पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक्टर के मन की बात:शरत सक्सेना ने सलमान खान को कहा धन्यवाद, बोले- उन्होंने इंडस्ट्री में मस्कुलर लोगों के लिए दरवाजे खोले हैं

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बॉलीवुड एक्टर शरत सक्सेना, जो हाल ही में विद्या बालन स्टारर फिल्म 'शेरनी' में नजर आए थे, ने कहा है कि अपने करियर के ज्यादातर समय के लिए, उन्हें कम या बिना डायलॉग के रोल्स निभाने तक ही सीमित कर दिया गया था। एक इंटरव्यू में, शरत ने अपने करियर पर बात करते हुए कहा कि सलमान खान ने इंडस्ट्री में मस्कुलर लोगों के लिए दरवाजे खोले।

शरत ने कहा मैं हीरो बनने से पहले इनकम के बारे में सोचता था

शरत से जब यह पूछा गया कि क्या वह टाइपकास्ट होने से निराश हैं, तो जवाब में उन्होंने कहा, "यह डिसाइड करना किसी के लिए पॉसिबल नहीं है कि वह बॉलीवुड में क्या बनना चाहता है। कम से कम, उन दिनों में नहीं, जब आप बॉम्बे में होते हैं, बिना किसी सपोर्ट सिस्टम के, तब आपको जीने के लिए वो सब करना पड़ता है जो आपके सामने आता है। और मुझे यह सब इसलिए भी करना पड़ता था क्योंकि मैं शादीशुदा था और मेरे बच्चे थे। जब आप एक फैमिली मैन होते हैं, तब आपको एक हीरो बनने के सपने के बजाय इनकम के बारे में सोचना पड़ता है।"

शरत ने इंडस्ट्री के भेद-भाव के बारे में बताया

शरत ने आगे कहा, "मेरे डायलॉग 'हां, बॉस' और 'नहीं, बॉस' होंगे। भारत में, हमें यह समस्या है कि यदि आप अच्छी तरह से बिल्ट हैं, तो आप एक अच्छे एक्टर नहीं हो सकते। क्या आपने इस पर ध्यान दिया है? इंडिया के सभी अच्छे एक्टर्स के नाम लिखिए और देखिए कि उनमें से कितने मस्कुलर हैं। हम दुनिया में सबसे अधिक रंग को लेकर सोचने वाले देशों में से एक हैं। यदि आप डार्क हैं, तो आप हीरो नहीं हो सकते। यदि आपके घुंघराले बाल हैं, तो आप हीरो नहीं हो सकते। अगर आप मस्कुलर हैं, तो आज आप हीरो बन सकते हैं। पहले आपको फाइटर बनना पड़ता था। आज सलमान खान की वजह से दुनिया बदल गई है। उन्होंने मस्कुलर को फैशनेबल बना दिया है। इसलिए आज हर आदमी जो फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ना चाहता है वो पहले जिम जाता है और फिर कोचिंग कलासिज में। मैं फिल्म इंडस्ट्री में ऐसे समय में शामिल हुआ जब यह मस्कुलर लोगों के लिए सबसे खराब समय था। मुझे उस तरह का काम मिलता रहा क्योंकि एक बार जब आप भारत में एक फाइटर के रूप में काम करते हैं, तो यह टैग आपके माथे पर चिपक जाता है। इसलिए हर कोई आपको उस रोल में लेना चाहता है।"

1970 से फिल्म इंडस्ट्री में काम कर रहे हैं शरत

'फिर हेरा फेरी' जैसी कॉमेडी फिल्म में नजर आ चुके शरत सक्सेना ने 'शेरनी' में पिंटू नाम के एक शिकारी की भूमिका निभाई है। इस फिल्म को अमित मसुरकर ने डायरेक्ट किया है। शरत ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1970 में फिल्मों में सपोर्टिंग रोल्स से की थी। उन्होंने 'गुलाम', 'साथिया' और 'बजरंगी भाईजान' जैसी फिल्मों में काम किया है।