भास्कर इंटरव्यू:एक्ट्रेस सुरभि ज्योति बोलीं- जितने भी टीवी स्टार्स फिल्मों में आए हैं, उनका फिल्मों में सक्सेस रेट बहुत ज्यादा है

मुंबई20 दिन पहलेलेखक: उमेश कुमार उपाध्याय
  • कॉपी लिंक

सुरभि ज्योति की अपनी हालिया रिलीज फिल्म क्या मेरी सोनम गुप्ता बेवफा है? के लिए दर्शकों-प्रसंशकों की अभारी हैं, क्योंकि उन्होंने इसके लिए सुरभि को काफी सराहना की है और अच्छी प्रतिक्रियाएं दी हैं। उनका सिंगल सॉन्ग सखियां… रिलीज हुआ है और इसे न्यू कमर सिंगर सिमर सेठी ने गाया है। इससे जुड़ने और सिंगल सॉन्ग से क्रिएटिव संतुष्टि पाने आदि के बारे में सुरभि ने विस्तारपूवर्क बताया। पढ़िए दैनिक भास्कर के साथ बातचीत का प्रमुख अंश:

सिंगल सांग ‘सखियां…’ कैसे जुड़ना हुआ? इससे जुड़ने का मुख्य रीजन क्या रहा?
नई सिंगर सिमर सेठी का मुझे फोन आया था, तब कहा कि गाना भेज दीजिए। मैं डिजाइस करती हूं। मैंने गाना सुना तो तुरंत हां कहने के बारे में सोचा, क्योंकि यह बहुत अच्छा लिखा गया गाना है और सिमर ने बहुत अच्छा गाया है। मुझे घूमने-फिरने का बड़ा शौक है, सो जब बताया गया कि यह रशिया में शूट होना है, तब तुरंत हां कह दिया। सागा म्यूजिक का इंडस्ट्री में बहुत अच्छा नाम है। यह सब देखते हुए ‘सखियां…’ से जुड़ना हुआ।

सिंगर सिमर सेठी के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा? क्या उनके साथ कोई और प्रोजेक्ट कर रही हैं?
मैं जब रशिया में शूट कर रही थी, तब उस समय सिमर रशिया में नहीं थीं। दरअसल, कोविड का टाइम भी चल रहा था। हम दोनों प्रोमोशन के समय मिले हैं। सिमर के साथ वंडरफुल एक्सप्रीरियंस रहा है। वह जितना अच्छा गाती हैं, उतनी ही अच्छी लड़की भी हैं। आशा है कि भविष्य में अच्छा नाम कमाएंगी। इनकी सक्सेसफुल जर्नी होगी। अभी तो सिमर के साथ कुछ और प्लान नहीं किया है, क्योंकि अभी बेसब्री से इसी गाने का इंतजार है।

सुना है कि आपके दो-तीन और सिंगल सॉन्ग में आने वाली हैं। आखिर सिंगल सॉन्ग में बतौर एक्ट्रेस किस तरह से क्रिएटिव संतुष्टि पाती हैं?
देखिए, सिर्फ टाइम का फर्क है। एक फिल्म दो-ढाई घंटे की होती है, वहीं टीवी पर शो करते हैं, तब कुछ महीने चलता है। मगर एक गाना करते हैं, तब वह दो-तीन दिन में खत्म हो जाता है। लेकिन सबमें कॉमन चीज यह होती है कि एक कहानी और एक किरदार होता है। शो में किरदार लंबे समय तक निभाने को मिलता है, जबकि कोई गाना कहते हैं तो उसे दो-तीन दिन निभाने को मिलता है। इसके अलावा कोई फर्क नहीं है। क्रिएटिव संतुष्टि बहुत ज्यादा मिलती है, क्योंकि हम एक्टर्स हैं और गीत-संगीत हमारी इंडस्ट्री का बहुत अहम हिस्सा है। अगर म्यूजिक वीडियो में काम करने का मौका मिलता है, तब अलग तरह का सैटिसफैक्शन होती है। अगर प्रोडक्शन वैल्यू भी देखा जाए, यह गाना रशिया में शूट हुआ है। मेहनत, पैशन लेकर यह किसी भी मायने से यह छोटा नहीं होता है।

एक के बाद एक लव स्टोरी कर रही हैं। क्या इस जॉनर से कुछ खास लगाव है या फिर महज संयोग है?
यह लव स्टोरी है, पर जिस तरह से प्यार की जर्नी में बहुत सारे पड़ाव आते हैं, उसमें से एक पड़ाव की कहानी है। बाकी म्यूजिक वीडियो में कहानी पर इतना ज्यादा फोकस नहीं होता है, लेकिन इसमें प्रोड्यूसर, डायरेक्टर, कोरियोग्राफर आदि ने गाने में एक कहानी दिखाने की कोशिश की है। इस तरह इस गाने में न सिर्फ अच्छी आवाज है, बल्कि अच्छी स्टोरी भी दिखाने की कोशिश की गई है। मुझे लगता है कि यह गाने की यूएसपी है। इसके अलावा कहूंगी कि यह महज संयोग ही है कि इस तरह के रोल और प्रोजेक्ट मेरे पास आ रहे हैं।

अपने दस साल की करियर जर्नी को किस रूप में देखती हैं?
दस साल की जर्नी को बहुत बेस्ट जर्नी पाती हूं। मैंने बहुत कुछ सीखा। बहुत ज्यादा प्यार और फेम मिला। मैं इसके लिए अपने फैंस को जितना थैंक यू बोलूं, उतना कम है। उतार-छडाव के बिना चाहे पर्दे की कहानी हो या जीवन की, वह बोर हो जाती है। उतार-चढ़ाव ही है, जो जिंदगी को इंटरेस्टिंग बनाकर रखती है। मैं हर दिन को एक सीख की तरह लेती हूं। दिन जैसा भी हो, वह कुछ सिखाकर जाता है। हर दिन ग्रो करना चाहिए, हर दिन कुछ नया सीखना चाहिए और मैं यही करती हूं।

टेलीविजन के स्टार्स घर-घर लोकप्रिय होते हैं। लेकिन फिल्मों में अपनी उतनी पहचान नहीं बना पाते हैं? क्या वजह मानती हैं?
देखिए, हर चीज की कोई वजह होना जरूरी नहीं है। जैसे- टीवी पर हर शो नहीं चलता, हर फिल्म और हर गाना नहीं चलता। इसकी कोई वजह नहीं होती है। मेरे हिसाब से हर एक्टर अपना हंड्रेड पर्सेंट देता है। हर एक्टर मेहनत करता है, ईमानदारी से काम करता है। किसी चीज का सक्सेसफुल होना या न होना, यह किसी के हाथ में नहीं होता है। हमारे हाथ में सिर्फ इतना ही है कि अपना काम ईमानदारी से करें। ऐसा बिल्कुल नहीं है कि टेलीविजन के स्टार्स फिल्मी पर्दे पर नहीं चल पाए। ऐसे बहुत सारे फिल्मी लोग हैं, जो फिल्मों में नहीं चल पाए। देखेंगे, तब बहुत सारे लोग फिल्मों में ट्राई करने आते हैं, पर नहीं चल पाते हैं, जबकि उन्होंने टेलीविजन भी नहीं किया होता। मुझे लगता है कि जितने भी टीवी स्टार्स फिल्मों में आए हैं, उनका फिल्मों में सक्सेस रेट बहुत ज्यादा है।

अच्छा, कबूल है की जोया को क्या अब तक के करियर में मील का पत्थर मानती हैं?
नहीं, मैं अपने किसी भी एक कैरेक्टर या किसी एक शो को अपना फेवरेट नहीं कह सकती। यह मेरा पहला शो इतना हिट था। लेकिन नागिन हो या सखियां इंपोर्टेंट पार्ट है। मैं अपने हर काम को पूरी मेहनत के साथ करती हूं। मेरे लिए मेरा हर कैरेक्टर मील का पत्थर है। मैं हर कैरेक्टर, हर चीज जो भी करती हूं, वह मेरे दिल के बेहद करीब होती है।

खबरें और भी हैं...