बेटी के टेनिस कोच से पत्नी को हो गया प्यार, डॉक्टर पति पहुंचा पुलिस की शरण में / बेटी के टेनिस कोच से पत्नी को हो गया प्यार, डॉक्टर पति पहुंचा पुलिस की शरण में

Dainikbhaskar.com

Aug 30, 2018, 12:57 PM IST

पत्नी ने कोच के साथ के आपत्तिजनक फोटो कंप्यूटर में सेव किए थे, पति ने देख लिया, तो फूटा भांडा।

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

अहमदाबाद। शहर के नारणपुरा इलाके में रहने वाली डॉक्टर की पत्नी अपनी बेटी के बेडमिंटन कोच को दिल दे बैठी। इसका पता डॉक्टर पति को तब चला, जब उसने पत्नी के कंप्यूटर में कोच के साथ आपत्तिजनक तस्वीरें देख ली। अब पति पुलिस की शरण में है। पुलिस ने कोच को अरेस्ट कर लिया है। 15 साल पहले हुई थी शादी…

डॉक्टर किरण शाह की शादी 15 साल पहले मीनल से हुई थी। शादी के बाद उनकी दो संतानें हुई। बेटी 12 साल की है और बेटा 6 साल का। 5 साल पहले मीनल ने पति से कहा कि घर पर समय काफी मिलता है, इसलिए वह नौकरी करना चाहती है। पति ने इसकी इजाजत दे दी। तब मीनल ने 3 साल तक नौकरी की। बाद में अपनी मर्जी से नौकरी छोड़ दी। फिर वह घर पर ही रहने लगी।

बेटी को बेडमिंटन का शौक

घर में 12 साल की बेटी को बेडमिंटन का शौक है। उसके उज्जवल भविष्य को लेकर पिता शहर के एक बेडमिंटन क्लब में बेटी की कोचिंग शुरू कर दी। बेटी को क्लब लाने-ले जाने का काम मीनल ही करती। मार्च महीने में मीनल अपनी फ्रेंड से मिलने पूणे गई थी। इस दौरान डॉ. शाह जब कंप्यूटर पर काम कर रहे थे, तभी उन्हें एक अनजानी फाइल दिखाई दी।जब उन्होंने उस फाइल को ओपन किया, तो चौंक गए। उसमें पत्नी और बेडमिंटन कोच जतीन की आपत्तिजनक तस्वीरें थी। जब मीनल पूणे से लौटी, तो उससे इन तस्वीरों के बारे में पूछताछ की गई, तो वह कोई जवाब नहीं दे पाई। तब डॉ. शाह ने जतीन से सम्पर्क किया। इस पर जतीन ने उन्हें अनदेखा कर दिया। इसके बाद भी जतीन ने मीनल से मिलना जारी रखा। डॉक्टर शाह ने उन्हें समझाने की काफी कोशिशें की, पर पानी सिर के ऊपर से जाने लगा, तब डॉक्टर ने पुलिस थाने पहुंचकर मीनल और जतीन के खिलाफ रिपोर्ट लिखाई। इस आधार पर पुलिस ने जतीन को गिरफ्तार कर लिया।

कोच के साथ कभी भी कहीं भी चली जाती थी मीनल

अपनी शिकायत में पति ने कहा है कि पत्नी मीनल कभी भी जतीन के साथ कहीं भी चली जाती थी। कुछ दिनों बाद लौट आती थी। पूछने पर कोई जवाब नहीं देती थी। उसे समझाने की काफी कोशिशें की, पर उसे कोई फर्क नहीं पड़ा। आखिर हारकर वे पुलिस की शरण में पहुंचे हैँ।

(सभी पात्रों के नाम बदले हुए हैँ।)

X
प्रतीकात्मक तस्वीरप्रतीकात्मक तस्वीर
COMMENT