सोनू सूद का हाल:वेजिटेरियन फूड हैबिट ने की कोरोना से उबरने में मदद, लेकिन मरीजों के परिजनों की दर्द भरी आवाज रातभर सोने नहीं दे रही

2 वर्ष पहलेलेखक: अमित कर्ण

सोनू सूद ने कोरोना को मात दे दी है। खास बात यह है कि रिपोर्ट पॉजिटिव होने के बाद महज 6 दिनों में वे इससे रिकवर हो गए। दैनिक भास्कर से बातचीत में उन्होंने इतने कम समय में कोविड को मात देने का राज उजागर किया। सोनू ने कहा, " मैं वेजिटेरिन हूं। जमकर फल-फूल, हरी सब्जयिां खाने की आदत है। इस पीरियड में विटामिन, कैलशियम, जिंक आदि लेता रहा। बाकी मेरी इम्‍युनिटी ने भी कोरोना से उबरने में मुझे मदद की। ब्रीदिंग एक्‍सरसाइज भी बहुत करता हूं।‘पैन डी 40’ से लेकर बुखार होने पर 'डोलोज' और रेगुलर मेडिसिन लेता रहा। स्‍टीम इनहेलेशन भी मैंने खूब किया।"

लेकिन सो नहीं पा रहे हैं सोनू सूद

शनिवार को सोनू सूद ने सोशल मीडिया पर बताया कि वे सो नहीं पा रहे हैं। क्योंकि आधी रात भी उनके पास मदद की आस लिए रोते-बिलखते कोविड पेशेंट्स के परिजनों के फोन आ रहे हैं। सोनू ने लिखा है, "सो नहीं सकता। आधी रात को मेरा फोन बजता है। मैं एक हताश आवाज सुनता हूं, जो अपने परिजनों को बचाने के लिए है। हम मुश्किल दौर में जी रहे हैं। लेकिन कल बेहतर होगा। बस खुद पर पकड़ मजबूत बनाएं। हम साथ मिलकर जीतेंगे। बस हमें कुछ और हाथों की जरूरत है।"

एक्टर ने हाल ही में जताई थी लाचारी

सोनू ने हाल ही में कोविड मरीजों के लिए बेड्स और दवाइयां मुहैया न करा पाने पर लाचारी जताई थी। उन्होंने लिखा था, "मैंने सुबह से अपना फोन नहीं रखा है। देशभर से हॉस्पिटल, बेड्स, दवाओं, इंजेक्शंस के लिए हजारों कॉल आ चुके हैं और अब तक मैं उनमें से कईयों को यह उपलब्ध नहीं करा पा रहा हूं। लाचार महसूस कर रहा हूं। स्थिति डरावनी है। प्लीज घर में रहें, मास्क पहनें और खुद को संक्रमण से बचाएं।"

इसके साथ ही सोनू ने लिखा था, "जो कहा, वह किया। मैं अब भी कर रहा हूं। मुझे भरोसा है कि हम मिलकर कई और जिंदगियां बचा सकते हैं। यह किसी को दोष देने का नहीं, बल्कि उनके लिए आगे आने का वक्त है, जिन्हें आपकी जरूरत है। जिनके पास पहुंच नहीं है, उनकी मेडिकल संबंधी जरूरत पूरी करने की कोशिश करें। आइए मिलकर जिंदगियां बचाते हैं। आपके लिए हमेशा मौजूद हूं।"

खबरें और भी हैं...