--Advertisement--

भटनागर ने नोटबंदी में करोड़ों की ब्लेक मनी ली थी, जो डूब गई

लोन घोटाला- 19 बैंकों से 2654 करोड़ के लोन घोटालेबाज का अमित का खेल।

Dainik Bhaskar

Apr 09, 2018, 04:53 PM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अमित भटनागर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अमित भटनागर।

अहमदाबाद। वडोदरा के डायमंड पावर इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी द्वारा विभिन्न 19 बैंकों से 2654 करोड़ का लोन घोटाले में कंपनी के चेयरमैन सुरेश भटनागर, एमडी अमित भटनागर एवं सुमित भटनागर द्वारा की गई अग्रिम जमानत अर्जी का फैसला सीबीआई जज एन जी दवे ने मंगलवार तक मुल्तवी रखा है। वहीं दूसरी ओर बिल्डर लॉबी में दो दिनों में तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं। ऐसी भी चर्चा है कि अमित भटनागर ने नोट बंदी के समय कई लोगों से ब्लैक मनी व्हाइट करने के लिए ली थी, जो रुपए कंस्ट्रक्शन बिजनेस के खातिर लिए जाने का माना जा रहा है। अब अमित भटनागर अंडरग्राउंड हो जाने के बाद इन सभी लोगों के रुपए डूब गए हैं। 19 बैंकों को लगाया चूना…

डायमंड पावर इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी के चेयरमैन सुरेश भटनागर, एमडी अमित भटनागर एवं ज्वाइंट एमडी सुमित भटनागर ने बाेगस दस्तावेजों के आधार पर बैंक खाते बताकर 2654 करोड़ की क्रेडिट फैसेलिटी प्राप्त कर तकरीबन 19 जितनी बैंकों को नुकसान पहुंचाया है। इस आरोप के आधार पर सीबीआई ने पिता-पुत्रों के खिलाफ भ्रष्टाचार एवं चीटिंग का मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू की है। सीबीआई गिरफ्तार न करें इसलिए आराेपी पिता-पुत्र ने सीबीआई कोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए अर्जी दाखिल की थी। जिसमें उनकी ओर से सीनियर काउंसिल एस वी राजू ने दलील की थी कि सीबीआई में कंपनी के चेयरमैन, एमडी एवं ज्वाइंट एमडी के खिलाफ किसी ने ठगी सहित अन्य शिकायत नहीं की है। धोखाधड़ी अथवा चीटिंग का कोई मामला नहीं है। जिससे सीबीआई ने किस आधार पर यह मामला दर्ज किया है।

2654 के लोन पर 1400 करोड़ की सम्पत्ति गिरवी

कंपनी द्वारा 2654 करोड़ का लोन लिया गया है जिसके एवज में 1400 करोड़ की संपत्ति बैंक में गिरवी रखी है। तथा 826 करोड़ बैंक में भरे गए हैं। ऐसे में 2654 करोड़ रुपयों के लिए इन्हें डिफॉल्टर कैसे कहा जा सकता है। कंपनी के चेयरमैन, एमडी, ज्वाइंट एमडी किसी बैंक अथवा कोई व्यक्ति ने शिकायत नहीं की है। सीबीआई ने झूठा मामला दर्ज किया है इसलिए अग्रिम जमानत मंजूर की जाए। जमानत अर्जी का विरोध करते हुए सीबीआई की ओर से दलील की गई कि आरोपियों के खिलाफ गंभीर प्रकार का मामला है। सीबीआई जांच चल रही है। जब्त किए गए दस्तावेजों के आधार पर जांच हो रही है। जिससे आरोपियों की अग्रिम जमानत मंजूर नहीं करनी चाहिए। एक ओर कोर्ट ने सीबीआई से यह भी पूछा है कि बगैर जानकारी के एफआईआर कैसे दर्ज की गई है? इसके जवाब में सीबीआई ने कहा कि नियमों के अनुसार जानकारी दिए बगैर एफआईआर कर सकते हैं। दोनों पक्षों की दलीलें पूरी होने के बाद कोर्ट ने इस फैसले को मंगलवार तक मुल्तवी रखा है।

अमित भटनागर के लिए बैंक जिम्मेदार : नितिन पटेल

शहर में सयाजी अस्पताल में उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बताया कि हम सार्वजनिक जिंदगी यापन करते हंै ऐसे में कई संगठनों को समाज कार्यों के लिए बुलाकर हमारे साथ फोटो खिंचवाते हंै। बैंकों को सोचना चाहिए कि लोन किसे दिया जा सकता है एवं रिफंड किस आधार पर हो सकता है। अमित भटनागर मामले में सीबीआई द्वारा एफआईआर दर्ज कराई गई है और इसमें कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

एक्साइज विभाग में अमित भटनागर के लिए दबाव

एक्साइज विभाग के एक उच्च अधिकारी ने बताया कि हम जब 100 करोड़ के टैक्स की कार्रवाई कर रहे थे तब हमारे ऊपर वित्त मंत्रालय से दबाव बनाया जाता था। जिससे हम 40 करोड़ की वसूली भी ठीक तरह से नहीं कर पाते थे। हमने समय-समय पर शोकॉज नोटिस जारी की है। हमारे ध्यान में झूठे बिक्री के सबूत मिले थे। जिससे कार्रवाई की जाती थी। इसके बाद अमित भटनागर ने बोगस स्टॉक क्लियर करने के लिए घाटा दिखा दिया था।

Another bank loan scam
Another bank loan scam
Another bank loan scam
अमित भटनागर पर ईडी का छापा। अमित भटनागर पर ईडी का छापा।
Another bank loan scam
X
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अमित भटनागर।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अमित भटनागर।
Another bank loan scam
Another bank loan scam
Another bank loan scam
अमित भटनागर पर ईडी का छापा।अमित भटनागर पर ईडी का छापा।
Another bank loan scam
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..