कोरोना काल की आइडल वर्किंग:15 क्रू मेंबर्स के साथ गोवा में शूटिंग कर रहे विद्युत जामवाल, पिछले 3 महीने के दौरान कोई इनफेक्‍ट नहीं हुआ

6 महीने पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक

देशभर में कोरोना खतरनाक लेवल पर पहुंच गया है। खास तौर पर महाराष्ट्र में। जिसके चलते मुंबई में शूट करना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में मेकर्स गोवा का रुख कर रहे हैं। ‘एक विलेन 2’ के अलावा वहां ‘सनक’ भी शूट हो रही है। इस बीच शूटिंग स्पॉट पर कोरोना काल की आइडल वर्किंग स्ट्रेटेजी सामने आई है। दरसअल इस टीम ने स्‍टार्स के कार और बाइक तक को सैनिटाइज किया। सेट पर 8 लोगों की टीम सैनिटाइजेशन के लिए तैनात की गई और हर मेम्बर को सैनिटाइजेशन टनल में 15 से 20 मिनट में जाना होता था।

सेट पर मौजूद सूत्रों ने बताया- फिल्म निर्माता और प्रोडक्शन हाउस अपने सभी प्रोजेक्ट्स के कलाकारों और क्रू की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए अतिरिक्त सतर्क हो गए हैं। निर्माता विपुल अमृतलाल शाह ने 'सनक' का शूटिंग शेड्यूल शुरू कर दिया है। उन्होंने फिल्म के सेट पर दिशा-निर्देशों को लेकर सख्ती बरतने कहा है।

सावधानी ने बचाए रखा- डायरेक्टर कनिष्क
फिल्‍म में विद्युत जामवाल और न्यू कमर रुक्मिणी मैत्रा के अलावा नेहा धूपिया और चंदन रॉय सान्याल भी नजर आएंगे। 'सनक' के आखिरी शेड्यूल के लिए उठाए जा रहे ऐहतियाती कदम के बारे में बात करते हुए, निर्देशक कनिष्क वर्मा ने बताया- “हमारा सिर्फ गोवा शेड्यूल बचा है। कोरोना केसेस में अचानक उछाल आई है और पूरा देश इससे गुजर रहा है। ईमानदारी से कहें तो, हम शुरू से ही बहुत सख्त रहे हैं। सैनिटाइजेशन और कोविड सावधानियों को हमने कभी हल्के में नहीं लिया। तभी जनवरी से लेकर अब तक एक भी मामले सामने नहीं आए।

कनिष्‍क आगे बताते हैं- मुझे लगता है कि हम भाग्यशाली रहे हैं कि तीन महीने और बैक-टू-बैक शूटिंग के बावजूद एक भी मामला नहीं हुआ। वह इसलिए कि हम सभी सुरक्षा उपायों और जिम्मेदारी के साथ शूट कर रहे थे। हमने यह सुनिश्चित किया कि सेट पर मौजूद हर व्यक्ति सोशल डिस्टेंसिंग प्रोटोकॉल बनाए रखे। सेट पर सिर्फ उतने लोग मौजूद थे, जिनकी सेट पर जरूरत थी। किसी भी पॉइंट में शूटिंग फ्लोर पर 10-15 से अधिक लोग नहीं थे। सभी को अलग-अलग कमरों और कोनों में भेजा गया और जरूरत पड़ने पर बुलाया जाता था।

हालांकि इस प्रोसेस ने हर बार शूटिंग शेड्यूल को प्रभावित किया लेकिन हर कोई बहुत जिम्मेदार था और सभी ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई। तभी हमने बिना किसी इंजरी या कोविड के मामलों के तीन महीनों में शूट पूरा करने में कामयाबी हासिल की थी। यही नहीं, सेट पर आने वाले कलाकारों और क्रू सदस्यों की कारों और बाइक को सैनिटाइज किया जाता था।

मेम्बर्स को लाल-हरे बैंड्स पहनाए गए
निर्माता विपुल शाह कहते हैं- हमारे पास सेट पर काम करने वाली 8 लोगों की एक विशेष सैनिटाइजेशन टीम थी। जिनका प्राथमिक काम यह सुनिश्चित करना था कि पूरे शूटिंग स्पॉट और सेट को अच्छी तरह से साफ किया गया जाए, हर कोई हर 15-20 मिनट में सैनिटाइजेशन टनल से गुजरता था, अपने हाथों को साफ करने के लिए सैनिटाइजर दिया गया था। तापमान नियमित रूप से जांचा गया था, सरप्राइज चेक्स भी किये गए थे।

हमने अलग-अलग रंग के बैंड भी बनाए थे, जैसे कि हरे बैंड उन लोगों को दिए गए थे जो शूटिंग क्षेत्र तक पहुंच सकते हैं और लाल बैंड उनके लिए जो वहां नहीं आ सकते थे। कुछ अतिरिक्त यूनिट बेस भी बनाए गए थे और उन्हें सैनिटाइज किया गया था, इसलिए लोग छोटी यूनिट्स में अलग हो सके और हमने ऐसे काम किया था।