बातचीत:लताजी मेरी बुआ हैं, बचपन में उनके साथ गाने भी गा चुकी हूं- पद्मिनी कोल्हापुरे

2 महीने पहलेलेखक: उमेश कुमार उपाध्याय
  • कॉपी लिंक

पद्मिनी कोल्हापुरे अब अपने सिंगिंग करियर पर भी बहुत ध्यान दे रहीं हैं। पिछले दिनों 'हम हिंदुस्तानी...' गाना लेकर आईं, जिसके लिए 15 सिंगर्स-एक्टर्स ने अपनी आवाज दी है। उन्होंने 15 हस्तियों को ऑन बोर्ड लाने के साथ अपनी बुआ लता मंगेशकर के बारे में काफी कुछ बताया, पढ़िए पद्मिनी जी से खास बातचीत:

पिछले दिनों हम हिंदुस्तानी... गाना लेकर आईं। इसके लिए लता मंगेशकर, अमिताभ बच्चन, सोनू निगम, सोनाक्षी सिन्हा सहित 15 आर्टिस्ट ने आवाज दी। कैसे सभी एक साथ ऑन बोर्ड आए?
मेरे बेटे प्रियांक शर्मा के पास जब यह गाना आया, तब इसमें उन्हें बहुत मेलोडी और दिल को छू लेने वाली लाइनें लगीं, जबकि इसके लेखक और कंपोजर नए हैं। लेकिन प्रियांक ने उसी समय तय किया कि यह गाना जरूर करूंगा। प्रियांक और उनके पार्टनर पारस ने सोचा कि यह गाना सबके लिए है, तब क्यों न इसके लिए सबका सपोर्ट लें।

लता मंगेशकर जी से संपर्क किया, तब वे अपनी आवाज देने के लिए मान गईं। फिर सोचा लताजी जैसी महान गायक आवाज दे रही हैं, तब क्यों न अमिताभ बच्चन जी से बात करें। प्रियांक ने अमित जी से बात की। वह मान गए, क्योंकि उनको भी इस गाने ने उनको छुआ होगा। फिर तो धीरे-धीरे कारवां बनता गया और सभी जुड़ते चले गए।

लताजी आपकी सगी बुआ लगती हैं न! उनके साथ पार्टी-फंक्शन की कोई याद बताइए?
मेरी सगी बुआ तो नहीं हैं। लताजी मेरे पिताजी के सगे मामा की बेटी हैं। इस तरह मेरी कजिन बुआ हैं। पार्टी-फंक्शन में क्या, हम तो उनसे घर पर मिलते हैं। बचपन से लेकर अब तक उनके संपर्क में हूं, सो उनके साथ की बहुत सारी यादें हैं। बचपन में लताजी के साथ गाने भी गाई हूं।

पैंडनेमिक के टाइम में इतने लोगों से कैसे गवाया और अब प्रतिक्रियाएं कैसी मिल रही हैं?
इसके लिए सिंगर शब्बीर कुमार के बेटे दिलशाद शेख को हमने ऑन बोर्ड लिया। दरअसल, उन्हें ए.आर. रहमान के असिस्टेंट या राइट हैंड कह लीजिए। वह श्रद्धा कपूर, सोनाक्षी सिन्हा, अल्का याज्ञनिक आदि एक-एक के घर माइक लेकर गए।

सबकी आवाज रिकॉर्ड करके मिक्सिंग करके ट्रैक बनाने में उनका बहुत बड़ा हाथ है। अब आधुनिक टेक्नोलॉजी आने से सहूलियत हो गई है। पहले तो हम रिकॉर्डिंग स्टूडियो जाते थे।

अभी तकनीक इतनी एडवांस हो गई है कि सभी घर बैठे काम कर रहे हैं। इसकी वजह से अब सब कुछ बहुत आसान हो गया है। रही बात प्रतिक्रिया की तो लोग कह रहे हैं कि वे इसे बार-बार सुन रहे हैं। कोई कह रहा है कि इसे सुनकर रोंगटे खड़े हो गए... आंख भर आई... आंसू नहीं रुक रहे।

हमारा मकसद व्यूअरशिप लाने का नहीं, बस इतना था कि लोग गाने को पसंद करें। शायद यही वजह है कि आज लोग इसके लिरिक्स के बारे में पूछ रहे हैं। इस गाने में कोई ड्रामेबाजी नहीं है, यह एकदम सीधा-सरल है।

अपने लेवल 'धमाका रिकॉर्ड' के तहत आगे किस तरह के गाने लेकर आएंगी?
जाहिर-सी बात है कि 'धमाका रिकॉर्ड' एक लेवल है। इसके तहत फास्ट, स्लो, रोमांटिक, डिस्को टाइप, क्लब म्यूजिक, शादी, फेस्टिवल बॉलीवुड... हर किस्म के गाने आएंगे। हमारा मकसद है कि इसके तहत नए म्यूजिशियन, सिंगर, लिरिक्स को मौका देंगे।

आपकी एक्टिंग पहलू की अपेक्षा सिंगिंग पहलू लोगों के सामने उतना नहीं आया। सिंगिंग पहलू को सीरियली क्यों नहीं लिया?
देखिए, उस वक्त जब अभिनय की तरफ रुख किया, तब वक्त ही नहीं मिला। अगर आपको गायक बनना है, तब रियाज के लिए भरपूर समय चाहिए, क्योंकि रियाज के लिए घंटों देने पड़ते हैं।

मेहनत बहुत करनी पड़ती है। इसके लिए उस समय में मेरे पास वक्त नहीं था। अभी सिंगिंग पर ध्यान दे रही हूं और इसके साथ-साथ एक्टिंग भी चल रही है।

पहली बार वेब सीरीज भी कर रहीं हैं? क्या फिल्मों की अपेक्षा इसमें कुछ अंतर भी पाया?
हां, फैमिली जॉनर की एक वेब सीरीज की शूटिंग हाल ही में खत्म की है। यह सितंबर-अक्टूबर में रिलीज होगी। अभी उसके बारे में ज्यादा रिवील नहीं कर सकती, क्योंकि जब उसका प्रोमोशन शुरू होगा, तब लोगों को पता चलेगा। उसमें मेरा एक अलग ही तरह का किरदार है।

आजकल जिस तरह से ओटीटी प्लेटफॉर्म पर वेब सीरीज और फिल्में बन रही हैं, उसमें काम करके मेरे लिए एक अलग तरह का एक्सप्रीरियंस रहा। रही बात एक्टिंग की, कहीं पर करो... एक्टिंग तो एक्टिंग और गाना तो गाना ही रहेगा। हां, इसके ड्यूरेशन के हिसाब के काम करना पड़ता है।

ओटीटी प्लेटफॉर्म के बढ़ते कद को किस तरह से देखती हैं?
बहुत बढ़ रहा है। आदमी घर में बैठकर क्या करे। फिल्म लवर थिएटर में जाकर फर्स्ट डे फर्स्ट शो देखते थे। ऑफकोर्स, उनके लिए यह एक आउटिंग है, पर फिल्में तो देखते ही हैं। लोगअभी ओटीटी पर वेब सीरीज और फिल्में देख रहे हैं। यह बहुत बड़ा हुआ है। आज के दौर में इसका खूब डिमांड है।

खबरें और भी हैं...