पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फिल्म से जुड़ा फैक्ट:सुशांत सिंह राजपूत नहीं कर पाए थे 'दिल बेचारा' के क्लाइमैक्स की डबिंग, किसी और ने उनकी आवाज निकाल कर पूरी की थी फिल्म

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सुशांत सिंह राजपूत के निधन को लगभग 11 महीने का वक्त बीत चुका है। उनकी आखिरी फिल्म 'दिल बेचारा' उनके निधन के करीब 4 महीने बाद रिलीज हुई थी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस फिल्म के क्लाइमैक्स सीन के लिए वे डबिंग नहीं कर पाए थे। बाद में एक वॉयस ओवर आर्टिस्ट ने उनकी आवाज निकालकर डबिंग पूरी की थी। ये डबिंग आर्टिस्ट थे आरजे आदित्य। एक बातचीत में खुद आदित्य ने इस बात का खुलासा किया।

कई आर्टिस्ट्स की आवाज ट्राय की गई
मिस मालिनी से बातचीत में आदित्य ने बताया, 'मुझे लगता है कि सुशांत की शॉकिंग और दुर्भाग्यपूर्ण मौत के बाद यह सब शुरू हुआ। किसी ने नहीं सोचा था कि ऐसा कुछ हो जाएगा। फिल्म (दिल बेचारा) में उनका कुछ वॉयस वर्क रह गया था, जो वे नहीं कर सके थे। प्रोडक्शन टीम ने इसके लिए लोगों की तलाश शुरू की और कई वॉयस ओवर आर्टिस्ट्स को ट्राय किया, लेकिन उन्हें सही आवाज नहीं मिल सकी। फिर मुकेश छाबड़ा (फिल्म के डायरेक्टर) के ऑफिस से किसी ने मुझे अप्रोच किया और सुशांत के लिए अपनी आवाज ट्राय करने के लिए कहा।'

आदित्य ने आगे कहा, 'मुकेश छाबड़ा के ऑफिस से मुझे 'एमएस धोनी' की एक क्लिप भेजी गई, जो मैं ट्राय करने वाला था और इसमें कुछ समय लगा। क्योंकि मैंने कई एक्टर्स की आवाज ट्राय की थी, लेकिन कभी सुशांत की आवाज ट्राय नहीं की थी। इसलिए उनकी आवाज निकालने का यह पहला मौका था। लेकिन जैसे ही मैंने ऑडिशन भेजा, मुझे मुकेश छाबड़ा के ऑफिस से फोन आया और कहा कि वे मुझसे बात करना चाहते हैं।'
दो दिन और प्रैक्टिस करने में लगे थे
आदित्य के मुताबिक, उन्हें सुशांत की आवाज निकालने लिए और 2 दिन का वक्त लगा था। क्योंकि यह किसी की मिमिक्री नहीं थी, बल्कि किरदार के इमोशन को सही से पेश करना था। 'दिल बेचारा' बतौर डायरेक्टर मुकेश छावड़ा की पहली फिल्म है। इसमें सुशांत के अलावा संजना सांघी की अहम भूमिका है। सैफ अली खान ने इस फिल्म में स्पेशल अपीयरेंस दिया है।

खबरें और भी हैं...