Hindi News »Gujarat »Ahmedabad» Raja Ranjit Singhs Lanchester Car Reached India

69 साल बाद इंडिया पहुंची राजा रणजीत सिंह की लेंचेस्टर कार, देखने लगी लोगों की होड़

जामनगर के राजा रणजीत सिंह की लेंचेस्टर कार 69 साल बाद बुधवार को जामनगर पहुंची। इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई

Bhaskar News | Last Modified - Mar 29, 2018, 08:17 AM IST

  • 69 साल बाद इंडिया पहुंची राजा रणजीत सिंह की लेंचेस्टर कार, देखने लगी लोगों की होड़
    +1और स्लाइड देखें

    जामनगर. जामनगर के राजा रणजीत सिंह की लेंचेस्टर कार 69 साल बाद बुधवार को जामनगर पहुंची। इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई। जाम रणजीत सिंहजी ने साल 1927 में ये कार बनवाई थी। पांच साल इसका प्रयोग किया। इसके बाद ये कार जामनगर आने वाले मेहमानों के लिए दे दी। कार प्रेमी मदनमोहन यादव लेंचेस्टर कार को लेकर जामनगर पहुंचे हैं। अगस्त में कैलिफोर्निया में होने वाली प्रदर्शनी में इसे प्रदर्शित करेंगे। इसके लिए जामनगर राज परिवार का आशीर्वाद लेने यहां पहुंचे हैं साल 1949 में ये कार पोलैंड के एक दंपत्ति को भेंट कर दी गई। बाद में इस कार को स्पेन बेच दिया गया। साल 2009 में नोएडा के कारोबारी और कार प्रेमी मदन मोहन यादव ने स्पेन में खरीदा और स्वदेश ले आए।

    कौन थे राजा रणजीत सिंह...

    - रणजीत सिंह विभाजी जडेजा का जन्म 10 सितंबर, 1872 नवानगर में हुआ था। जामनगर विरासत के 10वें जाम साहब और फेमस क्रिकेट खिलाड़ी रहे।

    - वह अन्य प्रसिद्ध नामों से जाने जाते थे। उन्होंने नवानगर के जाम साहब', कुमार रणजीतसिंहजी, रणजी और स्मिथ कहकर बुलाते थे।

    - वह एक बेहतरीन क्रिकेट खिलाड़ी और बल्लेबाज थे जिन्होंने भारतीय क्रिकेट के विकास में अहम रोल अदा किया। वे ब्रिटिश टीम से खेलते थे।

    - उन्होंने रणजी कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से फर्स्ट क्लास क्रिकेट को रिप्रेजेंट भी किया।
    - वह उस समय के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक थे। नेविल कार्डस ने उन्हें 'द मिडसमर नाइट्स ड्रीम ऑफ़ क्रिकेट' भी कहा था।

    क्रिकेट ट्रॉफी रणजी उनके नाम पर

    - भारत की फर्स्ट क्लास क्रिकेट ट्रॉफी रणजी उनके नाम पर है। इस चैंपियनशिप की शुरुआत जुलाई 1934 में क्रिकेट चैंपियनशिप ऑफ इंडिया के नाम से हुई थी।

    - 1934 - 35 की पहली ट्रॉफ़ी महाराज ऑफ़ पटियाला ने दान की थी जिसे मुंबई ने जीता था।

    इसके बाद से ही रणजी ट्रॉफ़ी में पांच जोन की टीमें इसमें हिस्सा लेती थी अब इन्हें दो डिविज़न में बांटा गया है एक सुपर लीग और प्लेट लीग।

    - सुपर लीग में आठ और सात ऐसी दो हिस्सों में टीमें हैं जबकि प्लेट लीग के दो हिस्सों में छह छह टीमें होती हैं।

  • 69 साल बाद इंडिया पहुंची राजा रणजीत सिंह की लेंचेस्टर कार, देखने लगी लोगों की होड़
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ahmedabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×