• Hindi News
  • Entertainment
  • Tv
  • Amitabh Bachchan Again Asked The Wrong Question To The Contestants In KBC 13, A Big Mistake Happened For The Second Time Within A Month

बिग बी की बिग मिस्टेक:अमिताभ बच्चन ने KBC-13 में कंटेस्टेंट से फिर पूछा गलत सवाल, एक महीने के अंदर दूसरी बार हुई बड़ी गलती

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमिताभ बच्चन का क्विज शो 'कौन बनेगा करोड़पति-13' एक बार फिर विवादों में है। शो के होस्ट ने एक महीने में दोबारा गलत सवाल पूछा है। शो में महाराजा गुलाब सिंह को लेकर एक प्रश्न पूछा था। इसी वजह से इस केबीसी और अमिताभ बच्चन को सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा है। इससे पहले भी एक दर्शक ने केबीसी और इसके प्रोड्यूसर सिद्धार्थ बासु को गलत सवाल को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। वहीं एक महीने के अंदर यह दूसरी बार है जहां शो में कंटेस्टेंट से फिर गलत सवाल पूछे जाने का अरोप लग रहा है।

दरबार प्रथा पर पूछा गया था प्रश्न
'कौन बनेगा करोड़पति-13' के एक एपिसोड में बिग बी ने कंटेस्टेंट से महाराजा गुलाब सिंह को लेकर एक प्रश्न पूछा था। जिसको लेकर सोशल मीडिया में दावा किया जा रहा है कि वह प्रश्न गलत है। कंटेस्टेंट से पूछा कि - 'भारत के किस राज्य या केंद्र शासित प्रदेश ने हाल ही में दरबार प्रथा को खत्म करने का फैसला किया है, जिसकी शुरुआत साल 1872 में महाराजा गुलाब सिंह ने की थी?'
इसी प्रश्न को लेकर यूजर ने पोस्ट कर लिखा- गलत प्रश्न, दरबार प्रथा डोगरा के महाराजा रनबीर सिंह ने1872 शुरु की थी, गुलाब सिंह का 1857 में स्वर्गवास हो गया था। उन्होंने अमिताभ बच्चन को टैग किया है। फिलहाल शो के मेकर्स और बिग बी किसी की तरफ से अभी तक कोई रिएक्शन सामने नहीं आया है।

पिछले महीने भी लग चुका है आरोप
पिछले महीने सोशल मीडिया पर आशीष चतुर्वेदी नाम के यूजर ने कंटेस्टेंट दिप्ती तुपे से पूछे गए प्रश्न को गलत बताया था। कंटेस्टेंट 'दीप्ति तुपे' से केबीसी 13 के होस्ट अमिताभ बच्चन ने प्रश्न पूछा, "आम तौर पर भारतीय संसद की हर बैठक इनमें से किसके साथ शुरू होती है?" दिखाया गया। इस सवाल के चार विकल्प ये थे। 1.जीरो आवर, 2.क्वेश्चन आवर, 3. लेजिस्लेटिव बिजनेस, 4. प्रिविलेज मोशन। सही उत्तर 'प्रश्नकाल' बताया गया था।
शो के प्रोड्यूसर सिद्धार्थ ने यूजर को जवाब देते हुए लिखा कि, "कोई गलती नहीं है। कृपया अपने लिए लोकसभा और राज्य सभा के सदस्यों की हैंडबुक देखें। दोनों सदनों में, जब तक अध्यक्ष/अध्यक्षा द्वारा निर्देशित नहीं किया जाता है, पारंपरिक रूप से बैठकें प्रश्नकाल से शुरू होती हैं, उसके बाद शून्यकाल होता है।

खबरें और भी हैं...