खास बातचीत:'सूर्यवंशी' स्टार अक्षय कुमार ने कहा-मैं इंडस्ट्री का बंदा हूं, यहीं से कमाऊंगा और यहीं पैसा लगाऊंगा

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अक्षय कुमार की 'सूर्यवंशी' कोविड काल के बाद 100 करोड़ रुपए की कमाई करने वाली पहली फिल्म बन चुकी है। इसकी सफलता के बाद अक्षय कुमार एक बार फिर से मीडिया से मुखातिब हुए हैं। उन्होंने सफलता और करियर के बारे में बात की है। प्रस्तुत हैं अक्षय से बातचीत के कुछ प्रमुख अंश -

'सूर्यवंशी' को थिएटर में रिलीज करते वक्त क्या मन में कोई दुविधा थी?
यह फिल्म लॉकडाउन के बाद थिएटर्स में मेरी दूसरी फिल्म है। इससे पहले 'बेलबॉटम' आई थी। अभी भी कई जगहों पर सिनेमाघर 50 फीसदी ही खुले हैं, तो कहीं नाइट शोज नहीं हैं पर फिर भी यह अटैम्प्ट तो करना ही था। अगर यह नॉर्मल वक्त होता तो 'सूर्यवंशी' और ज्यादा बिजनेस करती खैर आशा करता हूं कि आगे रिलीज होने जा रहीं 'बंटी और बबली 2' सहित सभी फिल्में चलें, क्योंकि फिल्मों का चलना जरूरी है। हम सभी घर पर बैठे-बैठे थक चुके हैं।

कोविड काल के बाद 100 करोड़ रुपए कमाने वाली 'सूर्यवंशी' पहली फिल्म है, इस बारे में क्या कहेंगे?
अच्छा ही महसूस करता हूं। कोविड से निकलकर ऑडियंस का थिएटर में जाना, टिकट खरीदना, किसी के हाथ से खाना लेकर खाना… यह सब नई-नई चीजें वापस शुरू हुई हैं। ऑडियंस को धन्यवाद दूंगा कि वे थिएटर में जाकर फिल्में देख रहीं हैं।

सिंगल थिएटर बंद होने के कगार पर हैं, उनके भविष्य पर क्या कहेंगे?
काफी सिंगल थिएटर बंद हो गए हैं, लेकिन अब उन्हें वापस खोलने का समय आ गया है। थिएटर्स का खुलना बहुत जरूरी है। इसे प्रदेश सरकार सपोर्ट कर रही है और इसे रिवाइव करना चाहिए।

अब जब थिएटर्स शुरू हो गए हैं तो क्या ओटीटी के लिए कोई फिल्म करेंगे?
क्यों नहीं करेंगे, सब कुछ बैलेंस करके चलना पड़ेगा। कुछ फिल्में हैं, जो थिएटर में ही जाती हैं। इसी तरह कुछ फिल्में ओटीटी के लिए ही बनती हैं, वे उस पर दिखाई जानी चाहिए। पूरे कोविड काल में बैठकर हमने आखिर ओटीटी पर ही फिल्में देखी है न! अब हम आगे जाने के बारे में सोचना चाहिए। मैं तो खुद एक वेब सीरीज कर रहा हूं, जिसकी शूटिंग अगले साल शुरू करूंगा।

आपने मराठी फिल्म 'चुंबक' का निर्माण किया है, मराठी फिल्म में अभिनय कब करेंगे?
अभी तक मेरे पास किसी का ऐसा ऑफर आया नहीं है। अगर कोई अच्छे रोल का ऑफर लेकर आएगा, तब मराठी फिल्म भी करूंगा। मैंने पंजाबी फिल्में की हैं। कन्नड़ और तमिल भी कर ली है। अब बस भोजपुरी फिल्में करना रह गया है।

पुलिस इंस्पेक्टर वाला कौन सा रोल आपका पर्सनल फेवरेट रहा है?
बच्चन साहब की 'जंजीर' है, जगदीश राज ने इतने सारे कॉप के रोल किए हैं। उनकी तो गाड़ी में ही पुलिस की वर्दी रहती थी। वे बतौर कलाकार पुलिस ऑफिसर का रोल एकदम परफेक्ट निभाते थे। आई थिंक, हम लोग उन्हें अभी तक फॉलो करते आ रहे हैं।

आप बॉक्स-ऑफिस के आंकड़ों से कितना प्रभावित होते हैं?
मैं इसलिए प्रभावित होता हूं. क्योंकि उससे ही मुझे बड़ी फिल्म बनाने का हौसला मिलता है। मैं इस फिल्म इंडस्ट्री में आया हूं तो इसी से कमाऊंगा और इसी इंडस्ट्री में पैसा लगाऊंगा। मैं चाहता हूं कि और थिएटर्स खुलें, फिल्में और बड़ी हों, 3-4 सौ क्या 7-8 सौ करोड़ क्लब में पहुंचे। यह तभी होगा, जब थिएटर्स की तादाद बढ़ेगी।

खबरें और भी हैं...