी हॉस्पिटल में भर्ती हुए थे। तब भी यही कहा जा रहा था कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही है और उस वक्त भी सायरा बानो ने आधिकारिक स्टेटमेंट जारी कर कहा था कि वे रुटीन चैकअप के लिए अस्पताल में एडमिट हुए थे। सभी चैकअप के बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया था।

डॉक्टर्स की टीम की निगरानी में रहते हैं दिलीप साहब
दिसंबर 2020 में जब दिलीप साहब की तबियत नासाज होने की खबर सामने आई तो सायरा बानो ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा था, "साहब ठीक हैं। बस जरा सी वीकनेस है। अल्लाह का शुक्र है। अभी तो वे घर पर ही हैं। दशकों से उनकी देखरेख करने वाले डॉक्‍टरों की टीम ही उनका इलाज कर रही है। साहब इस टीम से डॉक्‍टर नितिन गोखले, अरुण शाह और डॉक्‍टर शर्मा के ऑब्जरवेशन में रहते हैं। तीनों की कार्डियोलॉजी, न्यूरोलॉजी और मेडिसिन में एक्सपर्ट हैं।साहब की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए नॉर्मल दवाएं देते हैं। इम्युनिटी उनकी बेहतर है। किसी ने गलत खबर उड़ाई है कि उनकी इम्युनिटी गड़बड़ है। बस जरा वीकनेस है। बाकी उनकी तबियत बिल्कुल दुरुस्त है।"

पिछले साल कोरोना में खोए दो भाई
कोरोनावायरस के चलते पिछले साल दिलीप कुमार के दो छोटे भाइयों का इंतकाल हो गया। 21 अगस्त 2020 को 88 साल के असलम का और फिर 2 सितंबर 2020 को 90 साल के अहसान चल बसे। इसके चलते सायरा बानो और दिलीप कुमार ने अपनी शादी की 54वीं सालगिरह का जश्न नहीं मनाया था। कहा यहां तक जाता है कि दिलीप साहब को उनके भाइयों के इंतकाल की खबर आज तक नहीं दी गई है।

पद्मभूषण, दादा साहब अवॉर्ड से सम्मानित
दिलीप कुमार का असली नाम मोहम्मद यूसुफ खान है। उन्होंने 'ज्वार भाटा' (1944), 'अंदाज' (1949), 'आन' (1952), 'देवदास' (1955), 'आजाद' (1955), 'मुगल-ए-आजम' (1960), 'गंगा जमुना' (1961), 'क्रान्ति' (1981), 'कर्मा' (1986) और 'सौदागर' (1991) समेत 50 से ज्यादा बॉलीवुड फिल्मों में काम किया है।

बेहतरीन अदाकारी के लिए उन्हें 8 बार बेस्ट एक्टर के तौर पर फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला। हिंदी सिनेमा के सबसे बड़े सम्मान दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से भी उन्हें सम्मानित किया जा चुका है। 2015 में सरकार ने उन्हें देश का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्म भूषण भी दिया था।

खबरें और भी हैं...