कई गरबा सॉन्ग बनते हैं, पर सब नहीं चलते:तापसी पन्नू के ‘घनी कूल छोरी’ को एक करोड़ से ज्यादा व्यूज मिले, पर अब तक गरबा ग्राउंड में नहीं बजा गाना

मुंबई9 दिन पहलेलेखक: राजेश गाबा
  • कॉपी लिंक
  • संजय लीला भंसाली का गरबा सॉन्ग का फॉर्मूला सबसे कामयाब
  • फिल्म भुज: दी प्राइड में 2 गरबा सॉन्ग थे, पर किसी को याद तक नहीं

गुजरात बैकग्राउंड की फिल्म में गरबा सॉन्ग का फॉर्मूला बॉलीवुड बार-बार अपना रहा है। गुजराती बैकग्राउंड वाली फिल्म ‘रश्मि रॉकेट’ में ‘घनी कूल छोरी’ सॉन्ग आजकल चर्चा में है। इसके अलावा ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ का ‘ढोलीडा’ सॉन्ग भी जल्द आ रहा है। हालांकि हर बार ये फॉर्मूला हिट नहीं होता। ‘घनी कूल छोरी’ को यूट्यूब पर एक करोड़ से ज्यादा व्यूज मिले हैं और इंस्टाग्राम पर इसे लेकर बहुत रील भी बन रही है, लेकिन वह ग्राउंड में बज नहीं रहा। फिल्म 'भुज दी प्राइड ऑफ इंडिया' में तो 2 गरबा सॉन्ग थे, पर वह किसी को याद भी नहीं रहे।

संजय लीला भंसाली का फॉर्मूला हिट
गुजरात बैकग्राउंड की फिल्म में सुपरहिट गरबा सॉन्ग रखने के मामले में संजय लीला भंसाली सबसे कामयाब हैं। ‘हम दिल दे चुके सनम’ का ‘ढोली तारो’ और ‘रामलीला’ का ‘नगाड़ा संग ढोल बाजे’ आज भी सुपरहिट है। ‘राम लीला’ का ‘लहू मुंह लग गया’ लोग आज भी बजाते हैं।

आलिया के 'ढोलीडा' सॉन्ग का इंतजार
अब संजय लीला भंसाली की ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ के ढोलीडा सॉन्ग का इंतजार है। इस गरबा सॉन्ग के लिए आलिया भट्ट ने एक महीने तक गरबा की प्रैक्टिस की थी। बाद में 6 दिन की शूटिंग में यह सॉन्ग कम्प्लीट किया गया।

फिल्मी कम, मूल गुजराती सॉन्ग का एडॉप्शन ज्यादा
गुजरात के पास अपने लोक संगीत, सुगम और भक्ति संगीत से इतने सारे गरबा सॉन्ग हैं कि इसे बॉलीवुड के गरबा सॉन्ग की जरूरत ही नहीं होती। दूसरी तरफ बॉलीवुड आए दिन गुजरात के गरबा सॉन्ग्स को एडॉप्ट करता रहता है। जैसे भुज: दी प्राइड ऑफ इंडिया में ‘भाई..भाई…’ सॉन्ग वास्तव में एक गुजराती सॉन्ग का एडॉप्शन है। लवरात्रि का ‘चोगाड़ा तारा’ सॉन्ग आज की तारीख में भी बहुत बजता है। भाई-भाई ओरिजिनल गुजराती सॉन्ग बेहद पॉपुलर है, पर ‘भुज’ फिल्म में इसका एडॉप्शन नहीं चला। ऐसे ही ओरिजिनल गुजराती सॉन्ग ‘सनेडो’ पॉपुलैरिटी चार्ट में आज भी टॉप पर है, लेकिन 2019 में ‘मेड इन चाइना’ में इसका एडॉप्शन बिल्कुल नहीं चला।

घनी कूल छोरी में कच्छी ढोल
‘घनी कूल छोरी’ के म्यूजिक कम्पोजर अमित त्रिवेदी ने बताया कि फिल्म की कहानी में गुजरात के कच्छ का बैकग्राउंड है। कच्छी वाइब्स लाने के लिए इस सॉन्ग में लिए कच्छी ढोल का प्रयोग किया गया है। इसके साथ इलेक्ट्रॉनिक म्यूजिक को संजोया गया है। अमित इस नवरात्रि में नॉन फिल्मी गरबा सॉन्ग ‘तेडो तेडो’ भी लाए हैं। बीट्स पर बने इस सॉन्ग में गुजराती शादी की रस्में बताई गई हैं।

भूमि और तापसी ने बनाई इंस्टा रील
‘घनी कूल छोरी’ की प्लेबैक सिंगर भूमि त्रिवेदी ने बताया कि इस सॉन्ग को यू ट्यूब पर एक करोड़ से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं। इंस्टा रील पर यह गाना बहुत बज रहा है। मैने और तापसी ने मिलकर इसका इंस्टा रील बनाया है जो बहुत हिट हुआ है। भूमि नवरात्रि में बहुत सारे इवेंट में पार्टिसिपेट करती हैं। वह बताती हैं कि उन्हें ‘सनेडो..सनेडो’, ‘ढोली तारो…’ और ‘नगाड़ा संग ढोल’ जैसे गानों की ज्यादा फरमाइश मिलती है। इस बार कोविड प्रोटोकॉल की वजह से वह गरबा ग्राउंड का माहौल मिस कर रही हैं।
भूमि बताती हैं कि गरबा सॉन्ग में गाने के अलावा डांस भी बहुत अहम होता है। ‘घनी कूल छोरी’ के रिकॉर्डिंग के वक्त ही मैं डांस करना चाहती थी, पर अपने आप को जैसे-तैसे रोक लिया था। भूमि का एक और गरबा सॉन्ग भी रिलीज हुआ है। ‘गरबा की रात’ सॉन्ग में उनके साथ राहुल वैद्य भी हैं।

गरबा सॉन्ग को हिट बनाते हैं 4 फैक्टर
म्यूजिक एक्सपर्ट्स का कहना है कि किसी भी गरबा सॉन्ग को चार फैक्टर हिट बनाते हैं। एक तो रिदम, दूसरा लिरिक्स, तीसरा डांस मूव्स और चौथा कॉस्ट्यूम। सिर्फ लिरिक्स या सिर्फ म्यूजिक से कुछ नहीं होता। बीते सालों के कुछ गरबा सॉन्ग्स की लिस्ट देखें तो पता चल जाता है कि बड़े-बड़े सितारे भी अपना गरबा सॉन्ग हिट नहीं करा पाए, वहीं कुछ नए यंग एक्टर्स को कामयाबी मिल गई।

खबरें और भी हैं...