पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Entertainment
  • Tv
  • In The Show, Hockey Player PR Sreejesh Disclosed The Efforts Made To Win The Medal, Said– We Were Waiting For This Medal For 41 Years

कौन बनेगा करोड़पति:शो में हॉकी प्लेयर पीआर श्रीजेश ने मेडल जीतने में लगी कोशिशों का किया खुलासा, बोले- हम इस मेडल के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे

14 दिन पहलेलेखक: किरण जैन
  • कॉपी लिंक

हाल ही में शो 'कौन बनेगा करोड़पति' में ओलंपियन नीरज चोपड़ा और पीआर श्रीजेश ने बतौर गेस्ट शूट किया। शो में दोनों एथलीट मिस्टर अमिताभ बच्चन के साथ हॉट सीट पर लगन, कड़ी मेहनत और संघर्ष की अपनी कहानियां बताते नजर आएंगे। श्री बच्चन के साथ चर्चा करते हुए पीआर श्रीजेश ने 41 साल बाद हॉकी में मेडल जीतने के बारे में भी बताया और कहा।

श्रीजेश ने बताई अपने मेडल के पीछे की कहानी

श्रीजेश ने बताया, "हम इस मेडल के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे। निजी तौर पर मैं 21 साल से हॉकी खेल रहा हूं। मैंने 2000 में हॉकी खेलना शुरू किया था और तब से मैं यह सुनकर बड़ा हुआ हूं कि कैसे हमारे बड़े-बुजुर्गों ने, दादा-दादी ने हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल किया था। हॉकी में हमारे 8 गोल्ड मेडल थे। इसलिए, हमने इस खेल के पीछे के इतिहास के चलते इसे खेलना शुरू किया। इसके बाद क्या हुआ कि एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेली गई। ऐसे में खेल बदल दिया गया और हमारा पतन शुरू हो गया।"

श्रीजेश ने एस्ट्रो टर्फ के बारे में की बात

एस्ट्रो टर्फ के बारे में चर्चा करते हुए अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ पर खेलते समय कठिनाई के स्तर को समझने की कोशिश की। इसे समझाते हुए श्रीजेश ने कहा, ''हां, बहुत मुश्किलें होती हैं सर। क्योंकि एस्ट्रो टर्फ एक कृत्रिम घास है, जहां हम पानी डालते हैं और खेलते हैं। प्राकृतिक घास पर खेलना और इसमें किए जाने वाले प्रयास और गेम की शैली, एस्ट्रो टर्फ पर खेलने से बिल्कुल अलग है। इससे पहले, सभी खिलाड़ी सिर्फ घास के मैदान पर खेलते थे, उस पर प्रशिक्षण लेते थे। यहां तक कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी घास के मैदान पर ही खेलते थे। आजकल क्या हो गया है कि बच्चे घास के मैदान पर खेलना शुरू करते हैं और बाद में उन्हें एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेलनी पड़ती है, जिसमें काफी समय लगता है। एस्ट्रो टर्फ पर खेलने के लिए एक अलग तरह का प्रशिक्षण होता है...इसमें इस्तेमाल की जाने वाली हॉकी स्टिक भी अलग होती है।"

दोनों के द्वारा जीती हुई राशि दान में दी जाएगी

दोनों एथलीट उन कारणों के लिए खेलेंगे, जिनका वे समर्थन करते हैं। गेम शो में जीती हुई रकम पीआर श्रीजेश द्वारा केरल सरकार के अभियान- विद्याकिरणम को और नीरज चोपड़ा द्वारा इंस्पायर इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स ऑफ बेल्लारी, कर्नाटक को दान की जाएगी।