टॉप फैशन डिजाइनर की संदिग्ध मौत:अपार्टमेंट के बाथरूम में मिली प्रत्यूषा गरिमेला की लाश, बेडरूम से कार्बन मोनोऑक्साइड का सिलेंडर मिला था

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

टॉलीवुड की टॉप फैशन डिजाइनर प्रत्यूषा गरिमेला का निधन हो गया। उनका शव तेलंगाना के बंजारा हिल्स में उनके घर पर मिला। पुलिस ने बताया- 35 साल की प्रत्यूषा गरिमेला के बेडरूम से कार्बन मोनोऑक्साइड सिलेंडर बरामद हुआ है। पुलिस ने इसे संदिग्ध मौत मानते हुए मामला दर्ज कर लिया है।

पोस्टमार्टम के लिए उस्मानिया हॉस्पिटल भेजा गया शव
रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रत्यूषा ने मौत से पहले कार्बन मोनोऑक्साइड को सूंघा था। बताया जा रहा है कि प्रत्यूषा डिप्रेशन से जूझ रही थीं। इस मामले में पुलिस की जांच जारी है और शव को पोस्टमार्टम के लिए उस्मानिया हॉस्पिटल भेज दिया गया है।

पुलिस को इस घटना की जानकारी प्रत्यूषा के सिक्यूरिटी गार्ड ने दी थी। सिक्यूरिटी गार्ड को जब प्रत्यूषा की ओर से कोई जवाब नहीं मिला तो उसने तुरंत इस बात की सूचना पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और घर का दरवाजा तोड़कर अंदर दाखिल हुई तो उन्हें प्रत्यूषा का शव संदिग्ध अवस्था में मिला। फिर पुलिस ने तुरंत इस बात की सूचना फैशन डिजाइनर के परिवार वालों और उनके दोस्तों को दी।

प्रत्यूषा ने अमेरिका से फैशन डिजाइनिंग की पढ़ाई की थी।
प्रत्यूषा ने अमेरिका से फैशन डिजाइनिंग की पढ़ाई की थी।

प्रत्यूषा का नोट- मैं बहुत अकेला महसूस कर रही हूं और डिप्रेशन में हूं
बंजारा पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर नागेश्वर राव ने बताया कि प्रत्यूषा के कमरे से एक नोट भी बरामद हुआ है। इस नोट में उन्होंने किसी पर भी इल्जाम नहीं लगाया है। नोट में डिजाइनर ने लिखा, मैं बहुत अकेला महसूस कर रही हूं और डिप्रेशन में हूं।" माना जा रहा है कि उन्होंने आत्महत्या की है। हालांकि, अब तक कुछ भी कंफर्म नहीं हुआ है और पुलिस मामले की जांच करने में जुटी हुई है।

कार्बन मोनोऑक्साइड के संपर्क में आने से कैसे होती है मौत
एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कार्बन मोनो-ऑक्साइड शरीर को ऑक्सीजन पहुंचाने वाले रेड ब्लड सेल्स पर असर डालती है। इस गैस के संपर्क में आने के बाद मितली और चक्कर आने लगता है। कार्बन मोनोऑक्साइड सूंघने से हीमोग्लोबिन मॉलिक्यूल ब्लॉक हो जाते हैं और शरीर का पूरा ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट सिस्टम प्रभावित हो जाता है।

दरअसल, हम जब सांस के जरिए ऑक्सीजन लेते हैं, तो वह हीमोग्लोबिन में घुलमिल जाती है। हीमोग्लोबिन की मदद से ही ऑक्सीजन फेफड़ों से होकर शरीर के अन्य हिस्सों तक पहुंचती है। मगर जब हीमोग्लोबीन कार्बन मोनो-ऑक्साइड के संपर्क में आता है तो वह घुलता नहीं है। वह हीमोग्लोबिन मॉलिक्यूल को ब्लॉक कर देता है। ऑक्सीजन नहीं मिलने के कारण शरीर के सेल्स मरने लगते हैं और लोगों की मौत हो जाती है।

प्रत्यूषा ने 2013 में अपने नाम से एक लेबल शुरू किया था
बता दें कि प्रत्यूषा ने अमेरिका से फैशन डिजाइनिंग की पढ़ाई की थी। इसके बाद प्रत्यूषा ने हैदराबाद में बतौर फैशन डिजाइनर अपने करियर की शुरुआत की थी। प्रत्यूषा ने 2013 में अपने नाम से एक लेबल भी शुरू किया था। इसके बाद प्रत्यूषा काफी पॉपुलर फैशन डिजाइनर बन गईं थीं। उन्होंने टॉलीवुड और कुछ बड़े बॉलीवुड सेलिब्रिटिज के लिए भी काम किया था। इसमें माधुरी दीक्षित, रवीना टंडन, काजोल, परिणीति चोपड़ा, हुमा कुरैशी, श्रिया सरन, काजल अग्रवाल, जूही चावला, गौहर खान, नेहा धूपिया, भूमि पेडनेकर समेत कई पॉपुलर सेलेब्स के नाम शामिल हैं।