पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Entertainment
  • Tv
  • When Pooja Banerjee Had To Put The Rod In The Hands Of An Accident On The Set Of A Reality Show, Said I Thought I Will Never Be Normal

फ्लैशबैक:जब रियलिटी शो के सेट पर हुए हादसे के बाद पूजा बनर्जी के हाथों में डालनी पड़ी थीं रॉड, बोलीं- मुझे लगता था कि मैं कभी नॉर्मल नहीं हो पाऊंगी

4 महीने पहलेलेखक: किरण जैन
  • कॉपी लिंक

जहां इस समय कोविड-19 महामारी का प्रकोप जारी है, वहीं सभी कलाकार फिट रहने और सोशल मीडिया के जरिए पॉजिटिविटी फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। कुछ साल पहले पूजा बनर्जी का 'नच बलिये' की शूटिंग के दौरान बहुत बड़ा एक्सीडेंट हो गया था, जिससे उनके हाथों में अलग-अलग जगह फ्रैक्चर हो गए थे और उनकी सर्जरी करनी पड़ी थी। उस समय जब उन्होंने ठीक होने की उम्मीद लगभग खो दी थी, तब उनकी कोशिश और इच्छाशक्ति काम आई और उनके हाथों में हलचल लौट आई।

पूजा के हाथों में दो रॉड और 8 स्क्रू लगाए गए थे

पूजा उस समय को याद करते हुए बताती हैं, "एक रियलिटी शो के सेट पर मेरा एक्सीडेंट हो गया था, जिसकी वजह से मेरे हाथों में मल्टीपल फ्रैक्चर्स आ गए थे। इसके लिए मुझे सर्जरी करानी पड़ी और मेरे हाथों में दो रॉड और 8 स्क्रू लगाए गए थे। तब मुझे बहुत दर्द होता था। मुझे लगता था कि मैं कभी नॉर्मल नहीं हो पाऊंगी और अपने हाथों को ढंग से इस्तेमाल भी नहीं कर पाऊंगी। यहां तक कि जब मैंने कुछ महीने पहले 'कुमकुम भाग्य' की शूटिंग शुरू की थी, तो मेरे हाथों में स्वाभाविक मूवमेंट्स नहीं थे। उस वक्त मैं ठीक हो रही थी और मेरे हाथों में कुछ ताकत आ गई थी, लेकिन फिर भी शूटिंग के दौरान मेरे लिए चीजों को उठाना और पकड़ना थोड़ा मुश्किल था। हालांकि अपनी कड़ी मेहनत, इच्छाशक्ति और स्वास्थ्य लाभ के साथ मेरे सीधे हाथ की 85 प्रतिशत मूवमेंट और उल्टे हाथ की 100 प्रतिशत मूवमेंट लौट आई है। मैं अपने फैमिली मेंबर्स, फ्रेंड्स और अपने डॉक्टर्स को धन्यवाद देना चाहूंगी, जिन्होंने मुझे इतनी बड़ी दुर्घटना से ठीक होने में मदद की। अब मैं लगभग ठीक हो चुकी हूं, लेकिन अभी कुछ और कदम चलने बाकी हैं।"

मैं अपना बेस्ट वर्शन बनना चाहती हूं: पूजा बनर्जी

पूजा जहां तेजी से ठीक हो रही हैं, वहीं उन्हें अपना फिटनेस रूटीन अपनाने की भी खुशी है, खासतौर से वो योगा प्रैक्टिस करती हैं। अपनी खुशी जाहिर करते हुए पूजा बताती हैं, "लगभग डेढ़ साल बाद मैंने वर्कआउट शुरू किया है और एक बार फिर योग शुरू करके मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। इससे मुझे बहुत शांति और ऊर्जा मिलती है। शुरुआत में, मैं सिर्फ वेट्स और थेरा बैंड्स के जरिए बेसिक फिजियोथेरेपी और हाथों की एक्सरसाइज पर ध्यान दे रही थी। अब मैं डॉल्फिन प्लैंक्स, थोड़ी वेट ट्रेनिंग, योगासन, सूर्य नमस्कार और थोड़े बहुत पुशअप्स भी कर लेती हूं। सबसे खास बात तो ये है कि मुझमें अपनी बॉडी को लेकर वो कॉन्फिडेंस आ गया है, जो मैंने एक्सीडेंट के बाद खो दिया था। यह वाकई एक मुश्किल सफर था, लेकिन मैं सबकी आभारी हूं। अब मैं अपना बेस्ट वर्शन बनना चाहती हूं। मैं जितना हो सकेगा, उतना प्रयास करती रहूंगी।"