Hindi News »Gujarat »Ahmedabad» Togadia Gets Relief On 21-Year-Old Case

21 साल पुराने मामले पर तोगड़िया को मिली राहत, गैरजमानती वारंट रद्द

1996 में भाजपा कार्यकर्ताओं ने सरदार स्टेडियम में MLA आत्माराम पटेल की धोती खींची थी और जान से मारने का प्रयास किया था।

Dainikbhaslar.com | Last Modified - Jan 05, 2018, 05:32 PM IST

  • 21 साल पुराने मामले पर तोगड़िया को मिली राहत, गैरजमानती वारंट रद्द
    +3और स्लाइड देखें
    आत्माराम पटेल की धोती खींचने के 21 साल पुराने मामले में तोगड़िया एवं 39 के खिलाफ वारंट।

    अहमदाबाद। 21 साल बाद धोती कांड में वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगड़िया समेत 39 लोगों के खिलाफ मेट्रोपोलिटन कोर्ट ने गैरजमानती वारंट जारी किया था। इसके बाद आज तोगड़िया ने वारंट रद्द करने की अर्जी दाखिल की थी। दूसरी तरफ कोर्ट ने तीन लोगों का वारंट रद्द करने की अर्जी को मंजूर किया। काेर्ट ने बाबू जमना, इलेश पटेल और मुकुल जोशी की अर्जी को मान्य रखा। इसके बाद दोपहर 2 बजे तोगड़िया कोर्ट में हाजिर हुए, इससे उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट रद्द कर दिया गया। वरिष्ठ नेता आत्माराम की खींची थी धोती…

    1996 में भाजपा में हुए हजुरिया-खजूरिया कांड के बाद सरदार पटेल स्टेडियम में एक आम सीाा में भाजपा के वरिष्ठ नेता आत्माराम पटेल की धोती खींची गई और उनकी हत्या का प्रयास किया गया। इस मामले मेें मेट्रोपोलिटन कोर्ट ने 39 कार्यकर्ताओं के खिलाफ गैरजमानती वारंट इश्यू कर आगामी 30 जनसरी तक आरोपियों को कोर्ट में उपस्थित करने का आदेश पुलिस को दिया था। इस संदर्भ में वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगड़िया शुक्रवार को कोर्ट में हाजिर हुए।

    कोर्ट परिसर में पुलिस का काफिला तैनात

    प्रवीण तोगड़िया के आने की सूचना मात्र से वीएचपी और बजरंग दल के कार्यकर्ता काफी संख्या में कोर्ट परिसर पहुंचने से वहां पुलिस का काफिला ही तैनात कर दिया गया। भारी उत्तेजना के बीच तोगड़िया के समर्थन में लोग जमा हुए थे। इसके पहले राज्य सरकार ने इस केस को बंद करने की सिफारिश की थी, जिसे कोर्ट ने अस्वीकार कर दिया था।

    क्या है पूरा मामला

    1996 में भाजपा के दो गुटों के बीच सत्ता संघर्ष हुआ। जिसमें कुछ विधायकों का अपहरण कर उन्हें मध्यप्रदेश के खजुराहो ले जाया गया था। जो रह गए थे, उन्हें हजुरिया कहा गया और जो खजुराहो ले जाए गए थे उन्हें खजुरिया कहा गया। इन विधायकों में पहले समाधान हो गया था। परंतु बाद में विवाद फिर बढ़ गया। 20 मई 1996 को सरदार पटेल स्टेडियम में एक आम सभा हुई। इस सभा में शंकर सिंह वाघेला समर्थक के रूप में उपस्थित आत्माराम पटेल पर भाजपा के कई कार्यकर्ताओं ने हमला किया। इस दौरान उनकी धोती खींची गई और उन्हें जान से मारने का प्रयास भी किया गया। इस मामले पर तोगड़िया, बाबू जमना दास, कार्पोरेटर कृष्ण्वदन ब्रह्मभट्ट उर्फ कोको, इलेश पटेल, एडवोकेट मिनेश वाघेला समेत 39 लोगों पर मामला दर्ज किया गया। आत्माराम पटेल, शंकर सिंह वाघेला के साथ खजुराहो गए थे, इससे भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन पर हमला किया था। इस मामले में हत्या का प्रयास समेत कई गंभीर धाराएं लगाई गई थीं।

  • 21 साल पुराने मामले पर तोगड़िया को मिली राहत, गैरजमानती वारंट रद्द
    +3और स्लाइड देखें
    काफी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित।
  • 21 साल पुराने मामले पर तोगड़िया को मिली राहत, गैरजमानती वारंट रद्द
    +3और स्लाइड देखें
    1996 में भाजपा कार्यकर्ताआें ने सरदार पटेल स्टेडियम में हमला किया था।
  • 21 साल पुराने मामले पर तोगड़िया को मिली राहत, गैरजमानती वारंट रद्द
    +3और स्लाइड देखें
    विधायक बाबूभाई पटेल, इलेश पटेल, कार्पोरेअर कृष्णवदन ब्रह्मभट्ट, एडवोकेट मिनेश वाघेला का समावेश। 30 जनवरी तक कोर्ट मे हाजिर होने का था फरमान।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ahmedabad News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Togadia Gets Relief On 21-Year-Old Case
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Ahmedabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×