--Advertisement--

कोई 170, तो कोई 258 वोट से बमुश्किल जीतने वाले उम्मीदवार

इसमें नोटा की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है, कांग्रेस के जीतू भाई चौधरी 170 वोट से जीते।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 03:26 PM IST

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा के चुनाव परिणाम घोषित हो चुके हैं। भाजपा 99 सीटों के साथ सरकार बनाने जा रही है। 18 दिसम्बर को घोषित परिणामों में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। इसमें भी कई सीटों पर बहुत ही रोमांचक जंग देखने को मिली। इसमें बहुत ही कम वोट के अंतर से हार और जीत हुई है। बमुश्किल जीते भूपेंद्र सिंह…

इसमें कपराडा सीट पर कांग्रेस के जीतू भाई चौधरी ने सबसे कम मतों के अंतर मात्र 170 से विजय हासिल की। शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडासमा भी धोलका सीट से बमुश्किल जीत पाए। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी अश्विन राठौर को केवल 370 वोटों से हराया। इसके अलावा दियोदर, बोटाद, डांग और गोधरा सीट पर भी बहुत ही कम मतों के अंतर से हार-जीत का फैसला हुआ है।

नोटा बना टर्निंग पाइंट

बहुत ही कम मतों के अंतर से हार-जीत के फैसले में नोटा ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। क्योंकि जहां बहुत ही कम मतो पर फैसला हुआ है, वहां नोटा वोट की संख्या अधिक है।