SRK को मिला शत्रुघ्न का साथ:ड्रग्स केस पर शत्रुघ्न सिन्हा बोले-शाहरुख खान का बेटा होने के कारण आर्यन को किया जा रहा टारगेट

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद से अब तक कई बॉलीवुड सेलिब्रिटीज उनकी फैमिली के सपोर्ट में उतर चुके हैं। अब हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में शत्रुघ्न सिन्हा ने भी शाहरुख खान का सपोर्ट किया है। साथ ही उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री को डरपोक भी बताया है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा है कि शाहरुख खान का बेटा होने के नाते आर्यन को टारगेट किया जा रहा है।

फिल्म इंडस्ट्री में डरे हुए लोगों का एक समूह है
शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, "इस मामले में कोई भी शाहरुख के सपोर्ट में आगे नहीं आना चाहता। हर कोई सोचता है कि यह दूसरे व्यक्ति की समस्या है और उसे इससे निपटना चाहिए। वे चाहते हैं कि व्यक्ति अपनी लड़ाई खुद लड़े। फिल्म इंडस्ट्री में डरे हुए लोगों का एक समूह है। गोदी मीडिया की तरह ही वे गोदी कलाकर हैं।"

जब शत्रुघ्न सिन्हा से यह पूछा गया कि क्या शाहरुख को उनके धर्म के आधार पर निशाना बनाया जा रहा है। इस सवाल पर शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, "हम यह नहीं कह सकते कि यह उनका धर्म है जो आड़े आया है। लेकिन कुछ लोग अब उस विषय का इस्तेमाल करने लगे हैं, जो बिल्कुल भी सही नहीं है। जो भी भारतीय है वह भारत का पुत्र है और हमारे संविधान के तहत सभी समान हैं।"

शाहरुख के कारण उनके बेटे को निशाना बनाया जा रहा
शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि आर्यन का विरोध किया जा रहा है, क्योंकि वह SRK का बेटा है। उन्होंने कहा, "निश्चित रूप से शाहरुख ही कारण हैं, जिसके कारण उनके बेटे को निशाना बनाया जा रहा है। मुनमुन धमेचा और अरबाज मर्चेंट जैसे और भी नाम हैं, लेकिन कोई उनके बारे में बात नहीं कर रहा है। पिछली बार जब ऐसा हुआ था, तो ध्यान दीपिका पादुकोण पर था। हालांकि, इसमें अन्य नाम भी शामिल थे और जाने-माने नाम भी थे। लेकिन, ध्यान केवल उन्हीं पर था।" शत्रुघ्न सिन्हा का यह भी मानना है कि आर्यन के जरिए पॉवरफुल लोग शाहरुख को टारगेट कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "इस बार उनके पास खेलने के लिए आर्यन खान है, क्योंकि वह शाहरुख खान के बेटे हैं और उन्हें एक्टर के साथ स्कोर करने का मौका मिला है।" शत्रुघ्न सिन्हा इस फैक्ट की ओर भी इशारा करते हैं कि NCB के अधिकारियों को आर्यन के पास से कोई प्रतिबंधित पदार्थ नहीं मिला है।

शत्रुघ्न सिन्हा ने NCB पर उठाए कई सवाल
शत्रुघ्न सिन्हा कहते हैं, "हम यह भी जानते हैं कि उन्हें आर्यन के पास से कोई ड्रग नहीं मिला है और न ही उनके पास कोई आपत्तिजनक सामग्री मिली है। भले ही उन्हें ड्रग्स मिला हो, लेकिन सजा अधिकतम एक साल है। हालांकि, इस मामले में ऐसा नहीं होता है। आर्यन और अन्य को गिरफ्तार करने के बाद एक और बड़ा सवाल जो पूछा जाना चाहिए, वे यह है कि उनके यूरिन और ब्लड टेस्ट क्यों नहीं किए गए? आमतौर पर इस तरह के मामलों में ऐसा किया जाता है।"

शत्रुघ्न सिन्हा ने आर्यन, अरबाज और मुनमुन की नजरबंदी प्रक्रिया के दौरान मौजूद राजनीतिक सहयोगियों के मौजूद रहने की ओर भी इशारा किया। उन्होंने कहा, "एक राजनीतिक दल का सदस्य, जो इस मामले में पंच के तौर पर मौजूद था। वह NCB ऑफिस के बाहर ऐसे घूम रहा था, मानो कुंभ मेले में घूम रहा हो। लड़कों को इतने अपमानजनक तरीके से घसीटने के लिए उन्हें और दूसरे व्यक्ति को, जिनका कथित तौर पर आपराधिक रिकॉर्ड है, उन्हें अनुमति किसने दी? और बड़ा सवाल यह है कि मामले की जांच पूरी होने से पहले ही उन तीन लोगों को क्यों जाने दिया गया? जिस शख्स का क्रिमिनल रेकॉर्ड है, वह आर्यन के साथ ऐसे सेल्फी ले रहा था, जैसे कि वो घर का दामाद था। यह सब दिखाता है कि आंखों को जो दिख रहा है, इस मामले में इससे भी कहीं और ज्यादा छिपा है।"

शाहरुख को वकीलों और न्यायपालिका पर विश्वास रखना चाहिए
शत्रुघ्न सिन्हा को लगता है कि आर्यन का केस अच्छे वकीलों की टीम के हाथों में है। उन्होंने कहा, "शाहरुख को सतीश मानेशिंदे और न्यायपालिका जैसे वकीलों का आभारी होना चाहिए, जिन्होंने मामले में जवाब देने के लिए NCB को और समय देने से इनकार कर दिया है। साथ ही यह आश्चर्य की बात है कि अगर कोई रखरखाव नहीं था, तो मामला उस अदालत में जमानत के लिए क्यों गया? मैं एक बात यह भी बताना चाहूंगा कि शाहरुख और अन्य को अपने वकीलों और न्यायपालिका पर विश्वास रखना चाहिए और कानून का सम्मान करना चाहिए।"

शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने साथी राजनेता नवाब मलिक की भी प्रशंसा की है, जिन्होंने इस मामले में कई बार आरोप लगाए हैं कि NCB की जांच संदिग्ध है। शत्रुघ्न सिन्हा ने आगे कहा, "मैं नवाब मलिक से पूरी तरह प्रभावित हूं, जिन्होंने सबूत के साथ एक कानूनी बात सामने रखी है और NCB को कटघरे में खड़ा किया है। शाहरुख को उनका शुक्रगुजार होना चाहिए। और मलिक ने NCB और अन्य के बारे में जो कहा है, उसकी गहन जांच किए जाने की जरूरत है।"

खबरें और भी हैं...