बड़े अच्छे लगते हैं 2:टीवी सीरियल पर डेब्यू करने पर बोलीं स्नेहा नमानंदी- मैं टेलीविजन और फिल्म्स में फर्क नहीं करती हूं

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक्ट्रेस स्नेहा नामानंदी, जो 'बड़े अच्छे लगते हैं 2' के साथ अपने डेली सोप की शुरुआत करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं, शो का हिस्सा बनने को लेकर वो काफी एक्साइटेड हैं। एक इंटरव्यू में बात करते हुए वो कहती हैं, "मैंने शिविना के रोल के लिए ऑडिशन दिया और मुझे फोन आया कि मुझे सिर्फ दो दिनों के भीतर फाइनल कर लिया गया है। मैंने अतीत में एपिसोडिक शो किए हैं, लेकिन यह मेरा पहला डेली सोप है और मैं इसका हिस्सा बनकर बहुत खुश हूं।"

स्नेहा ने बताया मीडियम को चेंज करने के पीछे का कारण

स्नेहा नामानंदी जो कई फिल्मों में नजर आ चुकीं हैं अब टेलीविजन पर फोकस करना चाहती हैं। क्या मीडियम को चेंज करने के पीछे कोई कारण था? इस बारे में वो कहती हैं, "मैं हमेशा अलग-अलग माध्यमों में काम करने के लिए तैयार थी। मैंने साउथ में फिल्में की हैं और कुछ वेब शो भी किए हैं, लेकिन मैंने अब तक टीवी के लिए ज्यादा मेहनत नहीं की है। जब यह अपॉर्चुनिटी अनएक्सपेक्टेड रूप से मेरे पास आयी, तो मैं इसमें शामिल होने पर अधिक खुश थी। मुझे शूटिंग से ठीक दो दिन पहले कास्ट किया गया था।"

स्नेहा ने बताया अपने आगे की प्लानिंग के बारे में

स्नेहा जो, पहले टीवी पर 'गुमराह' और 'हल्ला बोल' जैसे शो कर चुकीं हैं, अब डेली सोप में काम करने पर उनकी क्या प्लानिंग है? इसके जवाब में वो कहती हैं, "वे एपिसोडिक भूमिकाएं थीं और मुझे सिर्फ एक या दो एपिसोड के लिए बुलाया गया था, इसलिए मुझे डेली सोप में काम करने में समय लगा, जो एक पूरी तरह से अलग बॉल गेम है। जब मैंने 'बड़े अच्छे लगते हैं' की शूटिंग शुरू की, तो मैं अपने डाइट और जिम को शेड्यूल के अनुसार एडजस्ट नहीं कर पा रही थी। हर दिन शूट का समय अलग था, लेकिन अब जब एक महीना हो गया है, तो मैं चीजों को समझने में सक्षम हूं। अब, मैं अपने शेड्यूल को बेहतर तरीके से मैनेज कर रही हूं और समझ रही हूं कि टेलीविजन कैसे काम करता है।"

बहुत लोगों ने दी थी स्नेहा को टीवी ना करने की सलाह

स्नेहा आगे कहती हैं, "ऐसे लोग थे जिन्होंने मुझे टीवी ना करने की सलाह दी थी क्योंकि बाद में मुझे फिल्में नहीं मिलेंगी। कुछ ने तो यहां तक ​​कह दिया, 'तुम फिल्मों और बड़े पर्दे के लिए बनी हो'। लोग बहुत कुछ कहते हैं, मुझे बहुत सारे अनावश्यक सुझाव मिलते हैं। लेकिन आज हर एक्टर अलग-अलग मीडियम्स में काम कर रहा है और हाल के वर्षों में टेलीविजन पर कंटेंट काफी बदल गया है। मैं टेलीविजन और फिल्म्स में फर्क नहीं करती हूं। मुझे लगता है कि एक एक्टर एक्टिंग करने के लिए होता है, चाहे जो कोई भी मीडियम हो।"

खबरें और भी हैं...