पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खास बातचीत:सुनीता राव बोलीं-बॉलीवुड में एक भी गाना गाए बगैर मैंने संगीत जगत में अपना नाम कमाया है

मुंबई9 दिन पहलेलेखक: ज्योति शर्मा
  • कॉपी लिंक

90 के दशक के लोगों ने निश्चित तौर पर "परी हुं मैं" गाने को जरूर सुना होगा। मशहूर सिंगर सुनीता राव ने उस गाने को आवाज दी थी। तकरीबन 30 सालों से सुनीता ने म्यूजिक इंडस्ट्री में अपना मुकाम बनाया है। सबसे खास बात सुनीता ने बिना बॉलीवुड में गाना गाए अपना ये खास मुकाम हासिल किया है। हाल में ही सुनीता का म्यूजिक वीडियो "वादा करो" रिलीज हुआ है। दैनिक भास्कर के साथ खास बातचीत में सुनीता ने म्यूजिक वीडियो और संगीत की दुनिया से लेकर अपने करियर के बारे में कुछ खास बातें शेयर की हैं।

इस गाने पर कब से काम करना शुरू किया था ?
जो सवाल आपने पूछा वह बहुत महत्वपूर्ण है। जिस समय उसकी शूटिंग हुई थी वो वक्त बहुत गुजर गया है। क्योंकि यह बहुत सालों पहले की बात है। तकरीबन 11 साल पहले की बात है। तब एक वेबसाइट थी, जिसका नाम प्लेनेट अलर्ट था। तब उन लोगों ने मुझसे कहा था कि उन्हें अपनी वेबसाइट के लिए एक एंथम चाहिए। उस वक्त मैं मां बनने वाली थी। उन्होंने एक मैसेज के लिहाज से इसे करने के बारे में सोचा था। हम अपने बच्चों के लिए किस तरह की जिंदगी छोड़ने वाले हैं। इस गाने के जो अल्फाज हैं। मैंने उसी वक्त लिखे थे। बाद में वह वेबसाइट बंद हो गई। मगर वह गाना मेरे पास रहा। मैं दूसरे अन्य कामों में बिजी हो गई थी। कुछ साल पहले सोनी ने मुझे हंगामा में कहा कि आपके पास यह गाना है। यह इतना अच्छा गाना है। इसका कुछ करते हैं और उन्होंने वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे पर इसे एक साथ लांच किया था।

उस समय दारा अली ने इस पर परफॉर्म भी किया था। मैंने उनके साथ काफी काम किया है। हम एक दूसरे को अच्छी तरह जानते हैं। जब वह आ गए और उन्होंने इस गाने पर परफॉर्म किया, तो एक बार फिर से धमाल हो गया। फिर मैंने इसकी एक बार फिर से रिकॉर्डिंग की। उनको स्टूडियो में लाया और मैंने कहा इसका एक वीडियो बनना ही है। फिर सोचा वीडियो का बजट कैसे आएगा? उसके बाद मैंने इसके लिए क्राउडफंडिंग की। जिसमें मुझे 1 साल लग गए। फिर कोविड-19 आ गया और हमें शूट कैंसिल करना पड़ा। मगर मेरी सोच साफ थी। कैसे भी मुझे यह वीडियो निकालना है ? लोगों ने इसके लिए मुझे कंट्रीब्यूट किया है। आज की तारीख में मेरे पास बजट है। जब मैं इसकी रिकॉर्डिंग कर रही थी। तब दो लोग इसके लिए लंदन से आए थे। फिर मैंने इसके वीडियो के लिए डब्ल्यूडब्ल्यूएफ को अप्रोच किया। उन्होंने मुझे बढ़िया फुटेज अवेलेबल कराई। जब यह सब हमने इकट्ठा कर लिया। फिर हमने उसकी एडिटिंग स्टार्ट की। बेंगलुरु से एक आर्टिस्ट है, बाबू गोविल। मैंने उन्हें अप्रोच किया। बाबू गोविल ने इस वीडियो में बहुत अच्छा काम किया है। मैंने उनको यहां से डायरेक्ट किया। मेरे कुछ लाइव शो थे। जिसमें मैंने गाया था। हमें उसके भी विजुअल्स मिले। तो फिर मैंने इसे उसके साथ जोड़ दिया। अभी लॉकडाउन में यह वीडियो बन गया।

क्या एल्बम के लिए जो पहले से वीडियो फुटेज थे, उन्हीं का इस्तेमाल किया गया है ?
कई चीजें रिकॉर्ड की गई। इत्तेफाक से जो भी समय मुझे मिला। बाकी डब्ल्यूडब्ल्यूएफ की ओरिजिनल क्लिप बहुत अच्छी है। जो वाइल्ड लाइफ के लिए लेते हैं। वह बेहद हाई रिजॉल्यूशन फुटेज है। जिसके लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। मैं तकरीबन 3 महीने तक उस फुटेज को ढूंढ रही थी। जैसे लाइब्रेरी होती है। डब्ल्यूडब्ल्यूएफ की वैसे ही स्टील लाइब्रेरी होती है। मैंने उसमें से ढूंढ ढूंढ कर बहुत मुश्किल से उसे निकाला था। इसमें काफी वक्त लगा। काफी मेहनत हुई। मगर आज सुकून है। हमने इस प्रोजेक्ट को कंप्लीट कर दिया है।

आज की तारीख में देश भक्ति के गाने और फॉक म्यूजिक ज्यादा पसंद किए जा रहे हैं, इसके पीछे क्या वजह है ?
देखिए वह हमेशा से बहुत सालों से होता आ रहा है। मुझे व्यक्तिगत तौर पर फॉक म्यूजिक बहुत पसंद है। मैं अपने हर गाने में एंटरटेनमेंट और म्यूजिक के साथ एक मैसेज देते आ रही हूं। यह मुझे अच्छा लगता है कि हम दर्शकों का मनोरंजन भी करते रहें। साथ में मैसेज भी देते रहें, क्योंकि यह काम हम कर सकते हैं। यह मुझे हमेशा बहुत अच्छा लगता है। 'वादा करो' के साथ भी ऐसा ही हो रहा है।

म्यूजिक इंडस्ट्री में बहुत बदलाव आया है, इसे आप जैसे लोग जिन्होंने इंडस्ट्री को कई दशक दिए हैं इस बदलाव को किस तरह देखती हैं ?
म्यूजिक हमेशा बदलता रहता है और दर्शक भी बदलते रहते हैं। धून और लिरिक्स भी बदलते रहते हैं। कई बार पुरानी चीजें वापस आ जाती हैं। यह रिदम और मेलोडी पर डिपेंड करता है और साथ ही वक्त पर भी डिपेंड करता है। जैसे नौशाद साहब के पीरियड में भी पॉप म्यूजिक था। मगर लोक संगीत उस समय भी था और आज भी है। लेकिन एक बात समझ लेनी चाहिए की संगीत या म्यूजिक हमेशा म्यूजिक ही रहता है। इसमें जो भी बदलाव आते हैं वह अच्छी बात है। वह आते रहना चाहिए। अगर साथ में ही वह लोगों को अच्छा लगे तब तो समझो एकदम से बात ही बन गई।

32 साल का आपका करियर हो गया है, उसे किस रूप में देखती हैं ?
मैं अपने दर्शकों और श्रोताओं की बहुत आभारी हूं। उन्होंने मुझे ढेर सारा प्यार दिया है। मैंने अपने व्यवसाय करियर के लिए जितना भी समय निकाला है। उसकी तुलना में मुझे बहुत ज्यादा प्यार मिला है। जब भी हमने कुछ भी रिलीज किया है, या काम किया है। उसे बहुत ज्यादा प्यार मिला है। मुझे आशा है 'मुझसे वादा करोगी' लोगों तक पहुंचेगा। आप मीडिया कर्मियों की वजह से लोगों में इस गाने को लेकर जागरूकता पैदा हो। यह एक संदेश देने वाला गाना है। इस गाने के जरिए अगर अच्छा मैसेज फैल सके तो मुझे खुशी होगी। जिन भी लोगों ने मेरा वीडियो देखा और सुना है। मेरे लाइव शो देखे हैं। उन सब ने मुझे भरोसा दिया है कि आप थोड़ा भी परेशान ना हो, प्रेशर ना लें। उन्होंने सिर्फ मुझे गाना गाने के लिए कहा है। मैं पिछले 30 साल से म्यूजिक इंडस्ट्री में रही हूं और अपना करियर बनाया है। सबसे खास बात है की बिना बॉलीवुड की मदद या वहां गाना गाए ही मैंने अपना यह सफल करियर बनाए रखा है। इसके लिए मैं अपने सभी प्रशंसकों और दर्शकों की आभारी हूं।

तकनीक और इंस्ट्रूमेंट्स की वजह से हमारे संगीत जगत की जो आत्मा थी, वह कहीं न कहीं खत्म या लुप्त सी हो रही है आपका क्या मानना है ?
क्लासिकल म्यूजिक हमेशा से रिच ही है। इससे लोगों को एक सुकून मिलता है, एक संतुष्टि मिलती है। वह कहीं और कभी भी नहीं मिल सकता है। हमारी संस्कृति ही ऐसी रही है, हमारा क्लासिकल म्यूजिक ही ऐसा रहा है। संगीत में क्लासिकल म्यूजिक कभी कहीं नहीं जाएगा। मैंने भी थोड़ी बहुत क्लासिकल की ट्रेनिंग ली। उसे छोटे-छोटे चंक में अपने वीडियो में डाल दिया है। मैंने रीमिक्स किया है, पॉप म्यूजिक किया है। जैसे 'परी हूं मैं' में मैंने बांसुरी इस्तेमाल किया था। कई जगहों पर हमने तबला यूज किया है। वेस्टर्न के साथ हमने इंडियन इंस्ट्रूमेंट भी यूज किए हैं। हालांकि, यह कंटेंपरेरी म्यूजिक है। हम सभी सुबह उठते हैं तो शांत म्यूजिक सुनना होता है। जबकि शाम के वक्त हमें डांस करना होता है, तो हम पॉप म्यूजिक सुनते हैं। तो हमारे देश में हर समय हर वक्त के लिए हर तरह का म्यूजिक मौजूद है और यही हमारा खजाना है।

'वादा करो' रिलीज हो चुका है, क्या आप इस तरह के कुछ और गानों या प्रोजेक्ट्ल पर काम कर रहीं हैं ?
यह रिलीज सालों बाद आई है। इसको सभी लोग सुनें तो मैं खुश रहूंगी। जब यह पूरी तरह कंप्लीट हो जाएगा। उसके बाद अगर कुछ किया तो आप लोगों को जरूर बताऊंगी।

खबरें और भी हैं...