मसीहा पर IT रेड:सोनू सूद के करीबी का दावा-एक्टर के यहां सर्वे नहीं बाकायदा छापा पड़ा है, यह केजरीवाल से हाथ मिलाने का नतीजा

मुंबई4 महीने पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक

सोनू सूद के यहां इनकम टैक्‍स की रेड पड़ी है या महज सर्वे हुआ है, इस पर अलग-अलग जानकारियां सामने आ रही हैं। सोनू सूद और उनके परिवार के लोगों का फोन लगातार स्‍व‍िच ऑफ आ रहा है। इस बीच सोनू सूद के एक करीबी ने दैनिक भास्‍कर से कहा और दावा किया है कि मुंबई में सोनू सूद के यमुना नगर वाले फ्लैट पर बाकायदा छापा पड़ा है और वह सर्वे तो कतई नहीं था।

बता दें कि सोनू सूद पर इनकम टैक्स की कार्रवाई गुरुवार को लगातार दूसरे दिन भी जारी है। बुधवार शाम से गुरुवार सुबह तक इन ठिकानों पर IT की टीमों ने लगातार 20 घंटे तक अकाउंट बुक्स, इनकम, खर्च और फाइनेन्शियल रिकॉर्ड्स की जांच की थी। गुरुवार सुबह एक छोटे से ब्रेक के बाद जांच टीम फिर से रिकॉर्ड खंगालने में जुट गई है।

यह सोनू के पॉलिटिकल मूवमेंट का ही सिला है
सोनू सूद के करीबी ने कहा, "यह तो होना ही था। क्योंकि हाल ही में सोनू सूद की जो पॉलिटिकल मूवमेंट रही, यह उसी का सिला है। बुधवार को इनकम टैक्‍स के अधिकारी सुबह 10:30 बजे धमके थे और शाम 6 बजे तक उनकी मौजूदगी थी। मीडिया में तो कहा गया कि यह सर्वे था, मगर असल में यह बाकायदा रेड थी।"

कुछ दिन पहले दिल्ली सरकार ने सोनू को ब्रांड एम्बेसडर बनाया
बीते 27 अगस्त को ही दिल्ली सरकार ने सोनू सूद को स्कूली छात्रों से जुड़े प्रोग्राम का ब्रांड एम्बेसडर बनाया है। इस दौरान उनके आम आदमी पार्टी में शामिल होने की अटकलें भी चली थीं, पर सोनू ने खुद कहा था कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ उनकी सियासत पर कोई बात नहीं हुई। सोशल मीडिया में चर्चा जारी है कि सूद को AAP पार्टी के साथ जुड़ने के कारण टारगेट किया जा रहा है।

सोनू की फैमिली और स्टाफ से भी की गई पूछताछ
बता दें कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने सोनू के घर पर मौजूद उनके परिवार और स्टाफ के लोगों से भी पूछताछ की है। एक्टकर के घर से अधिकारी कुछ फाइलें और कागजात भी अपने साथ ले गए हैं। कोरोना काल में सोनू सूद ने हजारों लोगों की मदद की। इनका एक NGO भी चल रहा है, जिसका नाम 'सूद चैरिटी फाउंडेशन' है। यह एनजीओ हेल्थकेयर, एजुकेशन, नौकरी और तकनीकी एडवान्समेंट पर काम करता है। IT अधिकारियों यहां भी जाकर जांच की है। जानकारी के मुताबिक, आयकर विभाग 'एक रियल एस्टेट सौदे की जांच कर रहा है।'

सोनू सूद के समर्थन में उतरे अरविंद केजरीवाल
इस रेड के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोनू सूद के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। उन्होंने लिखा है, "सच्चाई के रास्ते पर लाखों मुश्किलें आती हैं, लेकिन जीत हमेशा सच्चाई की ही होती है। सोनू सूद जी के साथ भारत के उन लाखों परिवारों की दुआएं हैं, जिन्हें मुश्किल घड़ी में सोनू जी का साथ मिला था।"

AAP ने आयकर विभाग की कार्रवाई पर उठाए सवाल
आम आदमी पार्टी (AAP) नेता आतिशी ने एक वीडियो पोस्ट किया और आयकर विभाग की कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। आतिशी ने कहा, "सोनू सूद ऐसे व्यक्ति हैं जो ना सिर्फ बॉलीवुड के फिल्मस्टार हैं बल्कि एक सोशल वर्कर और जनता की मदद करने वाले व्यक्ति हैं जिन्होंने कोविड के दौरान लोगों को राशन पहुंचाया। लोगों की मदद की। ये बहुत दुखद बात है कि भाजपा की सरकार उनको डराने के लिए एक आईटी रेड करती है इसे सर्वे कहते हैं वो।"

सोनू कोरोना काल में बने लोगों के मसीहा
सोनू सूद ने कोरोना काल में लगाए गए लॉकडाउन के दौरान सबसे पहले प्रवासियों को उनके घर पहुंचाने का बीड़ा उठाया था। इसके बाद वे लगातार देश भर के लोगों की मदद करते रहे हैं। कई राज्य सरकारों ने सोनू के साथ काम करने के लिए हाथ मिलाया है, जिनमें पंजाब और दिल्ली सरकार शामिल है। इसके अलावा सोनू ने गुडवर्कर जॉब ऐप, स्कॉलरशिप प्रोग्राम भी चलाए हैं। वे देश में 16 शहरों में ऑक्सीजन प्लांट भी लगवा रहे हैं। कोरोना के दौरान किए गए सोनू के मानवीय कामों के लिए फैंस उन्हें मसीहा कहने लगे।

संयुक्त राष्ट्र ने किया था सोनू का सम्मान
48 साल के सोनू हिन्दी, तेलुगु, कन्नड़ और तमिल फिल्मों में काम कर रहे हैं। जल्द ही वो एक पीरियड ड्रामा पृथ्वीराज में दिखाई देंगे। इसके अलावा वे तेलुगु एक्शन-ड्रामा आचार्य में भी काम कर रहे हैं। सितंबर 2020 में सूद को कोरोना महामारी के दौरान उनके मानवीय कार्यों के लिए संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) ने 2020 SDG स्पेशल ह्यूमैनिटेरियन एक्शन अवॉर्ड दिया था। फिलहाल वे देश के हर खास-ओ-आम की मदद के लिए सूद चैरिटी फाउंडेशन चला रहे हैं।

खबरें और भी हैं...