मिशन मजनू की तैयारी:लखनऊ में रीक्रिएट किया पाकिस्तान, सिद्धार्थ स्‍टीरियोटाइप मुस्लिम न दिखें इसलिए नहीं लगाया आंखों के नीचे गहरा सुरमा

एक वर्ष पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक
  • 50 से ज्‍यादा लोकेशनों पर शूट की गई, महज 10 दिन का काम बाकी
  • आगे की फिल्‍मों के लिए ढूंढ रहे बेहतर रायटर, अल्‍लू अर्जुन की डीजे रीमेक कनाडा में
  • राइटिंग ठीक न लगने पर ठुकरा दी थी ‘लूडो’ और ‘हाथी मेरे साथी’

‘शेरशाह’ में कैप्‍टन विक्रम बत्रा के लिए खासी तारीफें हासिल कर चुके सिद्धार्थ मल्‍होत्रा ‘मिशन मजनू’ में भी देश की रक्षा के लिए जान की बाजी खेलने वाले किरदार में नजर आएंगे। फर्क बस इतना है कि ‘मिशन मजनू’ में वह आर्मी जवान नहीं, बल्क‍ि पाकिस्‍तान में पहचान छिपाकर जासूसी करने वाले रॉ एजेंट के रोल में होंगे।

सिद्धार्थ का किरदार सत्‍तर के दशक में वहां रहकर पाकिस्‍तान के परमाणु परीक्षणों की जानकारी लीक कर उसे विफल करता है। बहरहाल, सिद्धार्थ ने दो दिन पहले मुंबई में अपने हिस्‍से का काम पूरा कर लिया। फिल्‍म के डीओपी बिजितेश डे ने शूट संबंधी डिटेल कन्‍फर्म की है।

नाप लिया लखनऊ का ओर-छोर
बिजितेश डे ने कहा- "इस फिल्‍म में रीक्रिएटेड पाकिस्‍तान भी अहम किरदार है। वह सत्‍तर के दशक का है। चुनौती इस बात की थी कि हमें ऐसा पाकिस्‍तान दिखाना था, जो मुस्लिम बहुल राष्‍ट्र बांग्‍लादेश और मलेशिया जैसा न लगे। ऐसे में हमने तब के पाकिस्‍तानी वासियों के पहनावे, कल्‍चरल डिफरेंसेज पर रिसर्च किया। हमने लखनऊ में किसी एक मोहल्‍ले में शूटिंग नहीं की। अलग-अलग लोकेशनों पर गए। देखा जाए तो ऑथेंटिक पाकिस्‍तान नजर आए, उसके लिए हम लखनऊ के एक ओर 80 किलोमीटर दूर तो दूसरे छोड़ 60 किलोमीटर दूर तक गए। इतनी गहन तैयारी इसलिए की गई ताकि ऑडिएंस के साथ पहले विजुअल नाता जुड़ सके। उसके बाद उर्दू में संवादों और किरदारों के पहनावे यूज हुए हैं। ताकि तत्‍कालीन पाकिस्‍तान फेक न लगे।

  • सिद्धार्थ मल्‍होत्रा ‘शेरशाह’ पर तो एक्टिंग कोच ले गए थे, मगर यहां सेट पर उनके और रश्‍म‍िका के लिए प्रोडक्शन की तरफ से डायलेक्‍ट कोच थे। ताकि प्रामाणिक उर्दू के साथ छेड़छाड़ न हो।
  • डायलॉग सुपरवाइजर के टीम मेंबर्स ने बताया- "सिद्धार्थ, शारिब हाशमी, कुमुद मिश्रा आदि कलाकार तो हिंदी पृष्‍ठभूमि से हैं। रश्‍म‍िका साउथ से हैं। ऐसे में, शूट की शुरूआत में तो उन्‍हें डायलेक्‍ट में तकलीफ हो रही थी, मगर उन्‍होंने महज दो से तीन दिनों में ही रफ्तार पकड़ ली।"

ऐसा होगा सिद्धार्थ का लुक
शूट के ब्रेक में वहां सिद्धार्थ और रश्‍म‍िका का फेवरेट पास टाइम क्र‍िकेट खेलना था। दोनों ने अपने अपने गेटअप और मेकअप को भड़कीला नहीं बनने दिया। सिद्धार्थ का किरदार मुस्लिम बनकर पाकिस्‍तान में रहता दिखाया गया है। पठानी सूट, तौलिए, टोपी में वो नजर आएंगे। आंखों में सुरमा भी है, पर वह टिपिकल कमर्शियल फिल्‍मों में मुस्लिम युवाओं की आंखों पर भारी-भरकम सुरमा लगाए नजर नहीं आएंगे। मेकअप की टीम ने सिद्धार्थ का लुक रियलिस्टिक रखा है। फिल्‍म का एक्‍शन रवि वर्मन का है। शांतनु बागची इसके डायरेक्‍टर हैं। सालों से एडवरटायजिंग वर्ल्‍ड में रहे हैं। ‘मिशन मजनू’ उनकी पहली फीचर फिल्‍म है।

सिद्धार्थ का अपकमिंग प्रोजेक्ट
सिद्धार्थ इनके अलावा अल्‍लू अर्जुन वाली ‘डीजे’ की रीमेक की तैयारियों में भी जुटने वाले हैं। फिल्‍म से जुड़े सूत्रों ने बताया कि इसमें उनका डबल रोल होगा। ज्‍यादातर शूटिंग कनाडा में होगी। यह कब फ्लोर पर जाएगी, उसका फैसला जल्‍द होगा। उधर सिद्धार्थ के करीबियों ने कहा कि सिद्धार्थ कुछ बहुत बेहतरीन रायटरों की तलाश में हैं। ‘लूडो’ और ‘हाथी मेरे साथी’ की राइटिंग पसंद न आने के चलते सिद्धार्थ ने उन्‍हें मना किया था। ‘लूडो’ मना करने पर उन्‍हें आदित्‍य रॉय कपूर ने रिप्‍लेस किया था। ‘हाथी मेरे साथी’ में बाद में पुलकित सम्राट आए थे।

खबरें और भी हैं...