Interview / बचपन प्ले स्कूल के सीओओ तिजय गुप्ता से जानिए सफलता के गुर

Learn success stories from Tijay Gupta, COO of Bachpan Play School
Learn success stories from Tijay Gupta, COO of Bachpan Play School
X
Learn success stories from Tijay Gupta, COO of Bachpan Play School
Learn success stories from Tijay Gupta, COO of Bachpan Play School

दैनिक भास्कर

Aug 24, 2019, 10:47 AM IST

दैनिक भास्कर ने ‘संकल्प से सफलता’ नाम से नई सीरीज शुरू की है। इसमें इंडस्ट्री की जानी-मानी हस्तियां और युवा उद्यमी शिखर तक पहुंचने की कहानी बताएंगे और साथ में देंगे सफलता के नुस्खे। इस अंक में हमने बात की है बचपन प्ले स्कूल के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर तिजय गुप्ता से।  

बचपन कैसे खुद को बड़ा कर रहा है और अगले दो साल में बचपन का टर्नओवर क्या होगा?
तिजय गुप्ता- बचपन प्ले स्कूल साल 2004 से प्ले स्कूल एजुकेशन के क्षेत्र में सारे टेक्नोलॉजी को साथ लिए निरंतर आगे बढ़ रहा है। साल 2005-06 में बचपन ने देश भर में 100 ब्रांच शुरू की जिसके बाद बढ़ते-बढ़ते 15 साल में यह नंबर 1200 तक पहुंच चुका है। बचपन के बाद फॉर्मल स्कूल की तरफ बढ़ते हुए 2009 में अकादमिक हाइट्स् पब्लिक स्कूल की स्थापना की गई। आज देशभर में एएचपीएस के 110 से ज्यादा स्कूल हैं। बचपन के लिए एजुकेशन एक सफर है जो पूर्ण होना जरूरी है। इसी सोच के साथ बचपन वर्ष 2020 में Rishihood University की स्थापना भी करने जा रहा है। बिजनेस को शुरू करना आसान है लेकिन उसको बनाए रखना और बढ़ाना उतना ही चुनौतीपूर्ण। बचपन आज 60 करोड़ के टर्नओवर पर पहुंच गया है। 2020 तक कंपनी का लक्ष्य 1500 स्कूल का है तथा टर्नओवर की बात करें तो 100 करोड़ का आंकड़ा छुआ जा सकता है।


 बचपन की शुरुआत कहां से हुई, स्कूल के कारोबार को ही क्यों चुना?
तिजय गुप्ता- बचपन के सफर की खुशनुमा शुरुआत साल 2004 में हुई। श्री अजय गुप्ता जो की बचपन के सी.ई.ओ के पद पर कार्यरत हैं, एक मिडिल  क्लास बिजनेस फैमिली से हैं और हमेशा से ही एजुकेशन के फील्ड में कुछ कर जाने का उनका सपना रहा है। जब वह कक्षा 9 में थे तो उन्होंने जाना की एजुकेशन सिस्टम में कुछ चीजें हैं जहां प्रगति और उन्नति की सख्त जरूरत है। बस एक यही सोच के लिए वह प्ले स्कूल सेगमेंट में इनोवेशन करने के लक्ष्य को लेकर आगे बढ़े। 
 

आपके स्कूल में क्या खास बातें हैं जो दूसरों से आपको अलग करती है? 
तिजय गुप्ता- बचपन नर्सरी स्कूलिंग और प्ले वे पूरे भारत में प्रसिद्ध है। बचपन इनोवेटिव सॉल्यूशन में पूरी तरह विश्वास करता है और टेक्निकल पार्टनर के रूप में प्रिसमार्ट बचपन से जुड़ा हुआ है और तकनीकी उपकरणों का अध्ययन और उद्घाटन कर चुका है जैसे प्री-टैब, स्पीक-ओ-पैन, रोबो-टाइम और बहुत कुछ। बचपन टेक्नोलॉजी ड्रिवेन लर्निंग पर फोकस करने वाला पहला स्कूल है और देशभर में आज इसे इंडिया का फेवरेट स्कूल माना जाता है। बचपन फ्रेंचाइजी की एक विख्यात चेन है जो कि फ्लैक्सिबल बिजनस मॉडल के लिए जानी जाती है। बचपन अपने फ्रेंचाइजी पार्टनर को भरपूर सहयोग देता है। 
 

बचपन क्या बच्चों के साथ उनके पेरेंट्स को भी शिक्षित कर रहा है, क्या है स्कीम?
तिजय गुप्ता- पेरेंटिंग एक ऐसा विषय है जिसके बारे में स्कूल सबसे बेहतर जानता है। बचपन पेरेंट्स को जागरूक बनाने का कोई मौका नहीं छोड़ता। बचपन की ओर से पैरेंट ओरिएंटेशन प्रोग्राम का संचालन करता है। बचपन की वेबसाइट पर पेरेंटिंग पर ब्लॉग्स प्रकाशित करता है जो पेरेंट्स द्वारा पढ़े और पसंद किए जाते हैं। बचपन टीचर्स के लिए भी ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाता है। जिससे टीचर्स को पीटीएम पेरंट्स को काउंसिल करने में सहायता मिलती है।
 

स्कूल के अलावा आप अन्य किस क्षेत्र में सक्रिय हैं?
तिजय गुप्ता- प्ले स्कूल के अलावा Rishihood University की स्थापना की तैयार में हैं और इसी साल उद्घाटन की घोषणा की जाएगी। हेल्थ सेक्टर में मस्ट एंड मोरे नाम की पैथोलॉजी और डायग्नोस्टिक लैब है, जो नार्थ दिल्ली का सबसे बड़ा मेडिकल टेस्ट सेंटर है। यह सेंटर आधुनिक उपकरणों से लैस है।
 

अभी कितने शहरों में बचपन की ब्रांच हैं और इस वित्त वर्ष में कितने ब्रांच खोलने की योजना है?
तिजय गुप्ता- बचपन की देशभर में 1200 से अधिक ब्रांच हैं। देश के बाहर नेपाल और  बांग्लादेश में 400 से अधिक शहरों में ब्रांच होने के कारण बचपन बच्चों और पेरेंट्स् के लिए एक्सेसेबल है। अगले एक साल में यानी 2020 तक बचपन को उम्मीद है कि वह देशभर में 1500 से ज्यादा ब्रांच स्थापित कर लेगा। हम आशा करते हैं कि पूरे देश के बच्चों को लगातार शिक्षित करेंगे तथा उनका भविष्य उज्ज्वल बनाएंगे। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना