--Advertisement--

चाइनीज धागे से दो युवकों के गले कटे, एक को 70, दूसरे को 50 टांके आए

चाइनीज धागे पर प्रतिबंध के बाद भी कोई सख्त कार्रवाई नहीं, घोषणा केवल कागजों तक ही सीमित।

Dainik Bhaskar

Dec 27, 2017, 03:23 PM IST
कॉलेज से घर जाते हुए मितेश के गले पर 50 टांके आए। कॉलेज से घर जाते हुए मितेश के गले पर 50 टांके आए।

अहमदाबाद। मंगलवार की शाम को अंबेडकर ब्रिज से गुजर रहे दो वाहन चालकों के गले चाइनीज धागे से कट गए। एक वाहन पर मितेश प्रजापति वहां से गुजर रहे थे, तभी किसी पतंग का चाइनीज धागा उनके गले पर फंस गया। इससे मितेश कुछ समझ पाते, इसके पहले ही उसके गले से खून की धारा बह निकली, उसे तुरंत अस्पताल में दाखिल किया गया, जहां उसे 70 टांके आए। दूसरी घटना में एक अन्य युवक को 50 टांके आए। घोषणाएं केवल कागजों तक…

ओढव निवासी सुरेशभाई प्रजापति के पुत्र मितेश एनिमेशन का कोर्स करते हैं। वे कॉलेज से अपने घर जा रहे थे, तभी चाइनीज धागा उनके गले पर फंस गया, मितेश कुछ समझ पाते, इसके पहले ही उनके गले से खून की घारा फूट पड़ी। उन्हें तुरंत वीएस अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उन्हें 50 टांके आए। इसी तरह ठीक उसी समय सुरेश भावसार की बेटी रीतु एम.कॉम पार्ट 1 की परीक्षा देकर वह अपने भाई नीतेश के साथ घर आ रही थी, तब अंबेडकर ब्रिज पर अचानक उनके गले में चाइनीज धागा फंस गया। इससे रितु के गाल पर हल्की खरोच आ गई। नीतेश के 70 टांके आए। सरकार ने चाइनीज धागे पर प्रतिबंध लगा रखा है, इसके बाद भी धागे खूब बिक रहे हैं, सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।

9 हजार की दवाएं मंगाई गई मितेश के लिए। 9 हजार की दवाएं मंगाई गई मितेश के लिए।
भाई के साथ परीक्षा देकर लौटती हुई रीतु के गाल पर आई खरोंच। भाई के साथ परीक्षा देकर लौटती हुई रीतु के गाल पर आई खरोंच।
कॉल की परवाह किए बिना ही 108 के स्टाफ ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया। कॉल की परवाह किए बिना ही 108 के स्टाफ ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया।
X
कॉलेज से घर जाते हुए मितेश के गले पर 50 टांके आए।कॉलेज से घर जाते हुए मितेश के गले पर 50 टांके आए।
9 हजार की दवाएं मंगाई गई मितेश के लिए।9 हजार की दवाएं मंगाई गई मितेश के लिए।
भाई के साथ परीक्षा देकर लौटती हुई रीतु के गाल पर आई खरोंच।भाई के साथ परीक्षा देकर लौटती हुई रीतु के गाल पर आई खरोंच।
कॉल की परवाह किए बिना ही 108 के स्टाफ ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया।कॉल की परवाह किए बिना ही 108 के स्टाफ ने घायलों को अस्पताल पहुंचाया।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..